मुख्य समाचार:

दो माह में शुरू हो जाएगी WhatsApp पेमेंट सर्विस! डेटा लोकलाइजेशन नियम अनुपालन के करीब

भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (NPCI) के मुख्य कार्यकारी दिलीप अस्बे ने एक साक्षात्कार में यह बात कही.

October 13, 2019 8:20 PM
WhatsApp close to meeting data localisation norms, payments service should be on in two monthsImage: Reuters

इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप वॉट्सऐप (WhatsApp) अगले दो माह में डेटा लोकलाइजेशन नियम का अनुपालन पूरा कर लेगी. इसके बाद वह देश में अपनी बहुप्रतीक्षित पेमेंट सर्विसेज शुरू कर सकती है. भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) के मुख्य कार्यकारी दिलीप अस्बे ने एक साक्षात्कार में यह बात कही.

उल्लेखनीय है कि भारतीय रिजर्व बैंक ने देश में पेमेंट सर्विसेज देने वाली कंपनियों के लिए आंकड़ों को स्थानीय स्तर पर ही रखे जाने यानी डेटा लोकलाइजेशन का नियम बनाया है. गूगल, अमेजन, मास्टर कार्ड, वीजा, पे-पाल समेत अन्य विदेशी भुगतान सेवा कंपनियों को इसका पालन करना है. इन नियमों के आधार पर इन कंपनियों को लेनदेन के आंकड़े देश में ही सुरक्षित करने हैं और ऐसे आंकड़ों को अपने विदेशी सर्वरों से 24 घंटे के भीतर मिटाना है.

अस्बे ने कहा कि वॉट्सऐप पेमेंट सर्विसेज शुरू होने के बाद भी घरेलू अर्थव्यवस्था में नकदी की अधिकता को कम करने में दो वर्ष तक का समय लग सकता है. अर्थव्यवस्था में नकदी वर्चस्व को कम करने के लिए डिजिटल माध्यम से लेनदेन करने वालों की संख्या कम से कम 30 करोड़ होनी चाहिए.

पिछले साल शुरू हुई थी टेस्टिंग

वॉट्सऐप ने पिछले साल देश में अपनी पेमेंट सर्विस का परीक्षण शुरू किया था. अन्य सभी हितधारक इसकी आधिकारिक शुरुआत को लेकर नजर रखे हुए हैं. इसकी वजह वॉट्सऐप के साथ 30 करोड़ से अधिक लोगों का जुड़ा होना है. अधिकतर को लगता है कि वॉट्सऐप देश में चीन की ‘वी-चैट’ जैसी कहानी को दोहरा सकता है, जिसने वहां डिजिटल भुगतान को बढ़ाने में बहुत मदद की है.

अस्बे ने कहा, ‘‘अभी भी कुछ मध्यस्थ कंपनियां हैं, जहां इस दिशा (सूचनाओं के स्थानीयकरण) में काम प्रगति पर है. पहली कंपनी गूगल और दूसरी वॉट्सऐप है. हमारा मानना है कि वॉट्सऐप अगले दो महीनों में खुद को नियमों के अनुरूप तैयार कर लेगी.’ वॉट्सऐप ने अभी पेमेंट सर्विस का उपयोग करने वाले ग्राहकों की सेवा को 10 लाख तक सीमित किया हुआ है क्योंकि रिजर्व बैंक की शर्त के मुताबिक ग्राहकों से संबंधित आंकड़ों के स्थानीयकरण नियम के अनुपालन में अभी उसे और समय लगेगा.

चल रहा है ऑडिट

अस्बे ने कहा कि रिजर्व बैंक की सूची में शामिल कंपनी द्वारा तीसरे पक्ष के तौर पर वॉट्सऐप के अनुपालन कामकाज का ऑडिट किया जा रहा है. ऑडिट कंपनी का काम पूरा होने के बाद हम भी इसकी समीक्षा करेंगे और फिर देखेंगे कि किस प्रकार आगे बढ़ा जा सकता है. अस्बे ने इस अवसर पर यह भी स्पष्ट किया कि वॉट्सऐप लीडरशिप टीम की हाल में शहर की यात्रा के दौरान उनकी कोई मुलाकात नहीं हुई. उन्होंने यह भी कहा कि अन्य आवेदक जैसे कि शाओमी, अमेजन पे और ट्रूकॉलर डेटा लोकलाइजेशन नियम की वजह से अभी तक अपनी भुगतान सेवा शुरू नहीं कर पाए हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. टेक्नोलॉजी
  3. दो माह में शुरू हो जाएगी WhatsApp पेमेंट सर्विस! डेटा लोकलाइजेशन नियम अनुपालन के करीब

Go to Top