मुख्य समाचार:

हर समय कर सकेंगे अपने कार-स्कूटर की निगरानी, ऑटो एक्सपो में ट्रैक एन टेल ने उतारी ट्रैकिंग डिवाइसेस

ये डिवाइस अभी 'इंटेलीप्ले' के ब्रांड नाम के तहत खुदरा बाजार में उपलब्ध हैं.

February 6, 2020 9:24 PM
telematrix solutions provider track n tell introduces its intelliplay devices range in auto expo 2020ये डिवाइस अभी ‘इंटेलीप्ले’ के ब्रांड नाम के तहत खुदरा बाजार में उपलब्ध हैं. (Representational Image)

ऑटो एक्सपो 2020 में ऑटोमोबाइल कंपनियों के अलावा कई टेलीमैटिक्स सॉल्यूशन प्रोवाइडर कंपनियां भी अपने प्रोडक्ट शोकेस कर रही हैं. इनमें से एक कंपनी है ट्रैक एन टेल. कंपनी ने ऑटो एक्सपो में इलेक्ट्रिक वाहनों (EVs) के लिए टेलीमैटिक्स सॉल्यूशंस की अपनी पूरी रेंज ​शोकेस की है. इन 4G इनेबल इंफोटेनमेंट-कम-ट्रैकिंग डिवाइस की मदद से कार, स्कूटर, फ्लीट वाहन की निगरानी आसानी से की जा सकती है. इसके अलावा, यह डिवाइस ओवर-स्पीडिंग का अलर्ट देने के अलावा ड्राइव के दौरान एंटरटेनमेंट की भी सुविधा देती है. ये डिवाइस अभी ‘इंटेलीप्ले’ के ब्रांड नाम के तहत खुदरा बाजार में उपलब्ध हैं.

ट्रैक एन टेल के फाउंडर एवं सीईओ प्रांशु गुप्ता ने बताया कि ऑटो एक्सपो का फोकस इलेक्ट्रिक मोबिलिटी पर है. इसे देखते हुए हम आईओटी डिवाइस की अपनी रेंज शोकेस कर रहे हैं. जो खासकर ईवी फ्लीट ऑपरेटरों और ओईएम सॉल्यूशन के तौर पर ईवी मैन्युफैक्चरर को ध्यान में रखकर डेवलप किया गया है. गुप्ता का कहना है कि ये एक ट्रैकिंग प्रोडक्ट हैं. सिक्युरिटी के मकसद से यह कार, स्कूटर के अलावा फ्लीट खासकर पिज्जा या फूड डिलिवरी वाली गाड़ियों की ट्रैकिंग के लिए किया जा सकता है.

गुप्ता का कहना है कि अभी इन डिवाइस की डिमांड बढ़ रही है. अभी फ्लीट में ज्यादा बिक्री हो रही है. पिज्जा वाली कंपनियां अपने डिलिवरी ई-स्कूटर की ट्रैकिंग के लिए कर रही हैं. इसके जरिए वह ये आसानी से ट्रैक करती हैं कि स्कूटर कितना चार्ज है, किस रूट से जा रहा है, डिलिवरी बॉय किधर से जा रहा है. इसके अलावा नॉन कॉमर्शियल यानी इंडिविजुअल कार/स्कूटर में भी इस डिवाइस का इस्तेमाल हो रहा है.

अगले साल तक 10-15 करोड़ टर्नओवर का लक्ष्य

कंपनी की विस्तार योजना के बारे में प्रांशु गुप्ता का कहना है कि अभी देशभर में 600 दुकानें हमारे प्रोडक्ट की बिक्री कर रही हैं. अगले दो साल में हम बाजार में और विस्तार करेंगे. अभी हमारी सालाना बिक्री 15 हजार है. अगले साल हमारा लक्ष्य 25-30 हजार यूनिट का सालाना बिक्री का है. उन्होंने बताया कि इन डिवाइसेस की मैन्युफैक्चरिंग हरियाणा के मनेसर में होती है. यह पूरी तरह ‘मेक इन इंडिया’ के तहत है. गुप्ता ने बताया कि ट्रैक एंड टेल का सालाना टर्नओवर अभी 7 से 10 करोड़ है. अगले साल तक यह 10-15 करोड़ तक जाने का है.

प्रोडक्ट की क्या है USP?

यह डिवाइस मनोरंजन, ट्रैकिंग और सुरक्षा तकनीक का एक अनूठा संयोजन है, जिसे कारों में पुराने डिवाइस की जगह बड़ी आसानी से लगाया जा सकता है. यह सामान्य 2-डीआईएन सेटअप में बिना कोई जोड़ लगाए फिट हो जाता है. इसमें बिल्ट-इन 4जी एलटीई कनेक्टिविटी वाली एक टच स्क्रीन, रिमोट इंजन इमोबिलाइजेशन (चोरी के मामले में), टू-वे वॉयस कॉलिंग, वायरलेस ऑडियो और वीडियो प्लेबैक, गूगल मैप्स-आधारित नेविगेशन, रिवर्स कैमरा और डैश-कैमरा शामिल है, जिसके जरिए वाहन मालिकों अपने वाहन की 360 डिग्री ट्रैकिंग कर सकता है. ये डिवाइस अभी इंटेलीप्ले के ब्रांड नाम के तहत खुदरा बाजार में उपलब्ध हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. टेक्नोलॉजी
  3. हर समय कर सकेंगे अपने कार-स्कूटर की निगरानी, ऑटो एक्सपो में ट्रैक एन टेल ने उतारी ट्रैकिंग डिवाइसेस

Go to Top