सर्वाधिक पढ़ी गईं

New IT Rules: OTT के नए नियमों का कंज्यूमर्स पर क्या होगा असर, 5 प्वॉइंट में समझें डिटेल

नास्कॉम का मानना है कि नए नियमों को उचित तरीके से लागू करने की जरूरत होगी ताकि यह सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के लिए नुकसानदायक न बन सके.

Updated: Feb 26, 2021 4:22 PM
New rules for social media OTT require right implementation says Nasscom check here new rules effect on usersकेंद्र सरकार ने एक दिन पहले 25 फरवरी को डिजिटल प्लेटफॉर्म और सोशल मीडिया को लेकर नए नियम जारी किए हैं.

केंद्र सरकार ने एक दिन पहले 25 फरवरी को डिजिटल प्लेटफॉर्म और सोशल मीडिया को लेकर नए नियम जारी किए हैं. इसका Netflix, Hotstar और Amazon Prime जैसे OTT प्लेटफॉर्म पर सीधा असर पड़ेगा. शुक्रवार 26 फरवरी को आईटी इंडस्ट्री बॉडी Nasscom ने कहा कि सोशल मीडिया, OTT और डिजिटल मीडिया प्लेयर्स को लेकर जो नियम तैयार किए हैं, उनका मुख्य लक्ष्य किसी भी प्रकार के शिकायतों के निपटारे, फर्जी खबरों की रोकथाम और ऑनलाइन सुरक्षा सुनिश्चित करना है. हालांकि, नास्कॉम का कहना है कि इन्हें उचित तरीके से लागू करने की जरूरत पड़ेगी ताकि वह ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के ग्रोथ के लिए नुकसानदायक न हो जाए.

इंडस्ट्री एसोसिएशन ने कहा कि तकनीक का दायरा तेजी से बढ़ रहा है और ऐसे में सरकार, इंडस्ट्री, स्टार्टअप्स और सिटीजन्स, सभी स्टेकहोल्डर्स के लिए तकनीक के निर्माण और उसके जिम्मेदारी से प्रयोग की जरूरत बढ़ गई है. नास्कॉम का कहना है कि रेगुलेशन और इनोवेशन के बीच संतुलन होने जरूरी है क्योंकि दुनिया में तेजी से नई तकनीकी का विकास हो रहा है. नॉस्कॉम का कहना है कि नए नियमों से अभिव्यक्ति का स्वतंत्रता सुनिश्चित होनी चाहिए.

नए नियम यूजर्स के लिए उपयोगी

आईटी बॉडी का कहना है कि केंद्र सरकार द्वारा लाए गए नए नियमों को यूजर्स के दृष्टिकोण से देखें तो यूजर अकाउंट्स के वाल्यूंटरी सेल्फ वेरिफिकेशन का विकल्प, रिमूवल या एक्सेस न होने की स्थिति में वजह जानने का अधिकार और इंटरमीडियरीज की किसी भी कार्रवाई के विरुद्ध समाधान खोजने का अधिकार, यूजर्स के लिए उपयोगी हो सकते हैं. इन नियमों को शिकायतों के समाधान, फर्जी खबरों की रोकथाम और ऑनलाइन सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए लाया गया है. हालांकि नास्कॉम का मानना है कि इन्हें उचित तरीके से लागू करने की जरूरत होगी ताकि यह सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के लिए नुकसानदायक न बन सके.

बॉन्ड यील्ड, GDP से एयर स्ट्राइक तक; इन 5 वजहों से स्टॉक मार्केट में आई 2021 की बड़ी गिरावट

OTT के नए नियमों का कंज्यूमर्स पर प्रभाव

YouTube, Netflix, Hotstar और Amazon prime जैसे OTT प्लेटफॉर्म को अब अपने प्लेटफॉर्म पर मौजूद सभी कंटेंट को खुद से क्लासीफिकेशन करना होगा. कंटेट किस उम्र वर्ग के दर्शकों के लिए बेहतर है, इसे लेकर अलग-अलग श्रेणी बनानी होगी. केंद्र सरकार के फैसले के मुताबिक कंटेंट को पांच श्रेणियों में रखा जाएगा.

  • बच्चों के लिए और सभी उम्र वर्ग के लोगों के देखने योग्य कंटेट को “U” श्रेणी में रखा जाएगा.
  • 7 वर्ष की उम्र से अधिक की उम्र के लोगों के देखने योग्य और 7 वर्ष से कम उम्र के बच्चे को पैरेंटल गाइडेंस में देखे जाने वाले कंटेंट को “U/A 7+” रेटिंग के तहत अलग श्रेणी में रखा जाएगा.
  • 13 वर्ष से अधिक की उम्र के लोगों और 13 वर्ष से कम उम्र के लोगों को पैरेंटल गाइडेंस में देखे जाने वाले कंटेट को “U/A 13+” रेटिंग के तहत अलग श्रेणी में रखा जाएगा.,
  • 16 वर्ष से अधिक की उम्र के लोगों और 16 वर्ष से कम उम्र के लोगों को पैरेंटल गाइडेंस में देखे जाने वाले कंटेट को “U/A 16+” रेटिंग के तहत अलग श्रेणी में रखा जाएगा.,जो कंटेट सिर्फ एडल्ट्स के लिए हो, उसे “A” रेटिंग के तहत वर्गीकृत किया जाएगा.
  • (U/A 13+ या उससे ऊपर के श्रेणी के लिए ओटीटी प्लेटफॉर्म पर पैरेंटल लॉक्स का फीचर देना होगा और A श्रेणी के कंटेंट के लिए उम्र को वेरिफाई करने को बेहतर मैकेनिज्म तैयार करना होगा.)

(इनपुट- एजेंसी)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. टेक्नोलॉजी
  3. New IT Rules: OTT के नए नियमों का कंज्यूमर्स पर क्या होगा असर, 5 प्वॉइंट में समझें डिटेल

Go to Top