मुख्य समाचार:
  1. फेक WhatsApp न्यूज का लगाना है पता, ये है प्रोसेस

फेक WhatsApp न्यूज का लगाना है पता, ये है प्रोसेस

इसके माध्यम से लोग उन्हें मिलने वाली जानकारी की प्रमाणिकता जांच सकते हैं.

April 3, 2019 3:47 PM
WhatsApp launches ‘tipline’ to tackle fake news in india ahead of electionsइस सर्विस को भारत के एक मीडिया कौशल स्टार्टअप ‘प्रोटो’ ने पेश किया है. (Reuters)

देश में आम चुनावों से पहले फर्जी खबरों से निपटने के लिए WhatsApp ने मंगलवार को ‘चेकपॉइंट टिपलाइन’ पेश की. इसके माध्यम से लोग उन्हें मिलने वाली जानकारी की प्रमाणिकता जांच सकते हैं.

WhatsApp की ओनर फेसबुक ने एक बयान में कहा कि इस सर्विस को भारत के एक मीडिया कौशल स्टार्टअप ‘प्रोटो’ ने पेश किया है. यह टिपलाइन गलत जानकारियों एवं अफवाहों का डाटा बेस तैयार करने में मदद करेगी. इससे चुनाव के दौरान ‘चेकपॉइंट’ के लिए इन जानकारियों का अध्ययन किया जा सकेगा. चेकपॉइंट एक रिसर्च प्रोजेक्ट के तौर पर चालू की गई है, जिसमें WhatsApp की ओर से तकनीकी सहयोग दिया जा रहा है.

कैसे करेगी काम

कंपनी ने कहा कि देश में लोग उन्हें मिलने वाली गलत जानकारियों या अफवाहों को WhatsApp के +91-9643-000-888 नंबर पर चेकपॉइंट टिपलाइन को भेज सकते हैं. एक बार जब कोई यूजर टिपलाइन को यह सूचना भेज देगा, तब प्रोटो अपने प्रमाणन केंद्र पर जानकारी के सही या गलत होने की पुष्टि कर यूजर को सूचित कर देगा. इस पुष्टि से यूजर को पता चल जाएगा कि उसे मिला संदेश सही, गलत, भ्रामक या विवादित में से क्या है.

कितना सक्षम है प्रोटो का प्रमाणन केन्द्र

प्रोटो का प्रमाणन केंद्र तस्वीर, वीडियो और लिखित संदेश की पुष्टि करने में सक्षम है. यह अंग्रेजी के साथ हिंदी, तेलुगू, बांग्ला और मलयालम भाषा के संदेशों की पुष्टि कर सकता है.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop