मुख्य समाचार:
  1. Facebook क्रिप्टोकरेंसी लॉन्च करने की तैयारी में, Whatsapp के जरिए होगा ट्रांजेक्शन

Facebook क्रिप्टोकरेंसी लॉन्च करने की तैयारी में, Whatsapp के जरिए होगा ट्रांजेक्शन

Facebook ने साल 2014 में मेसेंजर ऐप के संचालन के लिए Paypal के पूर्व प्रेजिडेंट डेविड मार्कस को हायर किया था और इसके बाद से ही इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं कि फेसबुक फाइनेंसियल सर्विसेस में आएगी.

December 22, 2018 12:48 PM
Facebook, Facebook news, Facebook cryptocurrency, facebook digital currency, tech news in hindi, business news in hindiFacebook ने साल 2014 में मेसेंजर ऐप के संचालन के लिए Paypal के पूर्व प्रेजिडेंट डेविड मार्कस को हायर किया था और इसके बाद से ही इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं कि फेसबुक फाइनेंसियल सर्विसेस में आएगी. (Illustration: rohnit phore)

दिग्गज सोशल नेटवर्किंग कंपनी फेसबुक अब क्रिप्टोकरेंसी बनाने पर काम कर रहा है. ब्लूमबर्ग के एक रिपोर्ट मुताबिक फेसबुक भारतीय रेमिटेंस बाजार (पैसे भेजने के बाजार) में जगह बनाने के लिए क्रिप्टोकरेंसी बना रहा है.

फेसबुक ऐसा स्टेबलकॉइन बना रही है जो डिजिटल करेंसी की तरह काम करेगी और यह अस्थिरता को कम से कम करेगी. रिपोर्ट के मुताबिक Facebook अभी कॉइन जारी करने से बहुत दूर है, क्योंकि यह अभी भी स्ट्रेटजी पर काम कर रहा है, जिसमें कस्टडी एसेट्स या रेगुलर करेंसी के लिए योजना शामिल है, जो स्थिर करेंसी के वैल्यू की रक्षा कर सके.

Facebook ने साल 2014 में मेसेंजर ऐप के संचालन के लिए Paypal के पूर्व प्रेजिडेंट डेविड मार्कस को हायर किया था और इसके बाद से ही इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं कि फेसबुक फाइनेंसियल सर्विसेस में आएगी.

मई में मार्कस को ब्लॉकचेन इनिशिएटिव्स का प्रमुख बनया गया, जिसके बारे में सार्वजनिक रूप से बहुत चर्चा नहीं की गई. लिंक्डइन पर एम्प्लॉई टाइटल्स के अनुसार, फेसबुक के ब्लॉकचेन विभाग में करीब 40 लोग शामिल हैं.

Facebook के प्रवक्ता ने एक बयान में कहा, “कई अन्य कंपनियों की तरह, फेसबुक भी ब्लॉकचेन टेक्नॉलजी की ताकत का इस्तेमाल करने का तलाश रहा है. छोटी सी नई टीम कई अलग-अलग संभावनाओं की तलाश में है. अभी हमारे पास साझा करने के लिए और कुछ भी नहीं है.”

आपको बता दें कि कंपनी का इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप WhatsApp भारत में बहुत लोकप्रिय है और इसके 20 करोड़ से अधिक यूजर हैं. वर्ल्ड बैंक के मुताबिक भारतीय लोगों ने दुनियाभर से अपने देश भारत में साल 2017 में 69 अरब डॉलर भेजे हैं. आसान भाषा में इसका मतलब यह है कि रेमिटेंस के क्षेत्र में भी दुनियाभर में भारत का दबदबा है.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop