सर्वाधिक पढ़ी गईं

Credit Card vs UPI vs Mobile Banking app: कांटैक्टलेस पेमेंट्स के लिए इन तीनों में कौन है बेहतर, यहां जानिए पूरी डिटेल्स

Credit Card vs UPI vs Mobile Banking app: यूजर्स के सामने तीनों विकल्पों में सबसे बेहतर चुनने में उलझन होती है.

Updated: Dec 12, 2020 2:34 PM
Credit Card vs UPI vs Mobile Banking app Which is better for contactless payment know hereयूपीआई पर बेनेफिशियरी जोड़ने की जरूरत नहीं होती.

Credit Card vs UPI vs Mobile Banking app: केंद्रीय बैंक रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) द्वारा इस साल ‘टैप एंड गो’ फीचर के तहत 5 हजार रुपये तक के भुगतान की मंजूरी दिए जाने के बाद से कांटैक्टलेस पेमेंट तेजी से बढ़ने की उम्मीद है. इसे क्रेडिट कार्ड, यूपीआई और मोबाइल बैंकिंग ऐप्स के जरिए किया जा सकता है. ऐसे में यूजर्स के सामने सबसे बड़ी समस्या यह आ रही है कि इन तीनों विकल्पों में उसके लिए बेहतर कौन-सा है. एक्सपर्ट्स का मानना है कि हर विकल्प के अपने फायदे और नुकसान हैं. हालांकि इन तीनों में यूपीआई को शॉपिंग को सबसे बेहतर कहा जा सकता है.

यह भी पढ़ें- अगले साल सिर्फ एक छुट्टी लेकर छह दिन कर सकते हैं आराम, देखिए हॉलिडेज की पूरी लिस्ट

क्रेडिट कार्ड पेमेंट थकाऊ काम

लायरा नेटवर्क इंडिया के सीईओ और डायरेक्टर राजेश देसाई के मुताबिक यूपीआई या मोबाइल वालेट्स (बैंकिंग ऐप्स) की तुलना में क्रेडिट कार्ड के जरिए पेमेंट करना बहुत थकाऊ काम है. काउंटर पर कार्ड स्वाइप करना या ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के समय कार्ड डिटेल्स भरने में बहुत समय खर्च होता है.
मोबाइल ऐप्स के जरिए पेमेंट तेज और सुरक्षित है. कारोबारियों के लिए मोबाइल ऐप्स के जरिए पेमेंट्स लेना सस्ता पड़ता है क्योंकि प्वाइंट ऑफ सेल (पीओएस) का खर्च बच जाता है. हाालंकि इसके बावजूद इंटरऑपरेबिलिटी की कमी इसका सबसे बड़ा डिसएडवांटेज है.

यूपीआई पर बेनेफिशियरी जोड़ने की जरूरत नहीं

इन दोनों विकल्पों की तुलना में यूपीआई पेमेंट्स आसान, तेज और सुरक्षित है. इसके जरिए एक बैंक खाते से दूसरे बैंक खाते में पैसे ट्रांसफर करना आसान होता है. कई ऐप्स इंस्टाल करने की बजाय यूपीआई कई बैंक खातों को एक प्लेटफॉर्म पर लाता है. यूपीआई से भुगतान करने के लिए बेनेफिशियरी जोड़ने की भी जरूरत नहीं पड़ती. क्रेडिट कार्ड से पेमेंट करने पर ट्रांजैक्शन चार्ज लगता है लेकिन यूपीाई पेमेंट्स पर ऐसा कोई शुल्क नहीं लगता है.

देश में क्रेडिट कार्ड से अधिक डेबिट कार्ड

PayNearby के फाउंडर, एमडी और सीईओ आनंद कुमार बजाज का मानना है कि सभी कांटैक्टलेस पेमेंट ऑप्शंस के अपने-अपने फायदे हैं. इस समय देश में करीब 6 करोड़ क्रेडिट कार्ड हैं जबकि 86 करोड़ डेबिट कार्ड हैं. यूपीआई डेबिट कार्ड के आधार पर सेवाएं उपलब्ध कराता है. यूपीआई व्यक्ति से व्यक्ति के अलावा व्यक्ति से कारोबारी को भुगतान के लिए आसान माध्यम है. मोबाइल बैंकिंग ऐप किसी खास बैंक का ऐप होता है जिस पर उन्हें बिना बैंक ब्रांच जाए या एटीएम गए हुए कई बेनेफिट्स मिलते हैं.
अधिकतर बैंकों ने अपने मोबाइल बैंकिंग ऐप पर यूपीआई के साथ-साथ भारत क्यू आर कोड के जरिए भुगतान की सुविधा दी है. गूगल पे, अमेजन पे फोनपे, पेटीएम और वाट्सऐप पे ने अपने मोबाइल ऐप्स पर यूपीआई की सुविधा दी है जिसके कारण माइक्रोपेमेंट्स को बूस्ट मिला है. क्रेडिट कार्ड अभी तक फिजिकल कार्ड के रूप में थे लेकिन अब टोकनाइजेशन की सुविधा से यह एनएफसी मोबाइल पर भी उपलब्ध हो गए हैं और भारत क्यूआर कोड पर उपलब्ध हो रहा है.
(ऑर्टिकल- राजीव कुमार)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. टेक्नोलॉजी
  3. Credit Card vs UPI vs Mobile Banking app: कांटैक्टलेस पेमेंट्स के लिए इन तीनों में कौन है बेहतर, यहां जानिए पूरी डिटेल्स

Go to Top