मुख्य समाचार:

कल से Jio फोन पर उपलब्ध होगी आरोग्य सेतु की सर्विस, फीचर फोन व लैंडलाइन से ऐसे ले सकते हैं फायदा

यह जानकारी सरकार के टेक्नोलॉजी व डाटा मैनेजमेंट को देखने वाले Empowered Group 9 के चेयरमैन अजय साहनी ने प्रेस कांफ्रेंस में दी.

May 11, 2020 7:08 PM
Aarogya Setu service will be available on Jio feature smartphones from 12th may 2020सरकार आरोग्य सेतु IVRS (इंस्टैंट वॉइस रिस्पॉन्स सिस्टम) प्लेटफॉर्म को लॉन्च कर चुकी है.

सरकार आरोग्य सेतु IVRS (इंस्टैंट वॉइस रिस्पॉन्स सिस्टम) प्लेटफॉर्म को लॉन्च कर चुकी है. इसकी मदद से सभी फीचर फोन्स और लैंडलाइन्स पर भी आरोग्य सेतु की सर्विस उपलब्ध होगी. अब 12 मई से यह सर्विस जियो फीचर स्मार्टफोन्स पर भी शुरू हो जाएगी. यह जानकारी सरकार के टेक्नोलॉजी व डाटा मैनेजमेंट को देखने वाले Empowered Group 9 के चेयरमैन अजय साहनी ने प्रेस कांफ्रेंस में दी. आरोग्य सेतु IVRS की मदद से फीचर फोन्स व लैंडलाइन पर यूजर अपना हेल्थ स्टेटस मुफ्त में जांच सकते हैं.

कैसे काम करता है आरोग्य सेतु IVRS

Empowered Group 9 के चेयरमैन ने बताया कि इसके लिए यूजर को 1921 पर मिस्ड कॉल देनी होगी. बदले में उन्हें रिटर्न कॉल आएगी, जिस पर उनसे वही सवाल किए जाएंगे जो आरोग्य सेतु ऐप पर रजिस्ट्रेशन के दौरान आते हैं. यूजर द्वारा मिली जानकारी के आधार पर उसे रियल टाइम बेसिस पर एसएमएस से उसके स्वास्थ्य की स्थिति के बारे में जवाब दिए जाएंगे.

यूजर को सुरक्षा को लेकर क्या कदम उठाए जाएं, इसके लिए अलर्ट मिलेंगे. आरोग्य सेतु आईवीआरएस प्लेटफॉर्म 11 क्षेत्रीय भाषाओं में उपलब्ध है और यूजर को एसएमएस भी उसी भाषा में मिलेगा, जिसमें उसने जानकारी दी है.

ऐप पर केवल 30 दिन के लिए स्टोर होता है डेटा

साहनी ने प्रेस कांफ्रेंस में आरोग्य सेतु ऐप में प्राइवेसी से जुड़ी चिंताओं को भी क्लियर किया. उन्होंने कहा कि ऐप यूजर के लोकेशन डेटा का इस्तेमाल कंटेनमेंट एक्शन लेने और बाकी लोगों को संक्रमण से बचाने के लिए करता है. डेटा ऐप पर केवल 30 दिन के लिए स्टोर होता है. पॉजिटिव निकले मरीजों का भी डेटा उनके ठीक होने के 60 दिन के बाद सर्वर से डिलीट हो जाता है.

आगे कहा कि आरोग्य सेतु ऐप यूजर्स की व्यक्तिगत पहचान का खुलासा ​किसी पर भी नहीं किया जाता. यह केवल यूजर व अन्य लोगों को कोविड19 से बचाने के लिए इस्तेमाल होती है. सरकार ऐप यूजर्स की जानकारी केवल स्वास्थ्य संबंधी सहायता के लिए करती है, न​ कि किसी अन्य मकसद के लिए.

पॉजिटिव होने पर ही सर्वर पर जाता है डेटा

Empowered Group 9 के चेयरमैन ने ने बताया कि जब आरोग्य सेतु ऐप के दो यूजर संपर्क में आते हैं तो इसकी सूचना दूसरे व्यक्ति की डिवाइस में एनक्रिप्टेड फॉर्म में स्टोर हो जाती है. यह सर्वर पर तभी स्टोर होती है, जब उनमें से एक अगर कोविड19 पॉजिटिव हो. प्राइवेसी के बारे में आगे बताया कि आरोग्य सेतु में नए यूजर की डिवाइस के लिए एक रैंडम आईडी जनरेट होती है. ऐप यही आईडी इस्तेमाल करता है, न कि यूजर का नाम.

1.4 लाख यूजर्स को भेजा गया अलर्ट

लगभग 1.4 लाख आरोग्य सेतु ऐप यूजर्स को संक्रमित व्यक्तियों के निकट आने पर ब्लूटूथ कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग के जरिए संक्रमण के संभावित जोखिम को लेकर अलर्ट किया गया. जब हमें ब्लूटूथ कान्टैक्ट्स और सेल्फ असेसमेंट डेटा मिलता है तो हम यूजर को कॉल करते हैं, उनकी स्थिति का पता लगाते हैं और जरूरतमंद मरीजों के बारे में स्वास्थ्य व जिला प्रशासन को निर्देश देते हैं.

चेयरमैन ने आगे कहा कि हम कोविड19 पॉजिटिव मरीजों के मूवमेंट की हिस्ट्री को अन्य लोगों द्वारा सबमिट किए गए सेल्फ असेसमेंट डेटा से इकट्ठा करते हैं. इससे हमें संभावित हॉट स्पॉट्स का पता लगाने और एहतियाती कदम उठाने में मदद मिलती है. ऐसे 697 स्पॉट्स की सूचना ​राज्यों/जिलों को भेजी जा चुकी है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. टेक्नोलॉजी
  3. कल से Jio फोन पर उपलब्ध होगी आरोग्य सेतु की सर्विस, फीचर फोन व लैंडलाइन से ऐसे ले सकते हैं फायदा

Go to Top