सर्वाधिक पढ़ी गईं

हितों का टकराव! BCCI ने Kohli की कंपनी को बनाया किट स्पांसर, MPL की पैरेंट कंपनी में कोहली का निवेश

विराट कोहली ने जिस कंपनी में फरवरी 2019 में निवेश किया था, वही कंपनी एमपीएल स्पोर्ट्स बीसीसीआई की ऑफिसियल किट स्पांसर और मर्चेंडाइज पार्टनर है.

January 6, 2021 5:16 PM
virat Kohli invested in gaming platform mpl mobile premier league firm which is Team India kit sponsorविराट कोहली को गैलेक्टस फनवेयर टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड के 33.32 लाख रुपये कंपल्सरी कंवर्टिबल डिबेंचर्स (CCD) एलॉट किए गए थे. (File Photo- Reuters)

भारतीय क्रिकेट कप्तान Virat Kohli ने जिस कंपनी में फरवरी 2019 में निवेश किया था, वही कंपनी एमपीएल स्पोर्ट्स बोर्ड ऑफ कंट्रोल फॉर इंडिया इन इंडिया (BCCI) की ऑफिसियल किट स्पांसर और मर्चेंडाइज पार्टनर है. यहां हितों के टकराव का सवाल उठ सकता है. विराट कोहली को गैलेक्टस फनवेयर टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड के 33.32 लाख रुपये कंपल्सरी कंवर्टिबल डिबेंचर्स (CCD) एलॉट किए गए थे. बंगलूरु स्थित गैलेक्टस के पास मोबाइल प्रीमियर लीग (MPL) का मालिकाना हक है और एमपीएल के ब्रांड एंबेसडर विराट कोहली हैं. गैलेक्टर सिंगापुर में अप्रैल 2018 में रजिस्टर्ड एक कंपनी एम-लीग पीटीई लिमिटेड की सब्सिडियरी है.

17 नवंबर 2020 को BCCI ने एमपीएल स्पोर्ट्स को भारतीय क्रिकेट टीम के नए किट स्पांसर और ऑफिसियल मर्चेंडाइज पार्टनर के रूप में घोषणा की. यह एग्रीमेंट तीन साल का है. इस एग्रीमेंट के तहत भारतीय पुरुष और महिला क्रिकेट टीम के अलावा अंडर-19 टीम एमपीएल की जर्सी पहनेंगे. इस समय ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर गई भारतीय क्रिकेट टीम MPL की एक सहयोगी एमपीएल स्पोर्ट्स का लोगो पहनकर क्रिकेट खेल रही है. एमपीएल स्पोर्ट्स के पास लाइसेंस वाली जर्सी के अलावा टीम इंडिया के अन्य मर्चेंडाइज की भी बिक्री का अधिकार होगा. कोहली को जनवरी 2020 में एमपीएल का ब्रांड एंबेसडर बनाया गया था. उससे पहले भी उन्होंने गेमिंग प्लेटफॉर्म का विज्ञापन किया था.

10 साल बाद कोहली को मिलेंगे कंपनी के इक्विटी शेयर

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, विराट कोहली को 10 रुपये के फेस वैल्यू वाले 68 सीसीडी को 48,990 रुपये के प्रीमियम भाव पर इशू किए गए हैं जिनका कुल मूल्य करीब 33.32 लाख रुपये है. ये सीसीडी 10 साल समाप्त होने पर इक्विटी शेयर में रूपांतरित हो जाएंगे और यह कंवर्जन रेशियो 1:1 होगा यानी एक डिबेंचर के बदले कोहली को 1 इक्विटी शेयर मिलेंगे. इस प्रकार कोहली के पास दस साल बाद कंपनी में 0.051 फीसदी हिस्सेदारी हो जाएगी.

यह भी पढ़ें- स्पाइसजेट की शुरू हो रही हैं 21 उड़ानें, चेक कर लें घरेलू व अंतरराष्ट्रीय रूट्स

यह है पूरा मामला

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक 5 फरवरी 2019 को जब कोहली को सीसीडी इशू किए थे तो गैलेक्टस ने 16.66 लाख रुपये के 34 सीसीडी कॉर्नरस्टोन स्पोर्ट एलएलपी को भी इशू किए थे. कॉर्नरस्टोन के सीईओ अमित अरुण साजदेह दो लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनरशिप फर्म्स- मैग्पी वेंचर पार्टनर्स एलएलपी और विराट कोहली स्पोर्ट्स एलएलपी, में कोहली के सहयोगी हैं. इसके अलावा साजदेह और कोहली में एक और लिंक हैं.

साजदेह कॉर्नरस्टोन स्पोर्ट एंड एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टर हैं और यह कोहली के कॉमर्शियल राइट्स को मैनेज करती है. इसके अलावा यह केएल राहुल, ऋषभ कांत, उमेश यादव, रविंद्र जडेजा, कुलदीप यादव और शुभम गिल के भी कॉमर्शियल राइट्स को प्रबंधित करती है. इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में साजदेह ने कहा कि विराट कोहली और कॉर्नरस्टोन किसी भी कारोबार में निवेश के लिए स्वतंत्र हैं और जब तक कोहली कॉर्नरस्टोन में निवेश नहीं करते हैं, हितों के टकराव का कोई मामला नहीं बनता है.

BCCI को नहीं थी जानकारी

बीसीसीआई के एक शीर्ष अधिकारी के मुताबिक भारतीय बोर्ड को कोहली और कॉर्नरस्टोन के एमपीएल में हिस्सेदारी की जानकारी नहीं थी और बोर्ड से यह उम्मीद नहीं की जानी चाहिए कि वह अपने खिलाड़ियों के निवेश को ट्रैक करेगी. एक और बीसीसीआई सदस्य ने कहा कि कोहली भारतीय क्रिकेट में प्रभावशाली शख्सियत हैं और इस प्रकार के इंटर कनेक्शन गुड गवर्नेंस के लिए बेहतर नहीं कहे जा सकते हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. खेल
  3. हितों का टकराव! BCCI ने Kohli की कंपनी को बनाया किट स्पांसर, MPL की पैरेंट कंपनी में कोहली का निवेश

Go to Top