मुख्य समाचार:

पीवी सिंधू ने रचा इतिहास, बैटमिंटन विश्व चैम्पियनशिप में गोल्ड जीतने वाली पहली भारतीय बनीं

सिंधू ने रविवार को बासेल में हो रहे बैडमिंटन विश्व चैंपियनशिप के फाइनल में जापान की प्रतिद्वंद्वी नोजोमी ओकुहारा को हरा दिया.

August 26, 2019 1:53 AM
PV Sindhu becomes first Indian shuttler to win World C'ships gold, bear Okuhara in finalImage: Reuters

बैटमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधू (PV Sindhu) ने रविवार को बासेल में हो रहे बैडमिंटन विश्व चैंपियनशिप के फाइनल में जापान की प्रतिद्वंद्वी नोजोमी ओकुहारा को हरा दिया. ऐसा कर सिंधू इस विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय बन गईं. फाइनल मुकाबले में सिंधू ने 38 मिनट में 21-7 21-7 से आसान जीत दर्ज की.

सिंधू ने इसके साथ ही दो साल पहले इस टूर्नामेंट के फाइनल में ओकुहारा से मिली हार का बदला भी ले लिया. विश्व चैम्पियनशिप में सिंधू का यह पांचवां पदक है. पदकों की संख्या के मामले में सिंधू ने चीन की पूर्व ओलंपिक चैम्पियन झांग निंग के रिकॉर्ड की बराबरी की. सिंधू ने दो कांस्य पदक के साथ टूर्नामेंट के पिछले दो सत्र में दो रजत पदक भी हासिल किए हैं.

रियो ओलंपिक्स में जीता था सिल्वर

सिंधू 2016 में रियो ओलंपिक्स में सिल्वर पदक विजेता रही थीं. इसके अलावा उन्होंने गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स में, जकार्ता में हुए एशियन गेम्स और पिछले साल BWF वर्ल्ड टूर फाइनल्स में भी सिल्वर पदक हासिल किया है.

मां को किया डेडिकेट

सिंधू ने मैच के बाद कहा, ‘‘ पिछली बार मैं फाइनल में हार गई थी, उससे पहले वाले फाइनल में भी हार गई थी. ऐसे में इस बार जीत दर्ज करना मेरे लिए काफी जरूरी था. मैं हौसलाफजाई के लिए यहां के दर्शकों का शुक्रिया अदा करना चाहूंगी. मैंने अपने देश के लिए खिताब जीता है और मुझे भारतीय होने पर गर्व है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मेरे कोच गोपी सर और किम के साथ सहयोगी सदस्यों का आभार. मैं इस जीत को अपनी मां के नाम करूंगी, आज उनका जन्मदिन है.’’

सिंधू इससे पहले 2017 और 2018 के फाइनल में क्रमश: ओकुहारा और स्पेन की कैरोलीन मारीन से हार गई थीं, जिससे उन्हें रजत पदक से संतोष करना पड़ा था. उन्होंने इससे पहले 2013 और 2014 में कांस्य पदक जीता था.

प्रकाश पादुकोण थे इस चैंपियनशिप में पदक जीतने वाले पहले भारतीय

प्रकाश पादुकोण 1983 में पुरुष एकल के कांस्य पदक के साथ विश्व चैंपियनशिप में पदक जीतने वाले पहले भारतीय बने थे. जबकि साइना नेहवाल ने 2015 और 2017 में महिला एकल में क्रमश: रजत और कांस्य जीता था. ज्वाला गुट्टा और अश्विनी पोनप्पा ने भी 2011 में महिला युगल में कांस्य पदक जीता था. बी साई प्रणीत शनिवार को इस क्लब में शामिल होने के लिए नवीनतम खिलाड़ी बने जिन्होंने कांस्य पदक अपने नाम किया.

 

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. खेल
  3. पीवी सिंधू ने रचा इतिहास, बैटमिंटन विश्व चैम्पियनशिप में गोल्ड जीतने वाली पहली भारतीय बनीं

Go to Top