मुख्य समाचार:

IPL पर अनिल कुंबले और वीवीएस लक्ष्मण: अभी भी बाकी है उम्मीद, बदलनी होगी आयोजन की स्ट्रैटेजी

कोविड-19 महामारी के कारण टूर्नामेंट अभी अनिश्चितकाल के लिए स्थगित है.

Published: May 28, 2020 4:25 PM
Anil Kumble and VVS Laxman say there is still a possibility for happening IPL this yearयह अभी आधिकारिक नहीं है लेकिन भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) इस टूर्नामेंट का आयोजन अक्टूबर में करना चाहता है.

पूर्व भारतीय कप्तान और किंग्स इलेवन पंजाब के मुख्य कोच अनिल कुंबले (Anil Kumble) को उम्मीद है कि इस साल इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का आयोजन होगा. उन्होंने कोविड-19 महामारी के चलते दर्शकों के बिना इस धनाढ्य लीग के आयोजन का भी समर्थन किया. यह अभी आधिकारिक नहीं है लेकिन भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) इस टूर्नामेंट का आयोजन अक्टूबर में करना चाहता है.

कोविड-19 महामारी के कारण टूर्नामेंट अभी अनिश्चितकाल के लिए स्थगित है. कुंबले ने स्टार स्पोर्ट्स के कार्यक्रम ‘क्रिकेट कनेक्टेड’ में कहा, ‘‘हां हम इस साल आईपीएल के आयोजन के प्रति आशान्वित हैं लेकिन इसके लिए हमें कार्यक्रम को काफी व्यस्त करना होगा.’’ उन्होंने कहा, ‘‘अगर हम दर्शकों के बिना मैचों का आयोजन करते हैं तो फिर इन्हें तीन या चार स्थलों पर आयोजित किया जा सकता है. इसके आयोजन की अब भी संभावना है. हम सभी आशावादी हैं.’’

कई स्टेडियम वाले शहरों में हो सकते हैं मैच

पूर्व भारतीय बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण (VVS Laxman) ने कहा कि आईपीएल से जुड़े हितधारक मैचों का आयोजन उन शहरों में कर सकते हैं जहां कई स्टेडियम हैं. इससे खिलाड़ियों को कम यात्राएं करनी पड़ेंगी. लक्ष्मण ने कहा, ‘‘निश्चित तौर पर इस साल आईपीएल आयोजन की संभावना है. आपको ऐसे एक स्थल की पहचान करनी होगी, जहां तीन या चार मैदान हों क्योंकि यात्रा करना भी काफी चुनौतीपूर्ण होगा.’’उन्होंने कहा, ‘आप यह नहीं जानते कि हवाई अड्डे पर कौन कहां जा रहा है, इसलिए मुझे विश्वास है कि फ्रेंचाइजी और BCCI इस पर गौर करेंगे.’

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. खेल
  3. IPL पर अनिल कुंबले और वीवीएस लक्ष्मण: अभी भी बाकी है उम्मीद, बदलनी होगी आयोजन की स्ट्रैटेजी

Go to Top