मुख्य समाचार:
  1. बॉल टैंम्परिंग विवाद:स्टीव स्मिथ ने छोड़ी राजस्थान रॉयल्स की कप्तानी, रहाणे संभालेंगे टीम की कमान

बॉल टैंम्परिंग विवाद:स्टीव स्मिथ ने छोड़ी राजस्थान रॉयल्स की कप्तानी, रहाणे संभालेंगे टीम की कमान

ऑस्ट्रेलिया की टीम का कप्तानी पद छोड़ने के बाद, स्टीव स्मिथ ने राजस्थान रायल्स के कप्तानी पद से इस्तीफा दे दिया है। स्मिथ द्वारा कप्तानी छोड़ने के बाद अब अंजिक्या रहाणे टीम की कमान संभालेंगे।

March 26, 2018 3:59 PM
स्टीव स्मिथ, अंजिक्या रहाणे, बॉल टैम्परिंग, राजस्थान रायल्स, आईपीएल 2018, ipl 2018, ipl11, rajasthan royals captain, steve smith, ajinkya rahane, ball tempringस्टीव स्मिथ ने ये फैसला बॉल टैम्परिंग विवाद में फंसने के बाद लिया है। बॉल टैम्परिंग विवाद के चलते स्मिथ और ऑस्ट्रेलियाई टीम की चौतरफा आलोचना हो रही है।

ऑस्ट्रेलिया की टीम का कप्तानी पद छोड़ने के बाद, स्टीव स्मिथ ने राजस्थान रायल्स के कप्तानी पद से इस्तीफा दे दिया है। स्मिथ द्वारा कप्तानी छोड़ने के बाद अब अंजिक्या रहाणे टीम की कमान संभालेंगे। स्टीव स्मिथ ने ये फैसला बॉल टैम्परिंग विवाद में फंसने के बाद लिया है। बॉल टैम्परिंग विवाद के चलते स्मिथ और ऑस्ट्रेलियाई टीम की चौतरफा आलोचना हो रही है। यही नहीं आईसीसी ने स्मिथ को मामले में दोषी पाते हुए एक मैच का प्रतिबंध लगा दिया है। वहीं क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच कमेटी गठित की है।

क्या है बॉल टैम्परिंग विवाद?
वर्तमान में ऑस्ट्रेलिया टीम साउथ अफ्रीका दौरे पर है। दौरे के तीसरे टेस्ट मैच के दौरान कप्तान स्टीव स्मिथ और साथी खिलाड़ी बैनक्राफ्ट बॉल के साथ किसी धातू से छेड़खानी करते हुए कैमरे पर दिखाई दिए थे। दिन का खेल खत्म होने के बाद प्रेस कांफ्रेन्स के दौरान स्मिथ और बेनक्राफ्ट ने बॉल के साथ छेड़छाड़ करने की बात स्वीकार की और माफी मांगी थी। मामले की गंभीरता को देखते हुए ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री ने स्मिथ और टीम के दोषी खिलाड़ियों के खिलाफ सख्त कार्यवाई करने की बात कही थी। जिसके बाद टीम के कप्तान स्टीव स्मिथ और उपकप्तान डेविड वॉर्नर ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था।

सजा पर क्या बोले खिलाड़ी?
आइसीसी द्वारा स्मिथ को 1 मैच के बैन और बेनक्राफ्ट को मात्र 75 फीसदी की सजा पर क्रिकोटरों ने अपनी कड़ी प्रतिक्रिया दी है। हरभजन ने कहा कि सारे सबूतों के बावजूद दोनों खिलाड़ियों को इतनी सी सजा दी है। हमें 2001 में ज्यादा अपील करने पर बैन कर दिया गया था। आगे हरभजन ने कहा कि आपको 2008 का मामला तो याद ही होगा। वहीं केविन पीटरसन ने कहा कि आईसीसी की सजा क्रिकेट ऑस्ट्रलिया द्वारा दी जाने वाली सजा के आसपास भी नहीं है।

Go to Top