मुख्य समाचार:

COVID-19: क्या कोरोना जैसी महामारी के लिए पर्याप्त है आपका मौजूदा हेल्थ इंश्योरेंस प्लान

COVID-19 संक्रमण होने पर क्या आपका मौजूदा हेल्थ इंश्योरेंस इससे लड़ने के लिए पर्याप्त है.

March 24, 2020 4:22 PM
your health insurance plan is sufficient for COVID-19, health insurance, IRDAI, GIC, coronavirus, हेल्थ इंश्योरेंस, hospital expenses, test, ambulance, insurance companiesCOVID-19 संक्रमण होने पर क्या आपका मौजूदा हेल्थ इंश्योरेंस इससे लड़ने के लिए पर्याप्त है.

Insurance Plan For COVID-19: कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है. भारत में भी कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 500 के करीब पहुंच गई है. इस वजह से अब देश में लोगों में डर बढ़ता जा रहा है. बीमारी फैलने से कंट्रोल रहे, इसके लिए केंद्र और राज्य सरकारें लॉकडाउन कर रही हैं. बीमारी को फैलने से रोकने के लिए सरकार कई एडवाइजरी भी जारी कर रही है. फिलहाल सबसे बड़ा संकट यह है कि अगर संक्रमण हो जाए तो क्या आपका मौजूदा हेल्थ इंश्योरेंस इससे लड़ने के लिए पर्याप्त है.

हेल्थ एक्सपर्ट का कहना है कि भारत में अभी इतने ही मामले आए हैं, जिनका इलाज सरकारी अस्पतालों में संभव हो पा रहा है. सरकारी अस्पतालों में तो इसका इलाज फ्री में हो रहा है. लेकिन अगर मामले आगे बढ़ते हैं तो सरकारी अस्पतालों पर दबाव बढ़ेगा और निजी अस्पतालों में इलाज कराना मजबूरी बन जाएगी. उनका कहना है कि कोरोना का संक्रमण पूरी तरह से ठीक होने में 10 से 14 दिन लग सकते हैं. ऐसे में आपका हेल्थ इंश्योरेंस ऐसा होना चाहिए जो इन 14 दिनों का खर्च उठा सके.

क्या आपके इंश्योरेंस में कवर होगा COVID-19

कोरोना वायरस पर लेकर लोगों को एक शंका थी कि क्या यह आपके मौजूदा हेल्थ इंश्योरेंस प्लान में कवर होगा. इसे लेकर पिछले दिनों जनरल इंश्योरेंस कॉरपोरेशन ने भी साफ कर दिया कि यह बीमारी एक संक्रमण वाली बीमारी है. यह पहले से मौजूद बीमारी नहीं है. इसलिए हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसियों द्वारा इसे कवर किया जाएगा. हालांकि यह देखना जरूरी होगा कि आपकी पॉलिसी की क्या शर्तें हैं. जनरल इंश्योरेंस प्लेयर्स भी यह साफ कर चुके हैं कि इन्डेमिनिटी बेस्ड प्लान में कोरोना कवर होगा. यह वह प्लान है, जिसमें आपके हॉस्पिटल का खर्च, टेस्ट आदि कवर होता है.

14 दिन के खर्च के हिसाब से रखना चाहिए ध्यान

बीमा लेने से पहले पॉलिसी का सम एश्योर्ड जरूर देखें. कोरोना एक ऐसी बीमारी है जिसमें लंबे सूय तक उपचार की जरूरत है. इसलिए इस पर आने वाला खर्च भी ज्यादा होता है. कोरोना के लिए होने वाला टेस्ट भी महंग होता है. अलग अलग अस्पतालों से मिली जानकारी के अनुसार अगर कोई कोरोना मरीज इलाज के लिए जाता है तो उसका संक्रमण पूरी तरह से खत्म होने में 10 से 14 दिन लग सकता है. इसलिए इंश्योरेंस लेते समय यह ध्यान रखना चाहिए कि इतने दिनों का खर्च जरूर कवर हो सके. एक निजी अस्पताल में अगर 10 से 14 दिनों के हॉस्पिटलाइजेशन का खर्च देखें तो यह कम से कम 7 से 10 लाख रुपये हो सकता है. यानी आपको कम से कम 10 लाख का हेलथ इंश्योरेंस लेना चाहिए. अगर ऐसा नहीं है तो आपको अपना मौजूदा इंश्योरेंस टॉप अप कराना चाहिए.

एक विस्तृत बीमा पॉलिसी

आपकी पॉलिसी ऐसी होनी चाहिए जिसमें सिर्फ विशेष बीमारी के लिए ही कवर ना मिलता हो. ऐसी पॉलिसी लें जिसमें अस्पताल के सारे खर्च शामिल हों साथ ही हॉस्पिटल में होने वाला टेस्ट और एंबुलेंस का खर्च भी. हालांकि यह ध्यान रखने की जरूरत है कि पॉलिसी का लाभ उठाने के लिए एक सीमा तक ही क्लेम कर सकते हैं.

(नोट: चिकित्सा क्षेत्र से जुड़े कुछ विशेषज्ञों और अस्पतालों से मिल रही जानकारी के आधार पर ये रिपोर्ट तैयार की गई. इसके अलावा इंश्योरेंस कंपनियों के बयान को भी आधार बनाया गया है.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. COVID-19: क्या कोरोना जैसी महामारी के लिए पर्याप्त है आपका मौजूदा हेल्थ इंश्योरेंस प्लान

Go to Top