सर्वाधिक पढ़ी गईं

Health Insurance: स्वास्थ्य बीमा में क्यों जरूरी है बड़ा कवरेज? समझिए पूरा कैलकुलेशन

Health Insurance: हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी से इलाज के खर्चों की चिंता दूर हो जाती है लेकिन किसी भी स्वास्थ्य बीमा में उतने ही खर्च कवर होंगे, जितना उसका कवरेज यानी सम इंश्योर्ड होगा.

Updated: May 31, 2021 1:54 PM
why big insurance policy like 1 crore health cover needed know here in detailsहेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदते समय इसका कवरेज कितना होना चाहिए, इसे लेकर कोई निश्चित फॉर्मूला नहीं है.

Health Insurance: बदलती जीवनशैली के चलते भारत समेत दुनिया भर में गंभीर बीमारियां तेजी से बढ़ रही हैं. इसके अलावा हर साल स्वास्थ्य खर्च भी तेजी से बढ़ रहा है. ऐसे में इलाज को लेकर आने वाले खर्च के चलते वित्तीय सेहत न खराब हो, इसके लिए हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी लेना बेहद जरूरी है. इससे अस्पताल से जुड़े खर्चों की चिंता खत्म हो जाती है.

हेल्थ इंश्योरेंस लेते समय यह ध्यान रखना भी जरूरी है कि किसी भी पॉलिसी के तहत अस्पताल या इलाज के खर्च का भुगतान उसके कवरेज पर निर्भर है. यानी जितना बड़ा कवरेज होगा, उतने ही अधिक खर्च का भुगतान उस पॉलिसी के जरिए किया जा सकेगा. कुछ रोगों के इलाज के लिए विदेश जाना पड़ सकता है जिससे खर्च बढ़ जाता है. अधिकतर बीमा कंपनियां अब विदेशों में इलाज को भी कवर कर रही हैं लेकिन कवर बड़ा होने पर ही इसका फायदा उठा पाएंगे. जाहिर है कि सिर्फ हेल्थ इंश्योरेंस लेना ही काफी नहीं है. यह फैसला भी बेहद अहम है आपको कितना कवरेज लेना चाहिए. इसका कैलकुलेशन सही ढंग से करना जरूरी है.

महंगे इलाज में राहत देगा 1 करोड़ का हेल्थ प्लान, जानिए बेहद कम प्रीमियम में कैसे मिलेगा बड़ा कवरेज

1 करोड़ के हेल्थ इंश्योरेंस कवर के पीछे यह है गणित

हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदते समय इसका कवरेज कितना होना चाहिए, इसे लेकर कोई फॉर्मूला तो नहीं है. हालांकि आज की परिस्थितियों की बात करें तो 50 लाख के हेल्थ इंश्योरेंस कवर की तुलना में महज 20-25 फीसदी अधिक प्रीमियम चुका कर दोगुना यानी 1 करोड़ रुपये का कवर हासिल किया जा सकता है.

1 करोड़ का हेल्थ इंश्योरेंस कवरेज लेने के पीछे सबसे बड़ा तर्क महंगा इलाज है. किसी निजी अस्पताल में शुरुआती चरण में  कैंसर का इलाज खर्च 10-15 लाख रुपये में निपट सकता है लेकिन नई इम्यूनोथेरेपी दवाओं या प्रिसीज़न मेडिसिन को शामिल किया जाया तो यह खर्च 1 करोड़ रुपये तक जा सकता है.

नीचे कुछ रोगों के इलाज का एक अनुमानित खर्च दिया जा रहा है, जिससे अनुमान लगाया जा सकता है कि बड़ा इंश्योरेंस कवर होना क्यों जरूरी है. इस खर्च में अस्पताल में भर्ती होने के पहले और बाद के मेडिकल टेस्ट्स, मेडिकेशंस, रेडियोथेरेपी इत्यादि के खर्च को भी शामिल किया गया है.

रोग  इलाज                             – खर्च (लगभग)
लीवर ट्रांसप्लांट                         – 25-36 लाख रुपये
कीमोथेरेपी (प्रति सिटिंग)             – 60 हजार-1.9 लाख रुपये
एंजियोप्लास्टी                            – 1.9-4.2 लाख रुपये
ब्रेस्ट कैंसर सर्जरी                       –  6-10 लाख रुपये
फेफड़ों का ट्रांसप्लांट                  – 15-30 लाख रुपये
सीरियस हार्ट प्राब्लम्स                  – 50 लाख रुपये से अधिक
एडवांस्ड-स्टेज कैंसर                   – 50 लाख रुपये से अधिक

अपने लिए चुनें बेहतर Health Insurance प्लान, जानिए किस पॉलिसी से मिलेगा बेस्ट कवरेज

तेजी से बढ़ रही जानलेवा बीमारियां

इंडिया काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के नेशनल कैंसर रजिस्ट्री प्रोग्राम के मुताबिक कैंसर के चलते हर दिन करीब 1300 लोगों की मौत हो जाती है. इसके अलावा वैश्विक व घरेलू रिपोर्ट्स के मुताबिक 70 वर्ष से कम के हर 10 में से चार लोगों को ट्यूमर, कैंसर, हार्ट अटैक्स, किडनी फेल्योर जैसी गंभीर बीमारियों के चलते असमय मौत का रिस्क है. हर दिन बड़ी संख्या में डायबिटीज और हाइपरटेंशन के मामले सामने आ रहे हैं जिसके चलते बहुत से लोगों पर क्रोनिक किडनी डिजीजेज का खतरा मंडरा रहा है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. Health Insurance: स्वास्थ्य बीमा में क्यों जरूरी है बड़ा कवरेज? समझिए पूरा कैलकुलेशन

Go to Top