मुख्य समाचार:

बच्चों के लिए कर रहे हैं निवेश की शुरूआत; इन बातों का रखें ध्यान, भविष्य होगा सुरक्षित

आज हम आपको बताएंगे कि अपने बच्चे के भविष्य के लिये निवेश करते समय किन चीजों को ध्यान में रखना चाहिए.

November 14, 2019 9:07 AM
Representational Image

माता-पिता अपने बच्चे के भविष्य के बारे में सोचने में अपना काफी समय खर्च करते हैं. बच्चे की शिक्षा और शादी के लिए बचत और निवेश करना अभिभावकों के लिये एक मुख्य वित्तीय लक्ष्य होता है. एक रिसर्च के मुताबिक पिछले 10 साल में स्कूल फीस, ट्यूशन फीस और उससे जुड़े खर्चों में 150 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. इसके बावजूद बहुत कम माता-पिता अपने बच्चों की शिक्षा पर होने वाले खर्च के लिये प्लानिंग करते हैं. इसका नतीजा है कि उन्हें बच्चों का शिक्षा के लिये एजुकेशन लोन या किसी दूसरे माध्यम से उधार लेना पड़ता है. इसलिए अपने बच्चों के भविष्य के लिये आज ही निवेश करना बेहतर है. आज हम आपको बताएंगे कि अपने बच्चे के भविष्य के लिये निवेश करते समय किन चीजों को ध्यान में रखना चाहिए.

जल्दी शुरुआत करें

बढ़ती महंगाई की वजह से बच्चे के भविष्य के लिये जरुरी वित्तीय जरूरतें भी बढ़ रही हैं. शिक्षा और शादी पर होने वाला खर्च बढ़ रहा है. इसलिये यह जरुरी है कि अभिभावक अपने बच्चों के भविष्य के लिये जल्दी प्लानिंग करें और निवेश को बढ़ाने के लिये ज्यादा समय दें. जितनी जल्दी आप शुरुआत करेंगे, उतने ज्यादा फायदे आपको मिलेंगे. जैसे आप अपने बच्चे के लिये उसके जन्म के साथ ही बचत और निवेश शुरू कर देते हैं, तो उसके 18 साल की उम्र तक पहुंचने में काफी कॉर्पस जमा हो जाएगा.

सही निवेश करें

अपने बच्चे के भविष्य के बारे में प्लानिंग करते समय यह भी जरुरी है कि आप सही जगह निवेश करें. रिटर्न और समयावधि को देखते हुए इक्विटी म्यूचुअल फंड्स एक अच्छा ऑप्शन है. इक्विटी फंड में कुछ ऐसे सोल्यूशन ओरिएंटिड इक्विटी फंड्स हैं जो बच्चे के भविष्य के लिये अच्छे हैं और इनका लोक इन पीरियड आपको लगातार एक समयावधि तक निवेश करने की आदत लगाता है.

वित्तीय अनुशासन लाएं

वित्तीय अनुशासन अपने लॉन्ग टर्म फाइनेंशियल लक्ष्यों को हासिल करने में मदद करता है. अगर आप अपने बच्चे के भविष्य के लिये फाइनेंशियल प्लानिंग कर रहे हैं तो यह कोई शॉर्ट टर्म लक्ष्य नहीं है. इसके लिए एक अच्छी प्लानिंग और निरंतर काम करने की जरुरत है. आप जिस भी निवेश के ऑप्शन को चुनें, यह ध्यान रखें कि वह निरंतर जारी रहे और सिस्टमैटिक इनवेस्टमेंट प्लान (SIP) की तरह रेगुलर हो. बाजार में फैली अपवाहों से प्रभावित नहीं हों और अपने निवेश को जारी रखें.

MF वैल्यू एडेड प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करें

सिस्टमैटिक इनवेस्टमेंट प्लान (SIP) से निवेशक अनुशासन में रहते हैं और उनका फाइनेंशियल प्लान सही तरीके से जारी रहता है क्योंकि इसमें पहले से निश्चित राशि आपके बैंक अकाउंट से अपने आप कटती रहती है और म्यूचुअल फंड स्कीम में निवेश होता रहता है. SIP से मार्केट के मुताबिक कॉस्ट ऑफ यूनिट बनी रहती है और समय-समय पर निवेश करने की जरुरत नहीं होती. जितना जल्दी आप निवेश करना शुरू करेंगे और जितने लंबे समय तक निवेश जारी रखेंगे, आपको कंपाउंडिंग से रिटर्न ज्यादा मिलेगा. निवेशक अपने बच्चे के भविष्य के लिये SIP में निवेश कर सकता है और बच्चे के बड़े होने के साथ ही SIP की राशि बढ़ा सकता है.

EPF: कंपनी ने देरी से जमा कराई PF की रकम, क्या अदालत निदेशकों को देगी सजा?

एसेट आवंटन में विविधता लाना

निवेश करने में एसेट का आवंटन करना निवेश में एक मुख्य कदम है. अपने निवेश को अलग-अलग एसेट क्लास में बांट देना आपके पोर्टपोलियो को बैलेंस देता है. म्यूचुअल फंड्स में व्यक्ति चार कैटेगरी में निवेश कर सकता है: वेल्थ सोल्यूशन, इनकम सोल्यूशन, टैक्स सेविंग सोल्यूशन और सेविंग्स सोल्यूशन.

(By A Balasubramanian, MD & CEO, Aditya Birla Sun Life AMC Limited)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. बच्चों के लिए कर रहे हैं निवेश की शुरूआत; इन बातों का रखें ध्यान, भविष्य होगा सुरक्षित

Go to Top