Income Tax नोटिस मिले तो घबराएं नहीं, इस तरह दें जवाब

टैक्स रिटर्न दाखिल करने में हुई मामूली गलती से भी आपको आयकर विभाग से नोटिस मिल सकती है.

income tax department notice, income tax department notice list, income tax department notice types, how to revert income tax notice, how to revert income tax notice online, how to revert income tax notice u/s 133(6), how to revert income tax notice 143(1) online, how to revert income tax notice under section 143 1
टैक्स रिटर्न दाखिल करने में हुई मामूली गलती से भी आपको आयकर विभाग से नोटिस मिल सकती है.

अपने टैक्स राजस्व में कमी देखते हुए और टैक्स नेट के अधिक लोगों को जोड़ने के लिए सरकार ने आयकर रिटर्न दाखिल करने से संबंधित कानूनों को कड़ा कर दिया है. अब टैक्स रिटर्न दाखिल करने में हुई मामूली गलती से भी आपको आयकर विभाग से नोटिस मिल सकती है.

हालांकि, इनकम टैक्स विभाग से एक नोटिस का मतलब हर वक्त यही नहीं होता कि आपको दिक्कत का सामना कर पड़ सकता है. ऐसी सूचनाएं भेजने के कई कारण हो सकते हैं. यहां कुछ आम आयकर नोटिस के बारे में बताया जा रहा है कि उनका क्या मतलब है और ऐसे नोटिस मिलने पर आपको क्या करना चाहिए:

  • Demand Notice (under Section 156)

धारा 156 के तहत एक इनकम टैक्स का नोटिस बकाया बकाया राशि, ब्याज, जुर्माना इत्यादि के खिलाफ जारी किया जाता है. ऐसी सूचनाएं आम तौर पर आयकर रिटर्न के पोस्ट असेसमेंट के बाद भेजी जाती हैं. नोटिस, असेसमेंट ऑफिसर द्वारा जारी किया जाता है जो ड्यू अमाउंट के लिए निर्देश देता है और किसी भी जुर्माना से बचने के लिए टैक्सपेयर को समय पर बकाया राशि को जमा करने के लिए कहता है.

कुल बकाया राशि की निकासी तक प्रति माह 1 फीसदी(धारा 220 के तहत) की ब्याज दर चार्ज की जाती है. असेसमेंट ऑफिसर अवैतनिक राशि (धारा 221 के तहत) के बराबर तक जुर्माना लगा सकता है.

ऐसे में क्या करें

Income Tax Department से ऐसी नोटिस मिलने के बाद, व्यक्ति को नोटिस प्राप्त करने के 30 दिनों के भीतर बकाया राशि जमा करनी होती है. इसके अलावा, विशेष मामलों में, व्यक्ति के पास बकाया राशि को जमा करने के लिए एक महीने से भी कम समय दिया जा सकता है.

  • Customary Notice [under Section 145 (1)]

यदि ऐसा कोई नोटिस आप तक आता है तो घबराने की कोई बात नहीं है. धारा 145 (1) के तहत आयकर विभाग से नोटिस विभाग के नियमित अभ्यास के एक हिस्से के रूप में आई-टी निर्धारिती को दी गई एक पारंपरिक सूचना होती है. आम तौर पर, यह सिर्फ एक सूचना है जो बताती है कि आयकर रिटर्न को सफलतापूर्वक प्रोसेस किया गया है. इस सूचना को वित्तीय वर्ष के अंत से एक वर्ष की समाप्ति तक कर विभाग द्वारा भेजा जा सकता है जिसमें रिटर्न दायर किया जाता है.

ऐसे में क्या करें

सामान्यतः इसके लिए आपको कुछ जवाब देने की जरुरत नहीं है जब तक कि आय में कुछ गलतियां न दिखे या रिटर्न दाखिल करते समय किसी तरह का मेल नहीं हो रहा हो. हालांकि यदि कोई बकाया राशि है, तो उसे एक महीने के भीतर भुगतान करना होगा.

इसके अलावा, यदि सूचना के बारे में कोई भी प्रकार की सुधार की जरुरत है, तो इसे किसी भी जटिलता या जुर्माना से बचने के लिए तत्काल किया जाना चाहिए.

  • Inspection notices [under Section 142(1) and 143(2)]

ऐसी सूचनाएं तब ही जारी की जाती हैं, जब भी आयकर विभाग को किसी प्रकार का सत्यापन, स्पष्टीकरण या दोबारा आकलन की जरुरत होती है. संबंधित असेसमेंट ईयर समाप्त होने के बाद धारा 142 (1) के तहत नोटिस आयकर विभाग द्वारा जारी किया जा सकता है.

धारा 143 (2) के तहत नोटिस विभाग द्वारा धारा 142 (1) के तहत भेजे गए नोटिस के लिए अनुपालन के लिए भेजा जाता है, यदि असेसमेंट ऑफिसर आवश्यक दस्तावेजों को जमा करने की प्रतिक्रिया या विफलता से संतुष्ट नहीं है.

ऐसे में क्या करें

धारा 142 (1) के तहत नोटिस मिलने पर, व्यक्ति को नोटिस में दिए गए निर्धारित समय के भीतर जवाब देना होगा. धारा 143 (2) के तहत नोटिस के लिए, जो एक फ़ॉलो-अप नोटिस है, एक व्यक्ति को असेसमेंट ऑफिसर के सामने व्यक्तिगत रूप से या प्रतिनिधि के माध्यम से उपस्थित होना पड़ सकता है.

  • Show cause Notice (under Section 148)

धारा 148 के तहत कारण बताओ नोटिस जारी किया जात है जब आयकर विभाग को लगता है कि टैक्सपेयर ने टैक्स से बचने के लिए आय के सभी स्रोतों का खुलासा नहीं किया है. अगर आय से बचने के लिए 1 लाख रुपये की राशि रही हो तो असेसमेंट ईयर के अंत से चार साल के भीतर विभाग द्वारा नोटिस भेजा जा सकता है. यदि आय से बचने वाली राशि 1 लाख रुपये से अधिक है या यदि भारत के बाहर स्थित किसी भी संपत्ति से संबंधित आय लेकिन टैक्स के लिए शुल्क योग्य है, और छुपाया गया हो तो छह साल के भीतर एक नोटिस भेजा जा सकता है.

ऐसे में क्या करें

एक महीने के भीतर रिटर्न करें या फिर जो भी नियत अवधि बताई गई हो उसमें वापसी कर दें. असेसमेंट ऑफिसर इस तरह के नोटिस जारी करने के कारण देने के लिए बाध्य है अगर कोई व्यक्ति इसके लिए पूछता है.

Refund adjusted against the tax demand (under Section 245)

धारा 245 के तहत यह नोटिस जारी किया जाता है जब आयकर विभाग के साथ टैक्स डिमांड लंबित है और राशि का दावा धनवापसी के रूप में किया गया है. असेसमेंट ऑफिसर टैक्स निर्धारिती से किसी भी टैक्स डिमांड बकाया के खिलाफ धनवापसी (पूरी तरह से या आंशिक रूप से) समायोजित करेगा. निर्धारिती को ऐसी सूचना देने/जारी करने की कोई समय सीमा नहीं है.

ऐसे में क्या करें

टैक्सपेयर को 30 दिनों के भीतर इस तरह के नोटिस/सूचना का जवाब देना होता है. अगर निर्धारिती निर्धारित समय के भीतर जवाब देने में विफल रहता है तो समायोजन स्वचालित रूप से किया जाता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

Financial Express Telegram Financial Express is now on Telegram. Click here to join our channel and stay updated with the latest Biz news and updates.

TRENDING NOW

Business News

Debate