सर्वाधिक पढ़ी गईं

Cheque Bounce होने पर क्या कानूनी कारवाई की जा सकती है?

अक्सर लोग नकदी के लेन-देन से होने वाले झंझट से बचने के लिए चेक के द्वारा पेमेंट करते हैं पर अगर किसी कारणवश चेक बाउंस हो जाता है तो उससे पैदा होने वाली झंझट पहले से कई गुना बढ़ जाती है.

Updated: May 31, 2018 5:10 PM
चेक बाउंस होने पर नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट की धारा 138 के तहत जारीकर्ता के खिलाफ करवाई की जाती है.

अक्सर लोग नकदी के लेन-देन से होने वाले झंझट से बचने के लिए चेक के द्वारा पेमेंट करते हैं पर अगर किसी कारणवश चेक बाउंस हो जाता है तो उससे पैदा होने वाली झंझट पहले से कई गुना बढ़ जाती है. यहां आपको बता दें कि चेक एक नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट होता है जिसके अंतर्गत आप जारी करते वक्त वादा करते हैं कि एक निश्चित धनराशि प्राप्तकर्ता को प्राप्त हो जाएगी. जब आप पैसा उधार पर लेते हैं या किसी के द्वारा सेवाएं प्राप्त करते हैं तो आपको प्राप्त हुई रकम या सेवा के लिए भुगतान करना होता है और अगर आप उसमे विफल रहते हैं तो आप पर कारवाई की जा सकती है. ठीक उसी तरह यदि आप चेक या ECS के द्वारा भुगतान प्रतिबद्धताओं का सम्मान नहीं करते हैं तो आपके खिलाफ भी करवाई की जा सकती है. चेक बाउंस होने पर या ECS के द्वारा की गयी पेमेंट अस्वीकृत होने पर जो कानूनी करवाई की जाती है वह समान होती है.

चेक बाउंस होने पर नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट की धारा 138 के तहत जारीकर्ता के खिलाफ करवाई की जाती है. भुगतान और निपटान प्रणाली अधिनियम, 2007 की धारा 25 के तहत प्राप्तकर्ताओं को कुछ अधिकार मिले हैं जिसका इस्तेमाल कर वह जारीकर्ता के खिलाफ करवाई कर सकता है. आपको बता दें कि इन धाराओं के अंतर्गत जारीकर्ता को दंड के रूप में दो साल तक कारावास या जुर्माने के तौर पर राशि का दोगुना पैसा देना पड़ सकता है, या फिर दोनों ही संभव है.

चेक बाउंस होने की घटनाएं पिछले दिनों में बहुत बढ़ गई है और इनसे होने वाली परेशानियां भी. यहां यह जानना जरुरी है कि चेक बाउंस होने के तुरंत बाद प्राप्तकर्ता को कानूनी करवाई करनी चाहिए. किसी भी प्रकार का ढुलमुल रवैया प्राप्तकर्ता के खिलाफ जा सकता है और रिकवरी कार्यवाही लंबा हो सकता है. इसके साथ ही उधारकर्ता को कानूनी आश्रय लेने का मौका दिया जा सकता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. Cheque Bounce होने पर क्या कानूनी कारवाई की जा सकती है?

Go to Top