मुख्य समाचार:

Third Party Insurance: क्यों जरूरी है थर्ड पार्टी बीमा लेना? जाने लें इससे जुड़े हर नियम

कार इंश्योरेंस के अलावा थर्ड पार्टी इंश्योरेंस लेना भी कानूनी रूप से अनिवार्य है.

September 10, 2019 4:26 PM
third Party insurance and its benefits, know full detailRepresentational Image

Third Party Insurance: भारत में गाड़ी खरीदने वाले हर शख्स के लिए वाहन बीमा यानी मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदना अनिवार्य है. फिर चाहे कार खरीदें या बाइक/स्कूटर या कोई कमर्शियल गाड़ी. बिना बीमा के सार्वजनिक स्थल पर मोटर व्हीकल चलाना, मोटर व्हीकल एक्ट 1988 के अनुसार एक दण्डनीय अपराध है. कार इंश्योरेंस के अलावा थर्ड पार्टी इंश्योरेंस (Third Party Insurance) लेना भी कानूनी रूप से अनिवार्य है.

थर्ड पार्टी इंश्योरेंस के तहत व्हीकल से सड़क पर चलने वाले किसी व्यक्ति या अन्य को या किसी प्रॉपर्टी को हुए नुकसान का मुआवजा दिया जाता है. ऐसी घटना के कारण व्हीकल ओनर/ड्राइवर पर बनने वाली कानूनी देनदारियों का निपटारा इसी पॉलिसी से होता है. अगर आपके व्हीकल की लास्ट डेप्रिशिएशन वैल्यू (LDV) अगर जीरो भी बची है, तब भी आपको थर्ड पार्टी इंश्योरेंस करवाना होगा.

क्या कहते हैं नए नियम

सुप्रीम कोर्ट ने सभी नए टू-व्हीलर ओनर्स के लिए 5 साल का थर्ड पार्टी इंश्योरेंस करवाना अनिवार्य कर दिया है. वहीं, कार व अन्य कमर्शियल व्हीकल्स के मामले में कम से कम 3 साल का थर्ड पार्टी इंश्योरेंस अनिवार्य है. यह आदेश 1 सितंबर 2018 से पूरे देश में लागू है. अगर किसी ने व्हीकल का थर्ड पार्टी इंश्योरेंस नहीं करवा रखा है तो पकड़े जाने पर 2000 रुपये जुर्माने का प्रावधान है.

क्या नुकसान कवर होता है…

  • अन्य व्यक्ति की मौत या शारीरिक क्षति
  • अन्य व्यक्ति के वाहन या उसमें लगे इक्विपमेंट को हुआ नुकसान
  • अन्य व्यक्ति की सं​पत्ति, घर, दीवार, या सामान को हुआ नुकसान

व्हीकल ओनर को नहीं देता कोई राहत

थर्ड पार्टी इंश्योरेंस के तहत व्हीकल ओनर या चालक को होने वाले किसी भी नुकसान की भरपाई की कोई जिम्मेदारी नहीं होती है. इसके अलावा जिस व्हीकल से एक्सीडेंट हुआ है, उसे नुकसान होने पर कोई मुआवजा नहीं मिलता है.

ऑनलाइन भी ले सकते हैं

थर्ड पार्टी इंश्योरेंस को ऑनलाइन भी खरीदा जा सकता है. ऐसा किसी बीमा कंपनी की वेबसाइट पर जाकर या फिर किसी इंश्योरेस एग्रीगेटर जैसे Policybazaar.com और coverfox.com के माध्यम से किया जा सकता है. आप चाहें तो इसे ऑनलाइन रिन्यू भी करा सकते हैं.

कार इंश्योरेंस: क्या है जीरो डेप्रिसिएशन कवर, कैसे कराता है फायदा?

महंगा हो चुका है थर्ड पार्टी इंश्योरेंस

बीमा नियामक IRDAI ने वाहनों की कुछ कैटेगरी के लिए अनिवार्य थर्ड पार्टी इंश्योरेंस प्रीमियम में 21 फीसदी तक की बढ़ोतरी कर दी है. वित्त वर्ष 2019-20 के लिए नई दरें 16 जून से लागू हो गई हैं. इसके चलते 1000 सीसी से कम क्षमता वाली छोटी कारों के थर्ड पार्टी इंश्योरेंस प्रीमियम में 12 फीसदी की बढ़ोत्तरी की गई है. अब प्रीमियम 2072 रुपये हो गया है. इसी तरह से 1000-1500 सीसी के वाहनों का बीमा प्रीमियम 12.5 फीसदी बढ़कर 3221 रुपये हो गया है.

टू-व्हीलर्स के मामले में 75 सीसी से कम के व्हीकल के लिए थर्ड पार्टी प्रीमियम 12.88 फीसदी बढ़कर 482 रुपये हो गया. इसी तरह 75 से 150 सीसी के दोपहिया वाहन के लिए प्रीमियम 752 रुपये किया गया है. 150-350 सीसी क्षमता वाले दोपहिया वाहनों के लिए थर्ड पार्टी इंश्योरेंस प्रीमियम 21.11 फीसदी बढ़कर 1193 रुपये हो गया है.

हालांकि 1500 सीसी से ऊपर की कारों के लिए थर्ड पार्टी प्रीमियम नहीं बढ़ाया गया है. इसे 7890 रुपये पर बरकरार रखा है. सुपर बाइक (355 सीसी से ऊपर के दोपहिया वाहन) के प्रीमियम में कोई बदलाव नहीं किया गया है. ई-रिक्शा के मामले में दरों में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. Third Party Insurance: क्यों जरूरी है थर्ड पार्टी बीमा लेना? जाने लें इससे जुड़े हर नियम

Go to Top