मुख्य समाचार:

क्या है फॉर्म 16? बिना इसके इस्तेमाल के इस तरह से आसानी से भरें इनकम टैक्स रिटर्न

नौकरीपेशा लोगों के लिए इनकम टैक्स रिटर्न भरना पहाड़ उठाने से कम नहीं है, खासकर के फॉर्म 16 के जरिए। अगर आपसे ये कहा जाए कि बिना फॉर्म 16 लिए भी आप बड़ी आसानी से इनकम टैक्स रिटर्न फाइल कर सकते हैं, तो शायद आप हमारी बात सच ना मानें।

March 29, 2018 12:02 PM
इनकम टैक्स रिटर्न, आयकर, आईटीआर, फॉर्म 16, फॉर्म, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट, इनकम टैक्स, कारोबार, निवेश बचतबिना फॉर्म 16 के इस्तेमाल के भी आसानी से इनकम टैक्स भरा जा सकता है।

नौकरीपेशा लोगों के लिए इनकम टैक्स रिटर्न भरना पहाड़ उठाने से कम नहीं है, खासकर के फॉर्म 16 के जरिए। अगर आपसे ये कहा जाए कि बिना फॉर्म 16 लिए भी आप बड़ी आसानी से इनकम टैक्स रिटर्न फाइल कर सकते हैं, तो शायद आप हमारी बात सच ना मानें। मगर यकीन करिए आप बिना फॉर्म 16 लिए भी बिना किसी झंझट के बड़ी आसानी से आइटीआर फाइल कर सकते हैं। बहरहाल अगर आप पहली बार टैक्स भरने वाले हैं, और टैक्स के पेंच नहीं समझते हैं तो आप शायद ये भी नहीं जानते होंगे कि आखिर फॉर्म 16 क्या है। इसलिए इनकम रिटर्न भरने से पहले हम आपको बताते हैं कि आखिर क्या फॉर्म?

क्या है फॉर्म 16 और क्या है इसके मायने?
आपका फॉर्म 16 आपके टैक्स का रिकॉर्ड है, जो आपकी कंपनी ने आपकी सैलरी से काटा है। इसे सैलरी सर्टिफिकेट या सैलरी स्लिप भी कहते हैं, क्योंकि इसमें आपकी सैलरी का पूरा ब्योरा होता है। किसी भी कंपनी के लिए अपनी कर्मचारियों को सैलरी स्लिप देना जरूरी है। आपके लिए फॉर्म 16 इसलिए भी जरूरी है क्योंकि इसमें हर वोो जरूरी डीटेल है जो इनकम टैक्स रिटर्न भरने में काम आती है।

फॉर्म 16 के बिना टैक्स भरने के लिए चाहिए ये डॉक्यूमेंट
अगर आप बिना फॉरर्म 16 के इस्तेमाल के आसानी से टैक्स भरना चाहते हैं तो आपको कुछ डॉक्यूनमेंट चाहिए होंगे जैसे मासिक सैलरी स्लिप, फॉर्म 26 एएस या टैक्स क्रेडिट स्टेटमेंट जो आपको TRACES की वेबसाइट से मिल जाएगी। इलके अलावा इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करते हुए आपको रेंट एग्रीमेंट और अन्य डॉक्यूमेंट भी चाहिए होंगे जिनके सहारे आप ये बता सकें कि आपने इन सब जगहों पर निवेश किया हुआ है।

इस प्रोसेस को अपनाकर बिना फॉर्म 16 के भर सकेंगे आइटीआर

1) अपनी पे स्लिप से ग्रॉस सैलरी कैलकुलेट करें

वित्तीय वर्ष की सभी पे स्लिप इक्ट्ठा करें क्योंकि आपकी पे स्लिप में सैलरी से संबंधित जरूरी डीटेल होती हैं। अगर आपने बीच में कंपनी स्विच की है, तो दोनों कंपनियों के पे स्लिप डीटेल्स भरें। सैलरी कैलकुलेट करते वक्त ध्यान रखें कि आपको को जो तनख्वा मिलती है वो आपका पीएफ टीडीएस, प्रोफेशन टैक्स काटकर दी जाती है।

2) जो टैक्स कटा है उसका हिसाब करें

इसके लिए आप फॉर्म 26एएस देख सकते हैं। इसमें आपकी कंपनी द्वारा आपकी सैलरी से काटे गए कुल टैक्स डीटेल होती हैं। अगर कुल काटा गया टैक्स आपकी सैलरी स्लिप से मिलता है तो आप अगला कदम बढ़ा सकते हैं।

3)छूट मिल सकने वाले भत्तों पर क्लेम करें

आपकी आप नौकरी पेशा हैं तो आपको कई आऐसे अलाउंस मिलते हैं, जिन्हें क्लेम करके आप टैक्स बचा सकते हैं, जैसे एचआरए, एलटीए, एजुकेशन अलाउंस। आइटीआर भरते समय इन सब से संबधित डॉक्यूमेंट जरूर इस्तेमाल करें।

4)चैप्टर6-ए के तहत आने वाली सभी कटौतियां कैलकुलेट करें

सेक्टसन 80 सी के तहत कई सारें ऐसे निवेश हैं जिनसे टैक्स कटता है। स्कीम के मुताबिक आप जितना निवेश करते हैं, उसपर आपको 1,50,000 तक की टैक्स छूट मिल सकती है।

5) अन्य जगह से हो रही इनकम दर्शाएं

ज्ञात रहे अन्य सोर्स से हो रही इनकम को जरूर दर्शाएं। जैसे जो रेंट मिला हो घर किराए पर देने से या फिर हाउसिंग लोन पर दिया इंटरेस्ट, छोटे-मोटे बिजनेस से मिलने वाला पैसा इत्यादी। ये सभी चीजें कुल टैक्सेबल इनकम के अंतर्गत दिखाना ना भूलें।

6) अपनी नेट टैक्सेबल इनकम निकालें

ऊपर बताए गए सभई काम करने के बाद अब आप अपनी नेट टैक्सेबल इनकम निकालें। इसके लिए आपको अपनी कुल कमाई को अपने कुल काटे गए पैसे से घटाना। अंत में जो भी आंकड़ा आपके सामने आएगा वो आपकी कुल टैक्सेबल इनकम है।

7) इनकम टैक्स कैलकुलेट करें

अब आपके सामने आपका टैक्सेबल सैलरी आकड़ा है। अब आप इनकम टैक्स स्लैब रेट के अनुसार, पता लगा सकते हैं कि इस वित्तीय वर्ष में आपको कितना टैक्स देना है।

8) अगर जरूरी हो तो एक्सट्रा टैक्स भरें

अगर कैलकुलेशन दिखाता है कि आपके द्वारा दिया गया टैक्स आपकी टैक्स जिम्मेदारी से कम है फॉर्मन 26 एक के अनुसार, तब आपको इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को अपने तरफ से बचा हुआ टैक्स अमाउंट पे करना चाहिए।

9)बिना फॉर्म 16 के ई फाइल करें आइटीआर

अपनी टैक्स जिम्मेदारी पूरी करने के बाद, फॉर्म 26 एएस में दर्शाए जाने तक इंतजार करें। अगल आपकी टैक्स जिम्मेदारी आपके द्वारा दिए टैक्स से मैच करे तो आप बिना फॉर्म 16 के भी आपना आईटीआर ई फाइल कर सकते हैं।

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. क्या है फॉर्म 16? बिना इसके इस्तेमाल के इस तरह से आसानी से भरें इनकम टैक्स रिटर्न

Go to Top