मुख्य समाचार:

क्या होता है कॉरपोरेट FD, बैंक डिपॉजिट से कितना अलग? निवेश से पहले इन बातों का जरूर रखें ध्यान

कॉरपोरेट डिपॉजिट कंपनी द्वारा जारी की जाती है. यहां आमतौर मेच्योरिटी की अवधि 6 माह से 3 साल तक की होती है.

Published: July 8, 2020 8:22 AM
Corporate FD Vs Bank FD, what is corporate FD, is corporate FD better option than bank FD, keep these important facts in mind before investment in corporate FD, company deposit, high rating companies, strong company fixed deposit, कॉरपोरेट डिपॉजिट, best corporate FDकॉरपोरेट डिपॉजिट कंपनी द्वारा जारी की जाती है. यहां आमतौर मेच्योरिटी की अवधि 6 माह से 3 साल तक की होती है.

फिक्स्ड डिपॉजिट एक सेविंग्स इंस्ट्रूमेंट की तरह काम करता है, जिसमें एक तय अवधि में तय ब्याज के हिसाब से रिटर्न मिलता है. इसमें बचत खाते की तुलना में ब्याज ज्यादा होता है. एक टर्म डिपॉजिट है, जहां निवेशक एकमुश्त राशि एक तय समय के लिए जमा करता है और मेच्योरिटी डेट तक रेगुलर इंटरवल पर उसे ब्याज मिलता है. यह सिंगल टाइम इन्वेस्टमेंट होता है और इसमें हर महीने जमा करने की जरूरत नहीं होती है. मेच्योरिटी तक इसमें से पैसा नहीं निकाल सकते. अगर मेच्योरिटी के पहले पैसा निकालने की जरूरत पड़ती है तो इस पर पेनल्टी देनी पड़ती है. बैंक के अलावा बाजार में कॉरपोरेट एफडी भी मौजूद है, जहां बैंक की तुलना में ब्याज ज्यादा है.

क्या है कॉरपोरेट FD

यहां समझना जरूरी होगा कि बैंक और कॉरपोरेट एफडी में अंतर क्या है. कॉरपोरेट डिपॉजिट कंपनी द्वारा जारी की जाती है. यहां आमतौर मेच्योरिटी की अवधि 6 माह से 3 साल तक की होती है. कुछ कॉरपोरेट एफडी इससे भी लंबी अवधि के होते हैं. कॉरपोरेट एफढी में ब्याज दर बैंक एफडी की तुलना में ज्यादा होती है. यह कंपनियों के कारोबार से जुड़ी होती है, इसलिए इसमें बैंक की तुलना में जोखिम कुछ अधिक होता है. मसलन अगर कंपनी डिफाल्ट कर गई तो पैसा फंसने का डर होता है. हालांकि मजबूत और ज्यादा रेटिंग वाली कंपनियों की एफडी में जोखिम कम होता है. यह बिल्कुल उसी तरह से काम करती है, जैसे बैंक एफडी. इसके लिए फॉर्म कंपनी जारी करती है, जिसे आनलाइन भी भर सकते हैं.

वहीं, बैंक एफडी बैंकों द्वारा जारी की जाती है. इसमें ब्याज दर औसत होती है. मेच्योरिटी की अवधि 7 दिन से 5 साल और 10 साल तक हो सकती है. इसमें कॉरपोरेट एफडी की तुलना में रिस्क लो होता है. इसमें डिफाल्ट या पैसया डूबने का खतरा ना के बराबर है.

कॉरपोरेट FD जारी करने वाली कंपनियां

बजाज फाइनेंस
ब्याज दर: 1 साल से 5 साल की एफडी पर 7.72 फीसदी से 8.75 फीसदी.
रेटिंग: CRISIL— FAAA, ICRA— MAAA

महिंद्रा फाइनेंस

ब्याज दर: 1 साल से 5 साल की एफडी पर 7.3 फीसदी से 8.55 फीसदी.
रेटिंग: CRISIL— FAAA

PNB हाउसिंग स्पेशल डिपॉजिट

ब्याज दर: 22 महीने की मेच्योरिटी पर 7.5 फीसदी सालाना
रेटिंग: CRISIL- FAAA

PNB हाउसिंग (upto Rs. 5 Cr.)

ब्याज दर: 7.25 फीसदी से 7.5 फीसदी सालाना
रेटिंग: CRISIL- FAAA

HDFC (upto Rs 2Cr)

ब्याज दर: अधिकतम 7.4 फीसदी
रेटिंग: CRISIL— FAAA

ICICI होम फाइनेंस

ब्याज दर: अधिकतम 7.5 फीसदी
रेटिंग: ICRA—MAAA, CARE—AAA

इसके अलावा भी कुछ कंपनियां मसलन श्रीराम ट्रांसपोर्ट, डीएचएफएल, केरला ट्रांसपोर्ट डेवलपमेंट फाइनेंस कॉरपोरेशन L&T फाइनेंस लि., इंडियाबुल्स हाउसिंग, LIC हाउसिंग फाइनेंस भी एफडी आफर कर रही हैं, जिनका अधिकतम ब्याज 8.5 फीसदी सालाना तक है.

बैंक FD पर कितना ब्याज

बड़े बैंकों की बात करें, तो भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) 5.7 फीसदी के करीब सालाना ब्याज दे रहा है. वहीं एचडीएफसी बैंक और आईसीआईसीआई बैंक 6 फीसदी से 6.25 फीसदी सालाना ब्याज दे रहे हैं. बैंक आफ बड़ौदा, पीएनबी जैसे बैंकों में भी 5 साल की एफडी पर इसी के आस पास ब्याज मिल रहा है.

कॉरपोरेट FD चुनते समय ये बातें ध्यान रहें

  • अगर AAA या AA रेटिंग वाली कंपनियां एफडी आफर कर रही हैं तो उनमें निवेश किया जा सकता है. यानी निवेश से पहले कंपनी की क्रेडिट रेटिंग जरूर देखें. जितनी बेहतर कंपनी की रेटिंग होगी उतना ही कम जोखिम होता है.
  • कई बार कम रेटिंग वाली कंपनियां ज्यादा ब्याज देती हैं लेकिन सुरक्षा अधिक रेंटिंग वाली कंपनियों में होता है.
  • कॉरपोरेट एफडी के मामले में लंबी अवधि की बजाए छोटी अवधि की स्कीम को चुनें. छोटी अवधि की एफडी पर रिस्क कम हो जाता है.
  • बैंक एफडी के मुकाबले कंपनी के एफडी में केवल तभी निवेश करें जब दोनों के बीच अंतर 3 से 4 फीसदी तक हो.
  • कॉरपोरेट एफडी में निवेश करने से पहले उस कंपनी का 10-20 साल का रिकॉर्ड देख लें. उन्हीं कंपनियों के डिपॉजिट में निवेश करें जो मुनाफा कमा रही हैं और जो आपको 5 साल से डिविडेंड दे रही हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. क्या होता है कॉरपोरेट FD, बैंक डिपॉजिट से कितना अलग? निवेश से पहले इन बातों का जरूर रखें ध्यान

Go to Top