Warren Buffett कैसे बनाते हैं पैसे से पैसा, किताब में हुआ खुलासा

किताब तीन भागों में है. पहला भाग 1957 से 1968 के बीच, दूसरा 1968-1990 के बीच और तीसरा और आखिरी भाग 1990 के बाद से बर्कशायर हैथवे को लेकर है.

warren buffett quotes, warren buffett books, warren buffett biography, warren buffett company, warren buffett bio in hindi, warren buffett investment quotes, warren buffett investment principles, warren buffett investment strategy, warren buffett on bitcoin
किताब तीन भागों में है. पहला भाग 1957 से 1968 के बीच, दूसरा 1968-1990 के बीच और तीसरा और आखिरी भाग 1990 के बाद से बर्कशायर हैथवे को लेकर है. (Reuters)

दिग्गज निवेशक वॉरेन बफे के निवेश का तरीका डिकोड कर लिया गया है. 1950 के दशक के बाद वॉरेन बफे और उनके पार्टनर्स ने 20वीं शताब्दी की सबसे लाभदायक, ट्रेंडसेटिंग कंपनियों में से कुछेक का समर्थन किया है और एक नई किताब जो 1950 के दशक के अंत में शुरू होने वाले अपने करियर के माध्यम से यात्रा करके अपने निवेश की महत्वपूर्ण चीजों को उजागर करने की कोशिश करती है. Inside the Investments of Warren Buffett: Twenty Cases किताब में, पोर्टफोलियो मैनेजर येफेई लू उन बफे द्वारा निवेश किए गए उन 20 विशिष्ट निवेशों के बारे में बताते हैं जो साइज़ या विशेष कारणों से विशेष थे.

iPhone नहीं इस्तेमाल करने वाले वॉरेन बफेट Apple को क्यों खरीदना चाहते हैं?

किताब तीन भागों में है. बफे ने पहले पांच प्रमुख इन्वेस्टमेंट 1957 से 1968 के बीच किए जब वह बफे पार्टनरशिप लिमिटेड चला रहे थे, बर्कशायर हैथवे से पहले जब वह प्राइवेट इन्वेस्टमेंट पार्टनरशिप में काम कर रहे थे. दूसरा भाग, जब बफे ने 1968-1990 के बीच 9 निवेश किए, पहले दो दशक जब बर्कशायर हैथवे निवेश लाने का जरिया था. किताब का तीसरा भाग 1990 के बाद से बर्कशायर हैथवे को लेकर है.

क्या हुआ जब Candy Store पहुंचे वॉरेन बफे और बिल गेट्स

यह किताब अधिकतर बायोग्राफी की तरह नहीं है. इस किताब को HarperCollins India ने दोबारा छापा है. किताब में वॉरेन बफे के निवेशों को लेकर बताया गया है. येफेई, बफे की रूचि को लेकर बताते हैं कि 1958 में सैनबर्न मैप कंपनी के साथ बफे 19 बड़ी कंपनी जैसे कि सीज कैंडीज, द वाशिंगटन पोस्ट, गीको, कोका-कोला, यूएस एयर, वेल्स फार्गो और आईबीएम के एक्सेसिंग पार्टनरशिप लेटर्स, कंपनी डाक्यूमेंट्स, सालाना रिपोर्ट, थर्ड पार्टी रिफरेन्स आदि को ट्रैक करते थे.

लेखक यह बताते हैं कि बफे की टाइमिंग, आउटसाइड नॉलेज और निवेश के बाद के कार्यों में अलग क्या है और वह बताते हैं कि यदि इन चीजों पर ध्यान दिया जाए तो बड़ी और छोटी, घरेलू और वैश्विक कंपनियों में निवेश से बेहतर रिटर्न मिल सकता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

Financial Express Telegram Financial Express is now on Telegram. Click here to join our channel and stay updated with the latest Biz news and updates.

TRENDING NOW

Business News