मुख्य समाचार:
  1. बंधक रखी गई संपत्ति ख़रीदने से पहले इन जरूरी बातों को समझ लें

बंधक रखी गई संपत्ति ख़रीदने से पहले इन जरूरी बातों को समझ लें

बंधक रखी गई संपत्ति को खरीदने की प्रक्रिया, एक नई परियोजना वाली संपत्ति को खरीदने या पहले से बिक चुकी संपत्ति को फिर से खरीदने की प्रक्रिया से अलग होती है.

June 20, 2018 4:55 PM
buying property in india, assets meaning in hindi, assets and liabilities in hindi, stamp duty, bank papers, business news in hindiबंधक रखी गई संपत्ति को खरीदने की प्रक्रिया, एक नई परियोजना वाली संपत्ति को खरीदने या पहले से बिक चुकी संपत्ति को फिर से खरीदने की प्रक्रिया से अलग होती है.

एक संपत्ति खरीदना एक थकाऊ काम हो सकता है और एक पसंदीदा संपत्ति के लिए एक अच्छा सौदा ढूंढना, चुनौती का काम है. नई परियोजनाओं के बजाय, अक्सर बंधक रखी गई संपत्तियां, संभावित खरीदारों के लिए काफी आकर्षक होती हैं.

लेकिन एक बंधक रखी गई संपत्ति को खरीदने की प्रक्रिया, एक नई परियोजना वाली संपत्ति को खरीदने या पहले से बिक चुकी संपत्ति को फिर से खरीदने की प्रक्रिया से अलग होती है. यदि आप एक बंधक रखी गई संपत्ति को खरीदना चाहते हैं जो आपके मन मुताबिक़ है लेकिन आपको पता नहीं है कि इसे कैसे खरीदना चाहिए तो इसे खरीदने के फायदों के साथ-साथ इसे खरीदने की प्रक्रिया के बारे में जानने के लिए आगे पढ़ें.

एक बंधक रखी गई संपत्ति को खरीदने के फायदे

इसमें कोई शक नहीं कि एक बंधक रखी गई संपत्ति को खरीदते समय काफी पेपरवर्क करना पड़ेगा. लेकिन, इसे खरीदने के कई फायदें भी हैं:

  • बंधक रखी गई संपत्तियों को अक्सर काफी छूट के साथ बेचा जाता है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि कुछ समय तक उनका इस्तेमाल किया गया होता है और उसमें थोड़ी टूट-फूट भी रह सकती है. इसलिए, यदि आप एक बंधक रखी गई संपत्ति को खरीदना चाहते हैं तो आपको कम कीमत पर एक तैयार संपत्ति मिल सकती है जिसे खरीदने के बाद आप उसमें तुरंत रहना शुरू कर सकते हैं.
  • बिक्री के लिए मौजूद बंधक वाली संपत्तियां अक्सर बहुत पुरानी नहीं होती हैं जो काफी हद तक 10 साल से कम पुरानी ही होती हैं. उस संपत्ति के मालिक ने शायद उस इलाके में उस संपत्ति की असली कीमत में उतार-चढ़ाव के कारण उस संपत्ति को बेचने का फैसला किया हो, इस तरह आपको उस इलाके में अन्य महंगी संपत्तियों की तुलना में एक अच्छा सौदा मिल सकता है.
  • इस तरह की संपत्ति के लिए होम लोन का मूल्यांकन करना, ज्यादा आसान होगा क्योंकि उस संपत्ति के मूल्य का रिकॉर्ड पहले से मौजूद होगा और पिछले मालिक ने शायद पहले से ही सारा अप्रूवल ले लिया होगा. यदि आप उसी लोन कंपनी या बैंक से लोन लेते हैं जिसने पिछले मालिक को लोन दिया था तो आपका काफी समय बच सकता है वर्ना किसी अन्य लोन कंपनी या बैंक के पास लोन के लिए एप्लाई करने पर आपको संपत्ति के मूल्यांकन और दस्तावेज के सत्यापन पर काफी समय खर्च करना पड़ सकता है.

जरूरी दस्तावेज

एक बंधक वाली संपत्ति को खरीदने के लिए लगने वाले दस्तावेज, इस आधार पर थोड़े अलग हो सकते हैं कि खरीदार अपने पैसों से उस संपत्ति को खरीद रहा है या एक होम लोन लेकर.

  • सेल डीड या बिक्रीनामा: यह सबसे जरूरी दस्तावेज है. असली वसीयत बेशक बैंक के पास ही रहेगी लेकिन विक्रेता से उसकी फोटोकॉपी जरूर प्राप्त कर लें ताकि यह पता चल सके कि वही उस संपत्ति का असली मालिक है या नहीं और बैंक से पूछकर भी इस बात की पुष्टि कर लें.
  • टैक्स रसीद: आपको दस्तावेज से संबंधित नवीनतम टैक्स रसीद प्राप्त करनी होगी जिससे यह पता लग सके कि राज्य सरकार के नियमों के अनुसार नगर निगम, पानी या किसी अन्य टैक्स का पेमेंट किया गया है या नहीं. हो सकता है कि संपत्ति का इस्तेमाल न हो रहे होने के कारण कुछ टैक्स बकाया हो, इसलिए विक्रेता को दी जाने वाली रकम में से बकाया टैक्स की रकम जरूर काट लें.
  • स्टाम्प ड्यूटी: संपत्ति के रजिस्ट्रेशन के दौरान कितना पैसा लगेगा, इसका पता लगाने के लिए सरकार को दी गई स्टाम्प ड्यूटी की कॉपियां जरूर प्राप्त कर लें.
  • बैंक से चिट्ठी: विक्रेता को बैंक से एक चिट्ठी प्राप्त करनी पड़ेगी जहाँ उस संपत्ति को बंधक रखा गया है, जिसमें बैंक इस बात का उल्लेख करेगा कि वे बकाया होम लोन का पूरा पेमेंट होने के बाद संपत्ति के असली दस्तावेज लौटाने के लिए सहमत हैं.

जो लोग होम लोन लेकर एक नई संपत्ति खरीदना चाहते हैं उन लोगों के मामले में, विक्रेता को सबसे पहले होम लोन का पूरा पेमेंट करना होगा. लोन को विक्रेता से खरीदार के नाम पर ट्रांसफर करना संभव नहीं है. इसके लिए, आपको सबसे पहले संपत्ति के लिए होम लोन हासिल करने की प्रक्रिया से गुजरना पड़ेगा. आपका लोन अप्रूव होने के बाद ही आप विक्रेता के लोन को क्लोज करने का काम शुरू कर सकते हैं. यदि आप उसी लोन कंपनी या बैंक से लोन ले रहे हैं तो आपके लोन का इस्तेमाल करके पुराने लोन अकाउंट को बंद किया जा सकता है और वह लोन कंपनी या बैंक, विक्रेता को एक्स्ट्रा अमाउंट लौटा देगा. आपका लोन अप्रूव होने के बाद और पुराना लोन क्लोज होने के बाद वह लोन कंपनी या बैंक, असली कागजात लौटा देगा.

पैन कार्ड: यह एक बहुत जरूरी दस्तावेज है क्योंकि आपके टैक्स से जुड़े विवरणों को इसी के माध्यम से रिकॉर्ड किया जाएगा.

विविध दस्तावेज: कोई अन्य दस्तावेज जिसकी जरूरत, संपत्ति खरीदने के लिए पड़ सकती है या संपत्ति के स्थान पर राज्य और स्थानीय सरकार द्वारा मांगी जा सकती है. कुछ सरकारें और स्थानीय निकाय, आपसे उस संपत्ति को खरीदते समय डोमिसाइल सर्टिफिकेट या इसी तरह के अन्य दस्तावेज मांग सकते हैं.

इन बातों के अलावा यह भी याद रखें कि बंधक रखी गई संपत्ति को खरीदने के नियम, अलग-अलग तरह की संपत्ति को खरीदने के आधार पर अलग-अलग होते हैं. अपार्टमेंट के लिए अलग नियम है और स्वतंत्र मकानों के लिए अलग नियम है, जबकि जमीन के एक टुकड़े को बेचने से जुड़े नियम, खरीदने के नियमों और प्रक्रियाओं से अलग होते हैं. इसलिए, एक बंधक रखी गई संपत्ति को खरीदने के लिए आगे बढ़ने से पहले कानूनी सलाह लेना हमेशा बेहतर होता है.

इसके लेखक बैंकबाज़ार के सीईओ आदिल शेट्टी हैं.

Go to Top