इन 5 जगहों पर है निवेश का बेहतर मौका, उम्र भर नहीं होगी पैसे की किल्लत

यह जानते हुए भी कि रिटायरमेंट प्लानिंग, फाइनेंसियल प्लानिंग का सबसे महत्वपूर्ण भाग है, भारतीय इस पर उतना ध्यान नहीं देते हैं.

top 5 investment plan in india 2018, top 5 systematic investment plan, 5 best investment plan, best investment plan in india for short term, best investment plan in india for log term, best investment plans in sbi, best investment plans for 5 years, invest in hindi, investment in hindi, business news in hindi
यह जानते हुए भी कि रिटायरमेंट प्लानिंग, फाइनेंसियल प्लानिंग का सबसे महत्वपूर्ण भाग है, भारतीय इस पर उतना ध्यान नहीं देते हैं.

अभी के दौर में हम सभी अपने सपने को पूरे करने के लिए काम करते हैं. कई दफा लोग सिर्फ वर्तमान को लेकर सोचते हैं लेकिन उन्हें भविष्य के लिए सोचना चाहिए और ख़ासकर रिटायरमेंट के बाद के लिए. रिटायरमेंट प्लानिंग सभी के लिए हाई प्रायोरिटी गोल होनी चाहिए. यह जानते हुए भी कि रिटायरमेंट प्लानिंग, फाइनेंसियल प्लानिंग का सबसे महत्वपूर्ण भाग है, भारतीय इस पर उतना ध्यान नहीं देते हैं.

रिटायरमेंट के लिए प्लानिंग कोई कठिन काम नहीं है. रिटायरमेंट फंड बनाने के सबसे आम और आसान तरीकों में से एक है विभिन्न वित्तीय उत्पादों का एक पोर्टफोलियो बनाना जो रिटायरमेंट के बाद भी आपको बेहतर आय देता रहे.

मौजूदा वक्त में रिटायरमेंट के लिए नीचे कुछ बेहतरीन निवेश विकल्प दिए गए हैं:

Stocks

सावधानी से यदि स्टॉक्स में निवेश किया गया जाए तो यह लॉन्ग-टर्म में बेहतर रिटर्न दे सकते हैं. सामान्यतः यह एक दीर्घकालिक निवेश होता है, तो आप उन बढ़िया लार्ज कैप और मिड कैप स्टॉक्स पर ध्यान दें जिसने बेहतर प्रदर्शन किया और और आगे भी बेहतरी की उम्मीद हो.

Stock Market में निवेश करने से पहले इन 10 बातों को आत्मसात कर लें

किसी भी स्टॉक को खरीदने से पहले उसके बारे में पूरी जानकारी रखें और रिसर्च करें. अगर कोई स्टॉक लगातार बेहतर प्रदर्शन कर रहा है तो इसका मतलब है कि कंपनी बेहतर कर रही रही है लेकिन इसका मतलब यह कतई नहीं है कि वह स्टॉक भविष्य में भी बेहतर रिटर्न दे. ऐसे प्रोडक्ट वाले कंपनियों पर भी ध्यान दें जिनकी मांग आने वाले वक्त में बढ़ने की उम्मीद हो.

ऐसे जानिए आपके Stocks बेहतर रिटर्न देंगे या नहीं

Mutual Funds

म्यूचुअल फंड एक और निवेश का जरिया है जहां आप एकमुश्त राशि निवेश कर सकते हैं या एसआईपी रूट ले सकते हैं. आपको लार्ज-कैप, मिडकैप, विविध और स्माल कैप्स जैसे फंडों को देखना चाहिए. इसके लिए आप अपने वित्तीय सलाहकार की मदद ले सकते हैं जो आपके रिटायरमेंट पोर्टफोलियो बनाने में मदद करेंगे और उस पर निगरानी रखेंगे.

Mutual Fund Investment: म्यूचुअल फंड में निवेश कर बेहतर रिटर्न कैसे पाएं?

म्यूचुअल फंड लंबे वक्त तक रिटायरमेंट के लिए रकम बनाने या संपत्ति बनाने के लिए निवेशकों का सबसे लोकप्रिय और स्मार्ट तरीके में से एक माना जाता है. एक म्यूचुअल फंड के निवेश पोर्टफोलियो का निरंतर निगरानी फंड के पोर्टफोलियो प्रबंधक या प्रबंधकों द्वारा किया जाता है. सही म्यूचुअल फंड में निवेश से सबसे अच्छा संभव रिटर्न हो सकता है.

Mutual Fund Investment: 10 म्यूचुअल फंड जो आपके निवेश को 5 साल में दोगुना कर देंगे

Public Provident Fund (PPF)

PPF एक और निवेश के लिए बेहतर ऑप्शन है. PPP की खासियत यह कि इसके लिए रिटर्न फिक्स्ड रहता है. चूंकि इसे सरकारी संरक्षण मिला हुआ है, इसलिए यहां निवेश करना सुरक्षित है. किसी तरह का कोई ख़तरा नहीं है. PPP में 500 रुपये न्यूनतम निवेश किया जा सकता है. PPF खाता बैंक या पोस्ट ऑफिस के जरिए खोला जा सकता है और निवेश किया जा सकता है.

PPF के बारे में यह 5 बातें शायद नहीं जानते हैं आप!

PPF, EEE या ‘exempt, exempt, exempt’ पर काम करता है, जहां रिटर्न, टैक्स फ्री है, मैच्योरिटी अमाउंट टैक्स फ्री है और निवेश आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत कटौती के लिए अर्हता प्राप्त करते हैं.

PPF अकाउंट खोलने से पहले 10 बेहद जरुरी बातें जान लीजिए

PPF निवेशक तीसरे वित्तीय वर्ष के बाद ऋण का लाभ उठा सकता है. यह सुविधा 5 वें वित्तीय वर्ष तक उपलब्ध है और साल में एक बार ऋण लिया जा सकता है. PPP खाता के 15 साल पूरे होने के बाद इसे 5 साल के लिए और बढ़ाया जा सकता है. ऐसा निवेशक जो सुरक्षित निवेश और फिक्स्ड रिटर्न चाहता हो वह PPF में निवेश कर सकता है. इस योजना के साथ एकमात्र दिक्कत यह है कि पीपीएफ की रिटर्न दर पिछले कुछ सालों में नीचे आई है.

Rental Real Estate

किराया, संपत्ति आय के लिए स्थिर स्रोत प्रदान कर सकते हैं. हालांकि, आपको कमर्शियल स्पेस में निवेश करने की सलाह दी जाती है जो आपको पहले दिन से रिटर्न दे सकती है. हालांकि, बिना जाने-समझे रियल एस्टेट में निवेश न करें. निवेश करने से पहले रिसर्च और पेपर वर्क सही से करें. अधिकतर यही होता है कि लोग रियल एस्टेट में निवेश करना इसलिए शुरू कर देते हैं क्योंकि उनके किसी नजदीकी या रिश्तेदारों को इसमें बेहतर रिटर्न मिल रहा हो. यह एक महत्वपूर्ण फैसला होता है. किसी ने रियल एस्टेट सेक्टर में बेहतर किया है इस कारण आप भी रियल एस्टेट में निवेश करना शुरू कर दें, यह सही कारण नहीं है. किसी प्रोफेशनल की मदद लें जो आपको बेहतर सलाह दे सके. कमर्शियल प्रॉपर्टी लेते वक्त हमेशा बेहतर लोकेशन चुनें. यदि लोकेशन बेहतर होगा तो समय के साथ रिटर्न भी बढ़ता जाएगा.

Bonds

एक Bond एक Debt की स्वीकृति है जिसका अर्थ है कि जब कभी आप कोई Bond खरीदते हैं तो आप सरकार या निगम को ऋण के रूप में अपना पैसा देते हैं. जो कोई भी उधार लेता है, वह आपको निश्चित समय के लिए ब्याज देता है. ब्याज के जरिए जो रिटर्न आपको मिलता है वह आपके रिटायरमेंट इनकम के लिए बेहतर साधन हो सकता है. आम तौर पर high-yield bonds उच्च कूपन दरों का भुगतान करते हैं, लेकिन इनकी रेटिंग कम होती है जो उन्हें थोड़ा जोखिम भरा बनाती है. आपको उच्च-गुणवत्ता वाले बॉन्ड में निवेश करना चाहिए जिनके पास AAA रेटिंग हो. यह ध्यान में रखा जाना चाहिए कि ब्याज दर में परिवर्तन के रूप में Bond का मूल्य उतार-चढ़ाव भरा होगा. जब ब्याज दर बढ़ जाती है, तो बॉन्ड की कीमतें नीचे जाती हैं. हालांकि, अगर आप परिपक्वता तक इन बॉन्ड को पकड़ते हैं, तो उतार-चढ़ाव से कोई फर्क नहीं पड़ता है.

इसके लेखक अमित कचरू, AANEEV Wealth के मैनेजिंग पार्टनर हैं.

(Disclaimer: ये विचार लेखक के हैं, FE.com के नहीं. किसी भी उत्पाद में निवेश करने से पहले अपने वित्तीय सलाहकार से परामर्श लें.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

Financial Express Telegram Financial Express is now on Telegram. Click here to join our channel and stay updated with the latest Biz news and updates.

TRENDING NOW

Business News