सर्वाधिक पढ़ी गईं

बैंक में एफडी पर मिलने वाले ब्याज पर कटता है TDS, जल्द जमा करें Form 15G/15H; इन्हें जमा करना है यह फॉर्म

अगर आपने बैंक में FD कराया है तो यह सुनिश्चित करने का समय आ गया है कि बैंक इस निवेश पर मिलने वाले ब्याज पर TDS न काटे.

April 14, 2021 4:18 PM
TDS on fixed deposit interest Time to submit Form 15G 15H to your banker know here in detailsबैंक एफडी पर मिलने वाले ब्याज पर निवेशकों को ही टैक्स चुकाना होता है और बैंक इस पर टीडीएस लगाती है जिसे इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) फाइलिंग के दौरान एडजस्ट किया जाता है.

अगर आपने बैंक में फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) कराया है तो यह सुनिश्चित करने का समय आ गया है कि बैंक इस निवेश पर मिलने वाले ब्याज पर TDS (टैक्स डिडक्शन ऐट सोर्स) न काटे. अगर आप टैक्स पेमेंट करने के दायरे में नहीं आते हैं तो बैंक एफडी पर टीडीएस नहीं काटेगा लेकिन अगर बैंक की एफडी पर आपको किसी एक वित्तीय वर्ष में 40 हजार से अधिक का ब्याज प्राप्त होता है तो बैंक टीडीएस जरूर काटेगा. हालांकि इनकम एग्जेंप्टेड स्लैब में आने पर बैंक टीडीएस नहीं काटेगा. वरिष्ठ नागरिकों के लिए किसी वित्त वर्ष में .यह सीमा 50 हजार रुपये की है. इसके लिए बैंक के पास फॉर्म 15जी/फॉर्म 15एच जमा करना होता है. अगर आपने पहले ही प्रीवियस इयर में फिक्स्ड डिपॉजिट्स को लेकर ये फॉर्म जमा कर दिए हैं, तो भी इसे फिर से जमा करना होगा.
बैंक एफडी पर मिलने वाले ब्याज पर निवेशकों को ही टैक्स चुकाना होता है और बैंक इस पर टीडीएस लगाती है जिसे इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) फाइलिंग के दौरान एडजस्ट किया जाता है.

डिविडेंड इनकम पर TDS: अगर आपके पास टैक्सेबल इनकम नहीं है, तो कैसे मिलेगी राहत ?

बिना Pan एफडी ब्याज पर 20% का TDS

बैंक एफडी से होने वाली ब्याज आय पर टीडीएस 10 फीसदी की दर से लगता है लेकिन अगर आपने पैन नहीं दिया है तो इस पर 20 फीसदी की दर से टीडीएस कटेगा. ऐसे में अगर आप 30 फीसदी के उच्चतम टैक्स ब्रेकेट में आते हैं तो 10 फीसदी की दर से टीडीए चुकाना ही काफी नहीं होगा. इसके अलावा जिनकी आय एग्जेंप्टेड लिमिट से ऊपर नहीं है, वे बैंक को सूचित कर सकते हैं कि टीडीएस न काटा जाए.
इस प्रकार की सूचना आमतौर पर किसी वित्त वर्ष की शुरुआत में बैंक के पास फॉर्म 15जी/फॉर्म 15एच जमा कर दी जाती है. फॉर्म 15एच ऐसे इंडिविजुअल्स के लिए है जिनकी आय 60 वर्ष से अधिक है और फॉर्म 15जी ऐसे सभी अन्य लोगों के लिए है जिनकी कुल आय उस अधिकतम राशि से अधिक नहीं होती है, जिस पर इनकम टैक्स नहीं चुकाना पड़ता है.

ये लोग जमा कर सकते हैं Form 15G/Form H

आयकर अधिनियम के मुताबिक ये फॉर्म सिर्फ वहीं लोग सबमिट कर सकते हैं जिनकी आय एग्जेंप्शन लिमिट से कम हो. 60 वर्ष से कम की उम्र के लोगों के लिए 2.5 लाख रुपये तक की आय एग्जेंप्टेड है. 60 वर्ष से अधिक और 80 वर्ष से कम की उम्र के लोगों के लिए 3 लाख रुपये तक की आय टैक्स एग्जेंप्टेड है. 80 साल से अधिक की उम्र के लोगों के लिए 5 लाख रुपये तक की आय पर कोई टैक्स लाइबिलिटी नहीं बनती है. एग्जेंप्शन लिमिट से कम आय वाले लोग बैंक एफडी पर मिलने वाले ब्याज पर टीडीएस नहीं काटने को लेकर बैंक के पास फॉर्म 15जी/फॉर्म 15एच जमा कर सकते हैं.
(Article: Sunil Dhawan)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. बैंक में एफडी पर मिलने वाले ब्याज पर कटता है TDS, जल्द जमा करें Form 15G/15H; इन्हें जमा करना है यह फॉर्म

Go to Top