सर्वाधिक पढ़ी गईं

Tax Saving: जब टैक्स की आए बात, तो न दोहराएं मां-बाप की ये गलतियां

जब भी टैक्स सेविंग की बात आती है तो हम अक्सर अपने आस-पास के लोगों, खासकर अपने माता-पिता को फॉलो करते हैं.

January 3, 2019 8:14 AM

tax saving Avoid These Tax Planning Mistakes

जब भी टैक्स सेविंग की बात आती है तो हम अक्सर अपने आस-पास के लोगों, खासकर अपने माता-पिता को फॉलो करते हैं. उनके द्वारा चुने गए टैक्स सेविंग ऑप्शंस में पैसा लगाना ही सेफ समझते हैं. लेकिन जरूरी नहीं है कि वे इंस्ट्रूमेंट हमारे लिए भी सही ही हों. ऐसा इसलिए कि हर किसी की वित्तीय स्थिति, उस वक्त के हालात आदि में अंतर होता है. ऐसा भी हो सकता है कि जानकारी के अभाव या उस वक्त सीमित ऑप्शंस के चलते हमारे पेरेंट्स ने अपने इन्वेस्टमेंट प्लान चुने हों. ऐसे में उनसे कुछ गलतियां होने की गुंजाइश बन जाती है, जिन्हें आपको नहीं दोहराना चाहिए. आइए बताते हैं ऐसी ही 5 संभावित गलतियों के बारे में-

बिना टैक्स अमाउंट जाने इन्वेस्टमेंट

यह बात जान लें कि टैक्स आपकी टोटल इनकम पर लगता है, न कि केवल आपकी सैलरी पर. इसलिए इसके तहत आपकी अन्य सोर्सेज से होने वाली इनकम भी आती है. यह FD से आने वाला ब्याज, म्यूचुअल फंड्स या शेयर मार्केट्स से होने वाला गेन, फंड की प्राप्ति आदि भी हो सकता है. इसके अलावा पार्ट टाइम जॉब से होने वाली कमाई भी टैक्स के दायरे में आती है. इसलिए अपनी टैक्स लायबिलिटी समझने के लिए इन सभी चीजों पर ध्यान दें. अपने सभी इनकम सोर्सेज को जोड़कर ही आप ​दिए जाने वाले टैक्स का अनुमान लगा सकते हैं और ऐसा होने पर आप जरूरत के हिसाब से इन्वेस्टमेंट कर सकते हैं.

लाइफ इंश्योरेंस की जरूरत न होने पर भी ले लेना

टैक्स बचाने के लिए ज्यादातर लोग लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी का सहारा लेते हैं. लेकिन इसमें निवेश केवल टैक्स सेविंग के लिए नहीं करना चाहिए और न ही इसे टैक्स बचाने का पहला साधन मानना चाहिए.

लाइफ इंश्योरेंस में निवेश करने से पहले यह चेक कर लें कि सेक्शन 80C के तहत आपके अन्य इन्वेस्टमेंट से आपकी पूरी टैक्स बचत हो रही है या नहीं. अगर हां तो आपको इंश्योरेंस लेने की जरूरत नहीं है. साथ ही अगर आपके पास पहले से उचित इंश्योरेंस है तो नई पॉलिसी लेने की जरूरत नहीं है. लेकिन अगर आपके अन्य इन्वेस्टमेंट पूरी टैक्स छूट का लाभ नहीं दिलवा पा रहे हैं तो आपको इंश्योरेंस पॉलिसी लेने पर विचार करना चाहिए.

Tax Saving: टैक्स सेविंग के साथ चाहिए हायर रिटर्न, ELSS बन सकती है अच्छा ऑप्शन

बिना रिसर्च किसी प्लान में पैसा लगा देना

अक्सर ऐसा होता है कि आपका बैंक रिलेशनशिप मैनेजर, पड़ोसी, रिश्तेदार या ऑफिस कलीग कहते हैं उनके पास टैक्स सेविंग के बेस्ट ऑप्शंस हैं. तो आप भी उन्हें ले सकते हैं. लेकिन किसी भी इंस्ट्रूमेंट में इन्वेस्ट करने से पहले पूरी रिसर्च कर लें. अलग-अलग प्लान्स को कंपेयर करें और उनसे जुड़े टैक्स बेनिफिट्स व कमियों को लेकर जानकारी जुटा लें. अगर आप फैसला नहीं ले पा रहे हैं तो किसी फाइनेंशियल एक्सपर्ट की मदद लें.

इंप्लॉयर या पेरेंट्स के हेल्थ इंश्योरेंस कवर पर निर्भर रहना

हेल्थ इंश्योरेंस के मामले में अपने लिए अलग से कवर लें. फिर भले ही आप अपने पेरेंट्स की इंश्योरेंस पॉलिसी और इंप्लॉयर द्वारा लिए गए ग्रुप इंश्योरेंस में कवर होते हों. यह इंश्योरेंस कवर के मामले में तो लाभ देगा ही, साथ ही टैक्स के मोर्चे पर आपको इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80डी के तहत प्रीमियम पर 25000 रुपये तक की टैक्स छूट भी मिलेगी. अगर आप अपने पेरेंट्स के लिए भी हेल्थ इंश्योरेंस प्रीमियम भरते हैं तो अगर वे 60 साल से कम उम्र के हैं तो अतिरिक्त 25000 तक की छूट आप क्लेम कर सकते हैं. वहीं अगर वे 60 साल की उम्र से ज्यादा के हैं तो ऐसे में इंश्योरेंस प्रीमियम पर अतिरिक्त 50000 रुपये तक की छूट का क्लेम किया जा सकता है.

फाइनल रिटर्न के बारे में न सोचना

किसी भी प्लान में इन्वेस्ट करने से पहले उसके रिटर्न के बारे में जरूर पता कर लें. फिर भले ही आप केवल टैक्स सेविंग के लिए ही इन्वेस्ट क्यों न कर रहे हों. ऐसा इसलिए ताकि आपको डबल बेनिफिट रहे.

सैलरीड क्लास इन 13 जगहों पर बचा सकते हैं इनकम टैक्स

होम लोन के लिए हड़बड़ी

होम लोन घर लेने में तो काम आता ही है, साथ ही सेक्शन 24, 80C और 80EE के तहत इसके जरिए टैक्स छूट का लाभ भी लिया जा सकता है. लेकिन जरूरी नहीं है कि होम लोन टैक्स सेविंग के लिए एक अच्छी चॉइस साबित हो. इसकी वजह आपकी वित्तीय स्थिति, करियर प्रोग्रेशन रेट आदि हैं, जो हर किसी के मामले में समान नहीं होती हैं.

अगर होम लोन लेना ही चाहते हैं तो इसके लिए अपनी फाइनेंस को प्लान करें, EMI खर्च का अनुमान लगाकर खुद पर आने वाले अतिरिक्त वित्तीय बोझ का आकलन करें.

(इसके लेखक आदिल शेट्टी बैंक बाजार डॉट कॉम के सीईओ हैं.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. Tax Saving: जब टैक्स की आए बात, तो न दोहराएं मां-बाप की ये गलतियां

Go to Top