सर्वाधिक पढ़ी गईं

ITR Filing से चूके हैं तो अधिक दरों पर लगेगा TDS, पूरी कैलकुलेशन समझें यहां

टीडीएस से जुड़ा नया प्रावधान अधिक से अधिक ऐसे इंजिविजुअल्स को आईटीआर फाइल करने के लिए लाया गया है जिनकी आय टीडीएस के दायरे में आती है.

April 3, 2021 2:25 PM
Tax Alert TDS to be levied at higher rate for non-filers of ITRs Check detailsटीडीएस से जुड़ा नया प्रावधान 1 जुलाई 2021 से प्रभावी हो जाएगा.

जिन लोगों ने अपना इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) नहीं फाइल किया है और उनकी आय टीडीएस डिडक्शन की श्रेणी में आती है तो अब ऐसे टैक्सपेयर्स को अधिक दर से टीडीएस चुकाना होगा. इसके अलावा अगर ऐसे टैक्सपेयर्स के पास पैन नहीं है तो उन्हें और भी अधिक दर से टीडीएस चुकाना होगा. वित्त मंत्री के बजटीय एलान के मुताबिक यह नया टीडीएस नियम 1 जुलाई 2021 से प्रभावी हो जाएगा.
टीडीएस से जुड़ा यह नया नियम अधिक से अधिक ऐसे इंजिविजुअल्स को आईटीआर फाइल करने के लिए लाया गया है जिनकी आय टीडीएस के दायरे में आती है. नए नियम से अदिक से अधिक इंडिविजुअल टैक्सपेयर्स आईटीआर फाइल करेंगे और पारदर्शिता सुनिश्चित होगी. यह नया प्रावधान नॉन-रेजिडेंट पर नहीं लागू होगा जिनका भारत में स्थायी ठिकाना नहीं है.

मजदूरों-रिक्शावालों का केंद्र की पेंशन योजना से मोहभंग! FY2021 में श्रमयोगी मानधन स्कीम में नए एनरोलमेंट में आई बड़ी गिरावट

यह है नया नियम

वित्त मंत्री ने बजट 2021 में टीडीएस को लेकर इनकम टैक्स एक्ट में एक नया प्रावधान जोड़ा है. इस नए प्रावधान के तहत जिन इंडिविजुअल्स टैक्सपेयर्स ने अपना आईटीआर नहीं फाइल किया है और उनकी आय पिछले दो प्रीवियस इयर्स से 50 हजार रुपये से अधिक टीडीएस डिडक्शन की श्रेणी में आती है तो उन्हें अधिक दर से टीडीएस देना होगा. वित्त मंत्री द्वारा किए गए एलान के मुताबिक इनकम टैक्स एक्ट के उपयुक्त प्रावधानों में स्पेशिफाइड दरों का दोगुना या 5 फीसदी की दर से, जो भी अधिकतम हो, उस दर से टीडीएस चुकाना होगा.

इन पर लागू होगा नया प्रावधान

  • जिस वित्त वर्ष में टैक्स डिडक्ट की जरूरत है, उससे ठीक दो वर्ष पहले अगर आईटीआर नहीं फाइल किया है जिसके लिए आईटीआर फाइल करने की टाइम लिमिट खत्म हो चुकी हो.
  • दो प्रीवियस इयर्स में हर साल टीडीएस डिडक्शन 50 हजार रुपये या इससे अधिक हो.

इन सौदों पर नहीं होगा लागू

नया प्रावधान ब्याज, कांट्रैक्ट, प्रोफेशनल सर्विसेज, रेंट इत्यादि जैसे पेमेंट्स पर लागू होगा लेकिन जहां पर टैक्स की पूरी राशि डिडक्ट करने की जरूरत होगी, वहां यह नियम नहीं लागू होगा. इन्हें नियम से बाहर रखा गया है.

  • वेतन
  • एंप्लाई प्रोविडेंट फंड से समय से पहले निकासी
  • लॉटरी या क्राॉसवर्ड पजल्स या कॉर्ड गेम्स में जीती गई राशि
  • घुड़दौड़ में जीती गई राशि
  • सिक्योरिटीजेशन ट्रस्ट में निवेश से होने वाली आय
  • 1 करोड़ से अधिक की नगद निकासी पर टीडीएस

पैन की जानकारी न दिए जाने पर

ड्यू डेट तक आईटीआर न फाइल करने के अलावा अगर स्पेशिफाइड पर्सन ने टीडीएस चुकाने वाले को पैन की जानकारी नहीं दी है तो टीडीएस रेट 20 फीसदी से अधिक हो सकता है. नए नियम के तहत पेयर्स को भुगतान के समय टीडीएस काटने से पहले तीन बातों को प्रमाणित करना बहुत जरूरी है.

  • क्या पेयी का पिछले दो साल में टैक्स डिडक्शन 50 हजार रुपये से अधिक था?
  • जिस शख्स के ऊपर टीडीएस की देनदारी बनती है, उसने पिछले दो वर्षों में आईटीआर फाइल किया है?
  • पिछले दो प्रीवियस इयर्स में ओरिजिनल रिटर्न के लिए ड्यू डेट एक्सपायर हो चुका है? कोई पेमेंट करते समय अगर किसी भी साल के आईटीआर फाइल करने की ड्यू डेट अभी भी है तो पेमेंट के समय अधिक दरों पर टीडीएस काटने की जरूरत नहीं है.

एक उदाहरण से समझें इसे

  • मान लेते हैं कि XYZ Co. Ltd. पिछले दो वर्षों के लिए मिस्टर बी को 70 लाख रुपये का कांट्रैक्ट पेमेंट कर रही है. इस पर एक्सवाईजेड 1 फीसदी की दर से टैक्स (सालाना 70 हजार रुपये) डिडक्ट करेगी.
  • मिस्टर बी ने दोनों वर्षों में ही आईटीआर नहीं फाइल किया है और इसकी ड्यू डेट भी निकल चुकी है.
  • अब ऐसे में एक्सवाईजेड तीसरे साल में इसकी पुष्टि करने के बाद 5 फीसदी की दर से टैक्स काटेगा जो 1 फीसदी के दोगुने 2 फीसदी से अधिक है.
  • अब अगर मान लें कि मिस्टर बी ने पैन की जानकारी नहीं दी हो तो टीडीएस 20 फीसदी की दर से देना होगा जो 5 फीसदी और 2 फीसदी से अधिक है.
    (स्टोरी-अर्चित गुप्त, संस्थापक व सीईओ, क्लीयरटैक्स)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. ITR Filing से चूके हैं तो अधिक दरों पर लगेगा TDS, पूरी कैलकुलेशन समझें यहां

Go to Top