सर्वाधिक पढ़ी गईं

SBI में खुलते हैं 6 तरह के सेविंग्स अकाउंट, ये है पूरी डिटेल

इन सभी सेविंग्स अकाउंट्स की अपनी खासियत और सावधानियां हैं.

Updated: Oct 17, 2018 11:38 AM
state bank of india sbi offers 6 types of savings bank accountImage: Reuters

अगर SBI में सेविंग्‍स अकाउंट खुलवाने जा रहे हैं तो जान लें कि यहां केवल एक तरह का सेविंग्‍स अकाउंट नहीं खुलता. SBI में कस्‍टमर्स के लिए 6 तरह के सेविंग्‍स अकांउट की सुविधा है. इन सभी सेविंग्स अकाउंट्स की अपनी खासियत और सावधानियां हैं. आइए आपको बताते हैं SBI के 6 तरह के सेविंग्‍स अकाउंट की पूरी डिटेल-

1. बेसिक सेविंग्‍स बैंक अकाउंट (BSBDA)

खासियत

– कोई भी भारतीय नागरिक एकल या ज्‍वॉइंट में खोल सकता है.
– इस अकाउंट को जीरो बैलेंस पर खोल सकते हैं, साथ ही मिनिमम मंथली बैलेंस रखने का झंझट नहीं है.
– नॉर्मल सेविंग्‍स बैंक अकाउंट की तरह डिपॉजिट, बैंक या ATM से कैश विदड्रॉल, इंटरनेट बैंकिंग, फंड ट्रान्‍सफर, केन्‍द्र व राज्‍य सरकार की ओर से आने वाले चेक को डिपॉजिट करने की सुविधा है. ये सभी सर्विसेज फ्री हैं.
– BSBDA के तहत मिलने वाला रूपे एटीएम कम डेबिट कार्ड फ्री ऑफ चार्ज है, जिस पर कोई सालाना फीस नहीं है.
– BSBDA के ऑपरेशनल न रहने पर भी कोई चार्ज नहीं, अकाउंट बंद करवाने पर भी चार्ज नहीं
– नॉर्मल सेविंग्‍स अकाउंट को BSBDA अकाउंट में कन्‍वर्ट कराने की भी सुविधा है. इसके लिए लिखित में सहमति देनी होगी.
– रेगुलर सेविंग्‍स अकाउंट की ब्‍याज दर इस पर भी लागू

सावधानियां

– बैंक में एक से ज्‍यादा BSBDA नहीं खुलवा सकते.
– इस अकाउंट को खुलवाने के बाद बैंक में कोई और सेविंग्‍स अकाउंट नहीं खोल सकते. पहले से सेविंग्‍स अकाउंट है तो BSBDA खुलवाने के बाद पुराने सेविंग्‍स अकाउंट को 30 दिनों के अंदर बंद करवाना होगा. आप ऐसा नहीं करते हैं तो बैंक ऐसा कर देगा. हालांकि आप FD, करंट अकाउंट, RD जैसे अन्‍य अकाउंट रख सकते हैं.
– BSBDA से माह में 4 से ज्‍यादा विदड्रॉल नहीं किए जा सकते. इसमें अपने बैंक ATM या अन्‍य बैंक ATM से पैसे निकालना भी शामिल है. इसके अलावा 4 विदड्रॉल की लिमिट खत्‍म हो जाने पर आप फंड ऑनलाइन पेमेंट या फंड ट्रान्‍सफर भी नहीं कर सकते. अगर ऐसा हुआ तो बैंक आपसे चार्ज वसूलने के लिए मुक्‍त हैं.
– तय सर्विसेज के अलावा बैंक BSBDA के लिए एडिशनल सर्विस जैसे चेकबुक फैसिलटी देने के लिए मुक्‍त हैं. इसके लिए बैंक चाहे तो चार्ज भी ले सकते हैं. ले‍किन एडिशनल सर्विसेज मिलने के बाद इस अकाउंट को BSBDA के तौर पर ट्रीट नहीं किया जाएगा. यानी यह स्‍मॉल या नॉर्मल सेविंग्‍स अकाउंट बन जाएगा.
– BSBDA से महीने में 10 हजार रुपये से ज्‍यादा विदड्रॉल या ट्रान्‍सफर नहीं किए जा सकते. साल में 1 लाख रुपये से ज्‍यादा जमा नहीं किया जा सकता. साथ ही किसी भी वक्‍त इस अकाउंट में मैक्सिमम बैलेंस 50,000 रुपये से ज्‍यादा नहीं हो सकता.
– BSBDA को खोलने के बाद 12 महीनों के अंदर KYC पूरी करानी होती है. उसके बाद अगर आपके पास कोई ऑफिशियल डॉक्‍युमेंट नहीं है लेकिन आपने उसक लिए अप्‍लाई कर रखा है तो इसका प्रूफ देने पर बैंक KYC के लिए अवधि और 12 महीने बढ़ा सकते हैं.

2. SBI स्‍मॉल सेविंग्‍स अकाउंट

खासियत
– कोई भी भारतीय नागरिक एकल या ज्‍वॉइंट में खोल सकता है.
– बिना KYC भी खुल जाता है, हालांकि अकांउट ओपनिंग के 24 महीनों के अंदर केवाईसी कराना जरूरी है.
– मिनिमम बैलेंस रखने का झंझट नहीं
– मैक्सिमम बैलेंस- 50,000 रुपये
– रेगुलर सेविंग्‍स अकाउंट की ब्‍याज दर लागू
– बेसिक रूपे ATM कम डेबिट कार्ड, ATM फ्री ऑफ कॉस्‍ट, कोई सालाना मेंटीनेंस फीस नहीं
– नॉर्मल सेविंग्‍स बैंक अकाउंट की तरह डिपॉजिट, बैंक या ATM से कैश विदड्रॉल, इंटरनेट बैंकिंग, फंड ट्रान्‍सफर, केन्‍द्र व राज्‍य सरकार की ओर से आने वाले चेक को डिपॉजिट करने की सुविधा. ये सभी सर्विसेज फ्री हैं.
– अकांउट बंद करने पर चार्ज नहीं
– स्‍मॉल अकाउंट को रेगुलर सेविंग्‍स अकाउंट BSBDA में कन्‍वर्ट कराने की सुविधा

सावधानी

– विदड्रॉल और ट्रान्‍सफर एक माह में 10,000 रुपये से ज्‍यादा नहीं होना चाहिए. एक वित्त वर्ष में क्रेडिट लिमिट 1 लाख रुपये से ज्‍यादा नहीं होनी चाहिए.
– माह में 4 से ज्‍यादा विदड्रॉल नहीं किए जा सकते. इसमें अपने बैंक ATM या अन्‍य बैंक ATM से पैसे निकालना, इंटरनेट बैंकिंग, ब्रान्‍च, ट्रान्‍सफर आदि भी शामिल है.

state bank of india sbi offers 6 types of savings bank accountImage: Reuters

3. SBI रेगुलर सेविंग्‍स अकाउंट

खासियत

– 1 करोड़ रुपये तक के बैलेंस पर ब्‍याज दर 3.5 फीसदी, उससे ज्‍यादा पर 4 फीसदी
– मिनिमम मंथली एवरेज बैलेंस रखने की अनिवार्यता, अलग-अलग जगह के हिसाब से अलग-अलग
– लॉकर लेने की सुविधा, नॉमिनेशन फैसिलिटी, SMS अलर्ट, ई-स्‍टेटमेंट फैसिलिटी
– स्‍वीप इन फैसिलिटी या फ्लेक्‍सी अकाउंट ऑप्‍शन लेने की सुविधा. इसमें अकाउंट FD से लिंक हो जाता है और एक निश्चित अमांउट के पार बैलेंस जाने पर अतिरिक्‍त बैलेंस ऑटोमेटिकली FD में कन्‍वर्ट हो जाता है।.
– ATM कार्ड, मोबाइल बैंकिंग, इंटरनेट बैंकिंग, मिस्‍ड कॉल बैंकिंग, रिवार्ड प्रोग्राम
– पर्सनल एक्‍सीडेंट व हेल्‍थ इंश्‍योरेंस

4. SBI डिजिटल सेविंग्‍स अकाउंट
– इसे SBI के योनो ऐप से खुलवाया जा सकता है. एक इन्‍सान एक ही अकाउंट खुलवा सकता है.
– यह अकाउंट ज्‍वॉइंट में नहीं खुलवाया जा सकता है.
– डिजिटल सेविंग्‍स अकाउंट में मार्च 2019 तक मिनिमम बैलेंस रखने पर चार्ज नहीं है.
– कस्‍टमर चाहे तो इसे रेगुलर सेविंग्‍स अकाउंट में कन्‍वर्ट भी करा सकता है.
– इसमें चेकबुक लेने का ऑप्‍शन है लेकिन यह फ्री में उपलब्‍ध नहीं कराई जाती है. इस अकांउट में केवल 10 चेक वाली चेकबुक इश्‍यू की जाती है और चार्ज 10 रुपये प्रति चेक होता है.
– इस अकाउंट में कस्‍टमर को फ्री में डेबिट कार्ड इश्‍यू किया जाता है. इसका सालाना मेंटीनेंस चार्ज 200 रुपये है. वहीं अगर कस्‍टमर के अकाउंट में एवरेज क्‍वार्टरली बैलेंस 25,000 रुपये से ज्‍यादा हो तो दूसरे साल कार्ड सालाना चार्ज नहीं लगता है.
– डिजिटल सेविंग्‍स अकाउंट में पासबुक की सुविधा नहीं है. अकाउंट स्‍टेटमेंट ऐप पर शो होता है.
– नॉमिनी बनाने की फैसिलिटी
– ATM से 1 लाख रुपये तक का कैश निकालने की सुविधा

state bank of india sbi offers 6 types of savings bank account

5. SBI सेविंग्‍स प्‍लस अकाउंट

SBI का यह अकाउंट स्‍वीप इन फैसिलिटी वाला है. इसके तहत इस सेविंग्‍स अकाउंट में एक तय लिमिट से ज्‍यादा बैलेंस होने पर अतिरिक्‍त अमाउंट FD में ऑटोमेटिकली कन्‍वर्ट हो जाएगा और उस अमाउंट पर FD वाला ब्‍याज मिलेगा. जब सेविंग्‍स अकाउंट का टोटल बैलेंस उस तय लिमिट से कम हो जाएगा तो एफडी खत्‍म हो जाएगी. SBI का यह अकाउंट बैंक के मल्‍टी ऑप्‍शन डिपॉजिट से लिंक होता है.

– इसे कोई भी खुलवा सकता है. यह एकल या ज्‍वॉइंट दोनों तरह से खोला जा सकता है.
– मंथली एवरेज बैलेंस रखना जरूरी, अलग-अलग जगहों के हिसाब से 1000 रुपये से लेकर 3000 रुपये तक
– रेगुलर सेविंग्‍स अकाउंट वाली ब्‍याज दर लागू
– स्‍वीप इन फैसिलिटी के लिए अकाउंट बैलेंस 35,000 रुपये से ज्‍यादा होना जरूरी
– मिनिमम 10,000 रुपये स्‍वीप इन के तहत FD में होंगे ट्रान्‍सफर
– स्‍वीप इन फैसिलिटी के तहत होने वाली FD का टेन्‍योर 1 साल से लेकर 5 साल तक रख सकते हैं.
– रेगुलर सेविंग्‍स अकाउंट की तरह ATM, मोबाइल बैंकिंग, नेट बैंकिंग, SMS अलर्ट की सुविधा
– स्‍वीप इन FD पर लोन की सुविधा

6. SBI सेविंग्‍स अकाउंट फॉर माइनर

SBI में बच्‍चों के लिए दो तरह के अकाउंट पहला कदम और पहली उड़ान खोले जा सकते हैं. पहला कदम अकाउंट किसी भी उम्र के बच्‍चे के लिए खुलवाया जा सकता है. इसे माता-पिता या गार्जियन के साथ ज्‍वॉइंट में खोला जाता है. पहली उड़ान 10 साल से ज्‍यादा उम्र के बच्‍चे के लिए एकल आधार पर खोला जाता है.

– दोनों में मिनिमम मंथली बैलेंस रखने से छूट है.
– रेगुलर सेविंग्‍स अकाउंट की ब्‍याज दर लागू
– दोनों अकाउंट के लिए मैक्सिमम बैलेंस लिमिट 10 लाख रुपये है.
– इंटरनेट बैंकिंग, चेकबुक, फोटो ATM कम डेबिट कार्ड, मोबाइल बैंकिंग की सुविधा
– ATM से विदड्रॉल लिमिट 5000 रुपए
– 20,000 रुपए से ज्‍यादा बैलेंस पर स्‍वीप इन की सुविधा
– पहला कदम अकाउंट में स्‍वीप इन FD पर लोन लेने की सुविधा
– नॉमिनेशन फैसिलिटी, फ्री पासबुक
– पहला कदम अकांउट पर पर्सनल एक्‍सीडेंट इंश्‍योरेंस कवर की सुविधा

(Source: sbi.co.in)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. SBI में खुलते हैं 6 तरह के सेविंग्स अकाउंट, ये है पूरी डिटेल

Go to Top