मुख्य समाचार:

MF: बच्चों की शिक्षा और रिटायरमेंट के लिए फंड जुटाना होगा आसान, इन खास म्यूचुअल फंड्स में समझें निवेश के फायदे

आइए जानते हैं कि सोल्यूशन ओरिएंटेड म्यूचुअल फंड्स में क्या फीचर्स मिलते हैं.

Published: February 13, 2020 7:48 PM
solution oriented mutual funds how to invest in solution specific funds for retirement planning and child educationआइए जानते हैं कि सोल्यूशन ओरिएंटेड म्यूचुअल फंड्स में क्या फीचर्स मिलते हैं और ये कैसे दूसरे म्यूचुअल फंड्स से अलग हैं.

Mutual Funds Investment: सॉल्यूशन ओरिएंटेड फंड्स, म्यूचुअल फंड्स की एक कैटेगरी है जिसमें दूसरे फंड्स के मुकाबले खास फीचर्स मिलते हैं. इसके साथ इन फंड्स के पोर्टफोलियो को कुछ खास लक्ष्यों जैसे रिटायरमेंट प्लानिंग, बच्चे की शिक्षा आदि के लिए डिजाइन किया जाता है. इन फंड्स में खास फीचर्स, लक्ष्य और स्ट्रैटजी होती है. आइए जानते हैं कि सॉल्यूशन ओरिएंटेड म्यूचुअल फंड्स में क्या फीचर्स मिलते हैं और ये दूसरे म्यूचुअल फंड्स से किस तरह अलग हैं.

रिटायरमेंट प्लानिंग फंड्स

ज्यादातर निवेशक रिटायमेंट के बाद के लिए वित्तीय स्वतंत्रता का लक्ष्य रखते हैं. इस उद्देश्य को हासिल करने के लिए ज्यादातर फंड्स के उसी के मुताबिक प्लान होते हैं. इन फंड्स में सामान्य तौर पर कुछ चुने गए ज्यादा जोखिम वाले स्टॉक में निवेश किया जाता है.

निवेशक की रिटारमेंट की उम्र के पास पहुंचने पर कॉर्पस को ऐसी स्कीम में शिफ्ट करते हैं जिसमें कम रिस्क वाला पोर्टफोलियो है. इन फंड्स में आप एकमुश्त या समय में रिडेंप्शन कर सकते हैं जो निवेशक के लिए रिटायरमेंट के बाद पेंशन की तरह काम करेगा और उसकी वित्तीय स्थिरता बनी रहेगी.

इन फंड्स का लॉक इन पीरियड 5 साल का है. अगर व्यक्ति 60 साल की अवधि से पहले रिडेंप्शन करते हैं, तो एक्सट्रा एग्जिट लोड चार्ज किया जाता है.

बच्चों के लिए फंड्स

इस तरह के फंड्स का उद्देश्य बच्चों की शिक्षा के पूरे होने उन्हें वित्तीय सहायता देता है. शिक्षा महंगी होती जा रही है, ऐसे में ये फंड्स काफी उपयोगी हैं. बहुत सी म्यूचुअल फंड कंपनियां ने इन फंड्स को बच्चों की शिक्षा के लिए फाइनेंशिय प्लानिंग को ध्यान में रखकर खास तरीके से इसे तैयार किया है. इसमें उनकी वित्तीय जरूरतों का ध्यान रखा गया है. इन फंड्स में बच्चे के कम उम्र और कम खर्च होने पर कॉर्पस को कम और नियमित रफ्तार से जमा होता है.

इन फंड्स में उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए अलग-अलग प्लान्स के साथ अलग पोर्टफोलियो स्ट्रक्चर का इस्तेमाल किया जाता है. सामान्य तौर पर निवेश बच्चे के जन्म के बाद शुरू हो जाता है और इन म्यूचुअल फंड्स में इक्विटी या डेट में निवेश करने के लिए अलग-अलग प्लान्स होते हैं. अगर बच्चे की उम्र कम है, तो इक्विटी-ओरिएंटेड प्लान को चुना जा सकता है, जिससे लंबि अवधि में ज्यादा रिटर्न मिलता है.

डेट ओरिएंटेड प्लान उन बच्चों के लिए होते हैं, जो अपने प्राइमेरी स्कूल को पूरा करने के करीब हैं. दोनों प्लान्स के बीच बच्चों की उम्र के मुताबिक स्विच किया जा सकता है.

Tax Saving: गिफ्ट्स पर भी लगता है टैक्स, लेकिन यह नियम दिलाता है छूट

किसे निवेश करना चाहिए?

सॉल्यूशन ओरिएंटेड म्यूचुअल फंड्स एक खास लक्ष्य के लिए होता है. इन फंड्स का पोर्टफोलियो इस तरीके से डिजाइन किया जाता है जिससे उस लक्ष्य के लिए व्यक्ति को किसी दूसरी स्कीम में निवेश करने की जरूरत नहीं होती. इन फंड्स से कुछ खास लक्ष्यों के लिए फाइनेंशियल प्लानिंग आसान हो जाती है. लंबी अवधि के लक्ष्यों के लिए इक्विटी ओरिएंटेड स्कीम्स को चुना जाना चाहिए और ये फंड्स छोटी अवधि के निवेश के लिए सही नहीं है.

जो लोग छोटी अवधि के लक्ष्यों के लिए सॉल्यूशन ओरिएंटेड म्यूचुअल फंड्स में निवेश करने की योजना बना रहे हैं, उन्हें डेट ओरिएंटेड म्यूचुअल फंड्स को चुनना चाहिए.

कुल मिलाकर, सॉल्यूशन ओरिएंटेड म्यूचुअल फंड्स से निवेशकों के लिए खास उद्देश्यों को हासिल करने में आसानी होती है. हालांकि, इससे जुड़ा रिस्क कम होता है, अगर आपकी निवेश की अवधि कम होती है और रिटर्न हमेशा मार्केट रिस्क के मुताबिक होता है.

 

(By: P Saravanan, Professor of Finance & Accounting, IIM Tiruchirappalli)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. MF: बच्चों की शिक्षा और रिटायरमेंट के लिए फंड जुटाना होगा आसान, इन खास म्यूचुअल फंड्स में समझें निवेश के फायदे

Go to Top