सर्वाधिक पढ़ी गईं

SSY, SCSS, NSC, PF Vs Equity: छोटी बचत योजनाओं में घटा निवेश, कम ब्याज से निराश निवेशक कर रहे शेयर बाजार का रुख

छोटी बचत योजनाओं के पारंपकि निवेशक अब कम ब्याज दरों से निराश होकर बड़ी संख्या में शेयर बाजार की तरफ मुड़ रहे हैं, जहां उन्हें बेहतर रिटर्न की उम्मीद नजर आ रही है.

Updated: Jun 22, 2021 9:41 PM
कम ब्याज दरों की वजह से अब छोटी बचत योजनाओं के निवेशक अब शेयर मार्केट की ओर रुख कर रहे हैं.

Small Saving Schemes Vs Share Market: कोरोना संकट के इस दौर में बेहतर रिटर्न की आस में ज्यादा से ज्यादा निवेशक शेयर मार्केट (Share Market) की ओर रुख कर रहे हैं. एसबीआई रिसर्च की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि इसकी तीन वजहे हैं – फिक्स्ड डिपोजिट, पीपीएफ, सुकन्या समृद्धि और और सीनियर सिटिजन सेविंग्स स्कीम की कम ब्याज दरें. ग्लोबल लिक्विडिटी में बढ़ोतरी और लॉकडाउन की वजह से घर में रह रहे लोगों का पास ज्यादा समय.

एफडी और छोटी बचत योजना के कम रिटर्न से निराश हैं निवेशक

एसबीआई इकोरैप (SBI Ecowrap) के मुताबिक कम ब्याज दरों की वजह से पारंपरिक स्मॉल सेविंग्स स्कीमों और बैंक के टर्म डिपोजिटों में निवेश करने वाले अब ज्यादा रिटर्न की उम्मीद में शेयर बाजार में पैसा लगा रहे हैं. केंद्रीय बैंक की ओर से रेपो रेट चार फीसदी कर दिए जाने के बाद अलग-अलग बैंकों में एफडी पर 2.9 से लेकर 5.4 फीसदी तक ही ब्याज मिल रहा है. जिन स्मॉल सेविंग्स स्कीमों पर ज्याद ब्याज मिलता था वह भी अब घट गया है. सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) स्कीम पर फिलहाल ब्याज दर 7.6 फीसदी है वहीं सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम पर 7.4 फीसदी. पीपीएफ (PPF) पर 7.1 फीसदी ब्याज मिल रहा है वहीं नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट (NSC) पर 6.8 फीसदी ब्याज मिलता है.

How to Buy Insurance: बीमा पॉलिसी खरीदते समय रहें सावधान, लुभावनी बातों में फंसे तो हो सकता है नुकसान!

ग्लोबल लिक्विडिटी से बाजार में रौनक, रिटेल निवेशकों की दिलचस्पी बढ़ी

एसबीआई की रिपोर्ट में कहा गया है कि शेयर मार्केट में उछाल की वजह से निवेशकों में जो दिलचस्पी जगी है उसके पीछे ग्लोबल लिक्विडिटी में इजाफा है. एफआआई ने वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान भारतीय बाजार में 36.18 अरब डॉलर का निवेश किया है. एक और वजह लोगों का लॉकडाउन की वजह से ज्यादा वक्त घर में रहना है. स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग बढ़ने के पीछे यह भी एक वजह हो सकती है. बाजार में छोटे निवेशकों की संख्या बढ़ती जा रही है. वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान नए निवेशकों की संख्या काफी बढ़ी है. CDSL में122.5 लाख नए निवेशक खाते जुड़े हैं. वहीं NSDL में 19.7 लाख नए खाते जुड़े हैं. मौजूदा वित्त वर्ष के पहले दो महीनों में 44.7 लाख रिटेल निवेशक शेयर बाजार से जुड़े हैं. एसबीआई रिसर्च ने हालांकि यह भी कहा है कि देखना है कि बाजार में रिटेल निवेशकों की बढ़ती भागीदारी कितनी स्थायी साबित होती है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. SSY, SCSS, NSC, PF Vs Equity: छोटी बचत योजनाओं में घटा निवेश, कम ब्याज से निराश निवेशक कर रहे शेयर बाजार का रुख

Go to Top