मुख्य समाचार:
  1. FY20: चांदी ने दिखाया सोने जैसा दम, 21% मिला रिटर्न, इस साल 50 हजार रु/किलो हो सकता है भाव

FY20: चांदी ने दिखाया सोने जैसा दम, 21% मिला रिटर्न, इस साल 50 हजार रु/किलो हो सकता है भाव

चांदी में अभी करें निवेश तो साल के अंत तक कितना होगा फायदा

August 14, 2019 12:20 PM
Silve, Gold, Invest In Silver, Gold And Silver Ratio, सोना, चांदी, Silver Demand, Silver Outlook, Bullion Market, Trade war, Geo Political Tension, Bullion safe Heavenचांदी में अभी करें निवेश तो साल के अंत तक कितना होगा फायदा

पिछले कुछ महीनों से सोने में दिन प्रति दिन नया रिकॉर्ड बन रहा है और इस वित्त वर्ष में सोने ने निवेशकों को मालामाल कर दिया. सोने की इस तेजी में अगर आपकी नजर चांदी पर अब तक नहीं पड़ी तो जान लें कि चांदी ने भी इस वित्त वर्ष सोने की तरह ही दम दिखाया है. 1 अप्रैल से अबतक चांदी ने भी सोने के बराबर करीब 21 फीसदी रिटर्न देकर निवेशकों को मालामाल कर दिया है. वायदा बाजार हो या हाजिर मार्केट दोनों जगह चांदी में शानदार तेजी रही है. एक्सपर्ट आगे भी यह तेजी बने रहने की उम्मीद कर रहे हैं.

1 अप्रैल से 17755 रु/किलो बढ़ चुके हैं भाव

चांदी की बात करें तो सर्राफा बाजार में 1 अप्रैल से अबतक 17755 रु/किलो कीमत बढ़ चुकी है. 31 मार्च को चांदी सरा्रफा बाजार में 37245 प्रति किलो पर थी जो 13 अगस्त को 45000 रुपये प्रति किलो पर पहुंच गई. यानी इस दौरान निवेशकों को 21 फीसदी रिटर्न मिला. इसी तरह से एमसीएक्स पर चांदी इस दौरान 37760 रुपये प्रति किलो से बढ़कर 44584 रुपये प्रति किलो पर पर आ गया है. यानी एमसीएक्स पर भी निवेशकों को करीब 18 फीसदी रिटर्न मिला.

इस वित्त वर्ष कहां कितना रिटर्न

31 मार्च13 अगस्तरिटर्न
चांदी (MCX)37760/kg44584/kg18%
चांदी (सर्राफा)37245/kg45000/kg21%
सोना (MCX)31734 रु/10gm38666 रु/10gm21.80%
सोना (सर्राफा)31640 रु/10gm38370 रु/10gm21%
सेंसेक्स3867336958-4.40%
रुपया69.2712.40%

50 हजार जा सकता है भाव

केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया का कहना है कि गोल्ड सिल्वर रेश्यो अभी 88 पर आ गया है जो पिछले 20 साल का हाई है. इससे साफ है कि अभी भी सोने के मुकाबले चांदी बहुत सस्ते भाव पर मिल रहा है. आगे कई ऐसे कारण हैं, जिससे चांदी इस साल के अंत तक 50 हजार रुपये प्रति किलो का भाव छू सकती है. यानी अबसे 4 महीनों में प्रति किलो 5000 रुपये या 11 फीसदी रिटर्न चांदी दे सकता है.

केडिया ने चांदी को सपोर्ट देने के पीछे ये फैक्टर बताए….

  • गोल्ड और सिल्वर रेश्शे 20 साल के हाई पर, जिससे साफ है कि सोने के मुकाबले चांदी सस्ती है.
  • जियो पॉलिटिकल टेंशन और ट्रेड वार के चलते सेफ हैवन के रूप में निवेशक बुलियन में निवेश बढ़ा रहे हैं.
  • पिछले कुछ दिनों में सोना काफा महंगा हो चुका है, इसके मुकाबले बुलियन में चांदी सस्ती है. इस वजह से आगे चांदी की डिमांड बढ़ेगी.
    इन्वेस्टमेंट डिमांड 2013—14 के 24 फीसदी के मुकाबले बढ़कर अब 28 से 30 फीसदी हो गई है.
  • इंडस्ट्री की बात करें तो फार्मा, बैटरी, आटोमोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक्स सहित कम से कम 20 ऐसे बड़े सेक्टर हैं, जिनमें चांदी की डिमांड बहुत ज्यादा है. आने वाले दिनों में इंडस्ट्रियल डिमांड बढ़ने की उम्मीद है, जो काफी दिनों से सुस्त पड़ी है.
  • दुनिया के कई देशों में स्लोडाउन के चलते चांदी की डिमांड कमजोर रही है. लेकिन अब चीन सहित कई बड़े देश अपनी इकोनॉमी के रिवाइवल में लगे हैं. इस वजह से आने वाले दिनों में चांदी की मांग तेजी से बढ़ने की उम्मीद है.
  • नुकसान होने के चलते मांइस प्रोडक्शन भी 2015 में 893 मिलियन आउंस से घटकर 2018 में 855.7 मिलियन आउंस रह गया. प्रोडक्शन घटने से भी चांदी को सपोर्ट मिलेगा.

Go to Top