सर्वाधिक पढ़ी गईं

म्यूचुअल फंड की इन स्कीम में बढ़ने लगा रिटर्न, बैंक डिपॉजिट से ऊंचा रिटर्न पाने का मौका

म्यूचुअल फंड की डेट कटेगिरी में अलग अलग सेग्मेंट का रिटर्न अब सुधरने लगा है.

April 22, 2020 12:32 PM
Mutual Fund, Debt Mutual Fund, short duration debt fund, liquid fund, overnight fund, bank deposit, return on bank deposit, bank savings account, debt fund Vs bank savings account, डेट फंड, म्यूचुअल फंड, बैंक डिपॉजिटम्यूचुअल फंड की डेट कटेगिरी में अलग अलग सेग्मेंट का रिटर्न अब सुधरने लगा है.

Invest in Short Duration Fund For Emergency: आम तौर पर बैंक के सेविंग अकाउंट में ज्यादातर लोग पैसे इमरजेंसी फंड के रूप में रखते हैं कि जब जरूरत हो निकाल लेंगे. कई बार 2 से 3 महीने बाद या 6 महीने बाद जरूरत के लिए भी लोग फंड बैंक खाते में जमा कर देते हैं. ऐसा भी होता है कि बचत खाते में ये रकम 1 साल या इससे ज्यादा दिनों तक पड़ी रहती है. लेकिन क्या आपको पता है कि सेविंग अकाउंट में पैसे रखकर महंगाई के लिहाज से आपको कितना नुकसान उठाना पड़ता है. महंगाई के लिहाज से देखें तो रिटर्न के मामले में बचत खाते में दोहरा नुकसान उठाना पड़ता है. एक तो रिटर्न बेहद कम, दूसरा महंगाई से एडजस्ट करें तो यह रिटर्न निगेटिव में चला जाता है.

वहीं बाजार में कुछ ऐसी स्कीम है जिनकी जिसकी मेच्योरिटी 1 दिन, 1 महीने, 3 महीने, 6 महीने या 1 साल की होती है. इनमें मिलने वाला रिटर्न भी बैंक के बचते खाते से दोगुना या इससे भी ज्यादा हो सकता है. इनकी खासियत है कि इनमें जरूरत पड़ने पर तुरंत लिक्विडिटी भी उपलब्ध होती है. ये विकल्प है डेट म्यूचुअल फड कटेगिरी में ओवरनाइट फंड, अल्ट्रा शॉर्ट टर्म फंड, शॉर्ट टर्म फंड, लिक्विड फंड और मीडियम ड्यूरेशन फंड. आरबीआई द्वारा पिछले दिनों लिक्विडिटी बढ़ाने के जो उपाय किए गए थे, उसका असर इनके प्रदर्शन पर दिखने लगा है. 1 महीने, 3 महीने से लेकर 1 साल के दौरान इन सभी कटेगिरी का रिटर्न पॉजिटिव हो गया है.

1 साल में डेट फंड का रिटर्न

अल्ट्रा शॉर्ट टर्म फंड: 6.14 फीसदी
लिक्विड फंड: 5.80 फीसदी
ओवरनाइट फंड: 5 फीसदी
शॉर्ट टर्म फंड: 4.9 फीसदी
मीडियम ड्यूरेशन फंड: 9 फीसदी
लांग ड्यूरेशन फंड: 16 फीसदी

बता दें कि ओरनाइट फंड की मेच्योरिटी 1 दिन की होती है तो अल्ट्रा शॉर्ट टर्म फंड में 1 महीने के लिए, शॉर्ट टर्म फंड में 3 महीने से 6 महीने के लिए और लिक्विड फंड में 91 दिनों के लिए पैसा लगा सकते हैं. शॉर्ट से मीडियम फंड में 6 महीने से 1 साल के लिए पैसे लगाया जा सकता है. इसके अलावा लांग ड्यूरेशन फंड भी है, जहां 1 साल या इससे ज्यादा दिनों के लिए पैसा लगाया जा सकता है.

आगे भी तेजी की गुंजाइश

इस बारे में एक्सपर्ट का कहना है कि लिक्विड फंड, अल्ट्रा शॉर्ट टर्म फंड के अलावा स्माल ड्यूरेशन डेट फंड में आगे भी अच्छे रिटर्न के आसार हैं. रेट कट के बाद ब्याज दरें निचले सतरों पर हैं, आगे भी रेट कट की गुंजाइश बनी हुई है. स्माल सेविंग्स पर भी ब्याज घटा है. जिसके बाद डेट मार्केट में तेजी आने की उम्मीद है. इनका असर पिछले 1 महीने के रिटर्न पर दिख भी रहा है. मौजूदा समय में सबसे खराब दौर अब पीछे जा चुका है, लेकिन निवेशक अभी भी कनफ्यूज हैं. बाजार में रिस्क बना हुआ है. ऐसे में डेट कटेगिरी बेहतर विकल्प हैं.

सेविंग अकाउंट पर मिलने वाला ब्याज

स्टेट बैंक आफ इंडिया: 2.75 फीसदी
पंजाब नेशरल बैंक: 3.25 फीसदी
एचडीएफसी बैंक: 4 फीसदी
आईसीआईसीआई बैंक: 3.25 फीसदी
बैंक आफ बड़ौदा: 3.50 फीसदी

महंगाई को एडजस्ट करने के बाद असल रिटर्न

इसे एसबीआई पर मिलने वाले ब्याज दर के हिसाब से ऐसे समझ सकते हैं.

एसबीआई सेविंग अकांउट पर ब्याज दर: 2.75 फीसदी
मौजूदा महंगाई दर: 5.9 फीसदी
रियल रेट आफ रिटर्न: -2.98 फीसदी. यानी महंगाई के हिसाब से बैंक खाते में रखे पैसे से आपकी खरीद क्ष्मता घट रही है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. म्यूचुअल फंड की इन स्कीम में बढ़ने लगा रिटर्न, बैंक डिपॉजिट से ऊंचा रिटर्न पाने का मौका

Go to Top