मुख्य समाचार:

डाकघर की योजनाएं, FD या PMVVY; सिनियर सिटीजन के लिए कहां है फायदे का सौदा

आमतौर पर 60 साल की उम्र के बाद ​आमदनी का जरिया सीमित होता है.

Updated: Jun 24, 2020 1:26 PM
Senior Citizen Investment options 2020, post office MIS, post office SCSS, post office FDs, bank FDs, PMVVY, best investment option for Senior Citizen, all you need to know about Senior Citizen investments options60 साल की उम्र के बाद ​आमदनी का जरिया सीमित होता है.

Senior Citizen Investment options 2020: कोरोनावायरस महामारी के बीच कर्ज की ब्याज दरों में कटौती के साथ-साथ जमा की ब्याज दरों में भी कमी आ रही है. बैंक FD’s हो या डाक घर की लघु बचत योजनाएं, सभी में जमा पर ब्याज कम हुआ है. आगे भी इनमें कटौती हो सकती है. इसका मतलब यह है कि अब जमा पर ब्याज के जरिए होने वाली आपकी आमदनी प्रभावित होगी. इसका अच्छा खासा असर सीनियर सिटीजन यानी वरिष्ठ नागरिकों पर पड़ेगा. 60 साल की उम्र के बाद ​आमदनी का जरिया सीमित होता है. यदि आपको पेंशन से आय है तो आपको ​नियमित हर महीने पैसे मिलेंगे. इसके अलावा आपके ​किए गए निवेश पर रिटर्न आपको मिलेगा. इसके साथ ही वरिष्ठ नागरिकों के लिए यह भी जरूरी है कि वह अपने जमा पूंजी का कहां निवेश करें कि उन्हें कमोबेश अच्छा रिटर्न मिले, पैसे भी सेफ रहे और टैक्स छूट का भी लाभ हो.

सरकार और बैंकों की तरफ से कुछ स्कीम्स बनाई गई हैं, जिनमें वरिष्ठ नागरिकों को ज्यादा लाभ मिलने के साथ कर की बचत हो सके और जमा भी कमोबेश या अन्य विकल्पों के मुकाबले सुरक्षित रहे. इनमें डाक घर यानी पोस्ट आफिस की कुछ योजनाएं काफी लोकप्रिय हैं, इनमें सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम (SCSS), डाक घर की मासिक आय योजना (MIS), 5 साल की एफडी, सरकार की वय वंदन योजना, लोक भविष्य निधि (PPF) शामिल है.

डाक घर सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम (SCSS)

डाक घर सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम में 1000 रुपये के मल्टीपल में डिपॉजिट किया जा सकता है. साथ ही इसमें 15 लाख रुपये से ज्यादा अमाउंट नहीं रह सकता है. अभी सालाना ब्याज 7.4 फीसदी, मैच्योरिटी पीरियड 5 साल है. SCSS के तहत 60 साल या उससे ज्यादा की उम्र का व्यक्ति अकाउंट खुलवा सकता है. अगर कोई 55 साल या उससे ज्यादा का है लेकिन 60 साल से कम का है और VRS ले चुका है तो वह भी SCSS में अकाउंट खोल सकता है. लेकिन शर्त यह है कि उसे रिटायरमेंट बेनिफिट्स मिलने के एक माह के अंदर यह अकाउंट खुलवाना होगा और इसमें डिपॉजिट किया जाने वाला अमाउंट रिटायरमेंट बेनिफिट्स के अमांउट से ज्यादा नहीं होना चाहिए.

SCSS के तहत डिपॉजिटर इंडीविजुअली या अपनी पत्नी/पति के साथ ज्वॉइंट में एक से ज्यादा अकाउंट भी रख सकता है. लेकिन सभी को मिलाकर मैक्सिमम इन्वेस्टमेंट लिमिट 15 लाख से ज्यादा नहीं हो सकती. प्रीमैच्योर क्लोजर की अनुमति. लेकिन पोस्ट ऑफिस केवल अकाउंट ओपनिंग के 1 साल बंद अकाउंट क्लोज करने पर डिपॉजिट का 1.5 फीसदी काटेगा, वहीं 2 साल बाद बंद करने पर डिपॉजिट का 1 फीसदी काटा जाएगा.

मैच्योरिटी पीरियड पूरा होने के बाद अकाउंट को और तीन साल के लिए बढ़ाया जा सकता है. इसके​ लिए मैच्योरिटी वाली तारीख के एक साल के अंदर एप्लीकेशन देनी होगी. टैक्स की बात करें तो अगर SCSS के तहत आपकी ब्‍याज राशि 10,000 रुपये सालाना से ज्‍यादा हो जाती है तो आपका TDS कटने लगता है. हालांकि इस स्कीम में इन्वेस्टमेंट पर इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80C के तहत छूट है.

डाकघर मंथली इनकम स्‍कीम (MIS)

वरिष्ठ नागरिकों के लिए डाकघर की MIS भी एक अच्‍छा ऑप्‍शन हो सकती है. इसमें 1000 रुपये के मिनिमम अमाउंट से निवेश किया जा सकता है. सिंगल अकाउंट होल्‍डर के लिए निवेश की अधिकतम सीमा 4.5 लाख और ज्‍वॉइंट में 9 लाख रुपये है. इस पर मौजूदा ब्‍याज दर 6.6 फीसदी सालाना है.

इस ब्याज को मंथली बेसिस पर सेविंग्स अकाउंट में हासिल किया जा सकता है, जो एकमुश्‍त मंथली इनकम बन सकता है. किसी भी पोस्‍ट ऑफिस में कितने ही अकाउंट खुलवा सकते हैं लेकिन सभी MIS अकाउंट्स को मिलाकर मैक्सिमम इन्वेस्टमेंट 4.5 लाख रुपये ही रहेगी.

इस अकाउंट का मैच्योरिटी पीरियड 5 साल का है. MIS अकाउंट को एक साल बाद प्रीमैच्योरली इनकैश करा सकते हैं. लेकिन अकाउंट खुलने के 3 साल पूरे होने से पहले प्रीमैच्योरली इनकैश कराने पर जमा में से 2 फीसदी कट जाएगा. वहीं 3 साल पूरे होने के बाद ऐसा करने पर 1 फीसदी कटेगा.

फिक्स्ड डिपॉजिट (FD)

देश में फिक्स्ड डिपॉजिट यानी हमेशा से निवेश का पारंपरिक विकल्प रहा है. मौजूदा समय में एफडी में निवेश पर वरिष्ठ नागरिकों को अधिक ब्याज बैंक देते हैं. वहीं, 5 साल की एफडी पर कर में कटौती का भी लाभ मिलता है. ऐसे में वरिष्ठ नागरिकों के लिए FD एक अच्छा ऑप्शन बन सकती है. इस समय देश का सबसे बड़ा बैंक SBI में FD की ब्याज दरें अलग-अलग मैच्योरिटी पर 2.90 फीसदी से लेकर 5.40 फीसदी सालाना तक हैं. जबकि वरिष्ठ नागरिकों के लिए ब्याज दरें 6.20 फीसदी सालाना तक हैं. बैंकों के अलावा डाकघर की एफडी में भी निवेश कर सकते हैं.

एसबीआई 5 साल की टैक्स सेवर एफडी पर सीनियर सिटीजन को 6.20 फीसदी ब्याज दे रहा है. इसी तरह एफडी पर पीएनबी में ब्याज दरें सीनियर सिटीजन के लिए 6.25 फीसदी सालाना तक, ICICI बैंक और बैंक ऑफ बड़ौदा में 6.30 फीसदी तक, एचडीएफसी बैंक में 6.25 फीसदी सालाना तक और हैं. आप अलग-अलग बैंकों के FD रेट्स कंपेयर कर ज्यादा ब्याज वाला या अपने सहूलियत के मुताबिक बैंक चुन FD खुलवा सकते हैं. हालांकि, यह जान लें कि एफडी की मैच्योरिटी पर मिलने वाली राशि पर टैक्स यानी कर देना पड़ता है.

प्रधानमंत्री वय वंदन योजना (PMVVY)

प्रधानमंत्री वय वंदन योजना (PMVVY) को वरिष्ठ नागरिकों के लिए ही चलाया जा रहा है. इस योजना के लिए केंद्र सरकार अनुदान देती है. हाल ही में इसे 3 साल के लिए यानी 31 मार्च 2023 तक के लिए बढ़ा दिया गया है. वहीं, केंद्र सरकार ने इस योजना में संशोधन कर वित्त वर्ष 2021 के लिए ब्याज दर को 7.40 फीसदी सालाना कर दिया है.

PMVVY वर‍िष्‍ठ नागरिकों के लिए एक पेंशन स्‍कीम है. पेंशन का विकल्प चुनने पर वरिष्ठ नागिरकों को स्कीम में 10 साल तक एक तय दर से गारंटीशुदा पेंशन मिलती है. यह स्कीम डेथ बेनिफिट की भी पेशकश करती है. इसके तहत नॉमिनी को खरीद मूल्य वापस किया जाता है. पीएमवीवीवाई योजना के तहत अधिकतम 15 लाख रुपये ही निवेश किया जा सकता है. इसमें मंथली, तिमाही, छमाही और सालाना आधार पर पेंशन लेने की व्यवस्था है.

इस स्कीम में एकमुश्त पैसा लगाया जा सकता है. मौजूदा दरों के अनुसार, इस योजना में मिनिमम 1000 रुपये मंथली, 3000 रुपये तिमाही, 6000 रुपये छमाही और 12,000 रुपये सालाना पेंशन आएगी.पीएमवीवीवाई में 60 साल की उम्र पूरा कर चुका व्यक्ति निवेश कर सकता है. इसमें अधिकतम उम्र की सीमा नहीं है. इसके लिए आनलाइन और आफलाइन दोनों तरह से आवेदन कर सकते हैं.

डाकघर में निवेश 100% सुरक्षित, बैंक में सिर्फ 5 लाख

बैंक के मुकाबले पोस्ट ऑफिस यानी डाक घर में निवेश पूरी तरह सुरक्षित रहता है. बैंक के डिफॉल्ट होने की स्थिति में उसमें जमा 5 लाख रुपये तक ही बीमा गांरटी होती है. यह गारंटी डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन (DICGC) बैंक ग्राहकों देता है. जबकि, डाक घर की बचत योजनाएं वित्त मंत्रालय के अंतर्गत संचालित हैं. इसलिए इनमें जमा पैसों पर सरकार की सॉवरेन गारंटी होती है. डाकघर की लघु बचत योजनाओं में जमा पैसों का इस्तेमाल भी सरकार करती है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. डाकघर की योजनाएं, FD या PMVVY; सिनियर सिटीजन के लिए कहां है फायदे का सौदा

Go to Top