मुख्य समाचार:

SBI RLLR: क्या MCLR वाले मौजूदा ग्राहकों को मिलेगा फायदा? नई पहल पर एक्सपर्ट की राय

SBI रेपो रेट लिंक्ड होम लोन प्रॉडक्ट के तहत जब-जब RBI रेपो रेट में कटौती या बढ़ोत्तरी करेगा, इस लोन की ब्याज दरें भी तुरंत घट-बढ़ जाएंगी.

August 19, 2019 5:56 PM
sbi repo rate linked lending rate, know what expert saysImage: Reuters

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) रेपो रेट लिंक्ड होम लोन प्रॉडक्ट जुलाई में लॉन्च कर चुका है. इसके तहत बैंक RBI की रेपो रेट से लिंक्ड ब्याज दरों (RLLR) पर लोन देता है. यानी जब-जब RBI रेपो रेट में कटौती या बढ़ोत्तरी करेगा, इस लोन की ब्याज दरें भी तुरंत घट-बढ़ जाएंगी. रिपोर्ट्स के मुताबिक, SBI रेपो रेट लिंक्ड होम लोन की पेशकश अपने मौजूदा कस्टमर्स के लिए भी करने की तैयारी कर रहा है. ऐसा हुआ तो MCLR पर SBI लोन ले चुके कस्टमर्स भी अपने लोन को रेपो रेट लिंक्ड होम लोन में शिफ्ट कर सकेंगे.

अगर SBI ऐसा करता है तो मौजूदा लोन कस्टमर्स के लिए क्या नए प्रॉडक्ट पर शिफ्ट होना फायदेमंद होगा? क्या SBI इस शिफ्ट को लेकर कस्टमर्स से कोई चार्ज वसूलेगा? क्या रेपो रेट लिंक्ड होम लोन प्रॉडक्ट को लेने पर कस्टमर्स के लिए कोई रिस्क फैक्टर है?

इस बारे में SBI के पूर्व CGM सुनील पंत ने FE Hindi Online को बताया कि SBI के इस कदम का फायदा यह है कि अब RBI द्वारा रेपो रेट में कटौती का फायदा तेजी से बैंक के कस्टमर्स तक पहुंच सकेगा, जैसा कि RBI चाहता है. साथ में इस प्रॉडक्ट की ब्याज दर बैंक के अन्य होम लोन प्रॉडक्ट की ब्याज दरों के मुकाबले कम होंगी यानी MCLR वाले लोन प्रॉडक्टस से रेपो लिंक्ड लेंडिंग रेट होम लोन प्रॉडक्ट पर शिफ्ट होने वालों पर ब्याज का बोझ कम हो सकता है.

क्या है रेपो लिंक्ड लेंडिंग रेट

SBI के रेपो रेट लिंक्ड होम लोन प्रॉडक्ट के लिए ब्याज दर का आधार रेपो लिंक्ड लेंडिंग रेट यानी RLLR है. RLLR तय करने के लिए बैंक रेपो रेट पर अपनी ऑपरेटिंग कॉस्ट जोड़ते हैं. SBI में यह कॉस्ट मिनिमम 2.25 फीसदी है. रेपो रेट लिंक्ड होम लोन प्रॉडक्ट के तहत RLLR रेपो रेट+ 2.25 फीसदी है. रेपो रेट घटकर अभी 5.40 फीसदी है यानी SBI का RLLR 7.65 फीसदी हुआ.

रेपो रेट लिंक्ड होम लोन प्रॉडक्ट के लिए ब्याज दर RLLR+ 40 bps से लेकर RLLR+110 bps तक है. इस आधार पर यह 8.05 फीसदी से लेकर 8.20 फीसदी तक होगी. यह रेट 1 सितंबर 2019 से लागू होगी.

ATM से टैक्स भरने या फंड ट्रांसफर पर नहीं घटेंगे फ्री ट्रांजेक्शन, RBI ने बैंकों को दिया नया फरमान

क्या लग सकता है चार्ज?

क्या SBI के मौजूदा होम लोन ग्राहकों को नए प्रॉडक्ट पर शिफ्ट होने पर कोई चार्ज देना होगा, इस पर पंत ने कहा कि इस बारे में अभी कोई स्पष्टता नहीं है कि बैंक चार्ज वसूलेगा या नहीं. अगर बैंक रेपो रेट में बदलाव का तुरंत फायदा चार्ज के साथ कस्टमर्स को देता है तो यह प्रॉडक्ट कस्टमर्स को लुभाने में असफल हो सकता है. चार्ज के चलते रेपो रेट लिंक्ड होम लोन पर शिफ्ट होने वाले मौजूदा SBI ग्राहकों पर पहले साल में ज्यादा ब्याज का बोझ आ सकता है. ऐसे में संभावना है कि इस प्रॉडक्ट को आकर्षक बनाए रखने के लिए SBI चार्ज नहीं वसूलेगा. लेकिन देखना होगा कि बैंक का फैसला क्या रहता है.

रिस्क फैक्टर

पंत ने रेपो रेट लिंक्ड होम लोन प्रॉडक्ट के रिस्क फैक्टर को लेकर कहा कि यह न के बराबर है. अगर मार्केट में लिक्विडिटी बढ़ती है तो बैंक होम लोन पर ब्याज दर घटा देते हैं. लेकिन रेपो रेट में जल्दी कटौती नहीं होती है. हालांकि कोई भी लोन रेपो रेट से नीचे नहीं दिया जा सकता. ऐसे में लिक्विडिटी बढ़ने और बैंक द्वारा नॉर्मल होम लोन दरों में कटौती की भी गई तो भी ये रेपो रेट से नीचे नहीं जा सकतीं. ऐसे में रेपो रेट लिंक्ड होम लोन प्रॉडक्ट लेने वाले पर नॉर्मल होम लोन से ज्यादा ब्याज दर रहेगी, इसके चांस न के बराबर ही हैं.

होम लोन पर मिलने वाले 7 फायदे, लाखों रुपये की आमदनी पर बचा सकते हैं इनकम टैक्स

फ्लोटिंग या फिक्स्ड रेट?

SBI के नए विज्ञापन के मुताबिक, रेपो रेट लिंक्ड होम लोन प्रॉडक्ट के तहत 1 सितंबर से लागू होने वाली 8.05 फीसदी की मिनिमम ब्याज दर का फायदा मौजूदा RLLR होम लोन कस्टमर्स को भी होगा. इससे यही संकेत मिलता है कि ये दरें फ्लोटिंग हैं यानी जब-जब RBI रेपो रेट में बदलाव करेगा, SBI के इस प्रॉडक्ट की दरें बदल जाएंगी. हालांकि अभी बैंक की ओर से आधिकारिक तौर पर स्पष्टीकरण का इंतजार है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. SBI RLLR: क्या MCLR वाले मौजूदा ग्राहकों को मिलेगा फायदा? नई पहल पर एक्सपर्ट की राय

Go to Top