मुख्य समाचार:
  1. खुशखबरी! भारतीय स्टेट बैंक ने घटाए मिनिमम बैलेंस लिमिट पर लगने वाले चार्ज

खुशखबरी! भारतीय स्टेट बैंक ने घटाए मिनिमम बैलेंस लिमिट पर लगने वाले चार्ज

देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई ने अपनी मिनिमम बैलैंस लिमिट पर वगने वाले चार्ज घटा दिए हैं। एसबीआई द्वारा पहले जारी नोटिफिकेशन के बाद शहरी ब्रांच के सेविंग्स खाता धारकों के लिए एक अक्टूबर से अपने खाते में मिनिमम बैलेंस के तौर पर 3000 रुपये रखने जरूरी थे।

March 13, 2018 12:08 PM
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, एसबीआई, मिनिमम बैलेंस लिमिट, सेविंग्स अकाउंट, मिनिमम बैलेंस चार्जकस्बाई ब्रांच के खाता धारकों को अपने अकाउंट में 2000 रुपये रखने जरूरी थे और ग्रामीण ब्रांच में खाता धारकों को कम से कम 1000 रुपये रखने जरूरी थे।

देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई ने अपनी मिनिमम बैलैंस लिमिट पर लगने वाले चार्ज घटा दिए हैं। एसबीआई द्वारा पहले जारी नोटिफिकेशन के बाद शहरी ब्रांच के सेविंग्स खाता धारकों के लिए एक अक्टूबर से अपने खाते में मिनिमम बैलेंस के तौर पर  3000 रुपये रखने जरूरी थे। वहीं कस्बाई ब्रांच के खाता धारकों को अपने अकाउंट में 2000 रुपये रखने जरूरी थे और ग्रामीण ब्रांच में खाता धारकों को कम से कम 1000 रुपये रखने जरूरी थे।

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ग्राहकों द्वारा मिनिमम बैलैंस मेंटेन ना कर पाने की स्थिति में पहले शहरी खाता धारकों को 50 रुपये, कस्बाई और ग्रामीण खाता धारको को 40 रुपये चार्ज देना पड़ता था। मगर अब नए नोटिफिकेशन के मुताबिक शहरी खाता धारकों पर मिमिमम बैलेंस मेंटेन ना कर पाने की स्थिति में 50 रुपये की जगह 15 रुपये चार्ज लगेगा। वहीं कस्बाई और ग्रामीण खाता धारकों पर मिनिमम बैलेंस ना मेंटेन कर पाने की स्थिति में 40 रुपये की जगह 12 और 10 रुपये चार्ज लगेगा। ये सभी नए चार्ज 1 अप्रैल 2018 से लागू होंगे।

एसबीआई के रीटेल और डिजिटल बैंकिंग के एमडी पीके गुप्ता के मुताबिक “हमने ये चार्ज अपने ग्राहकों के फीडबैक और सेंटिमेंट को ध्यान में रखते हुए घटाए हैं। स्टेट बैंक हमेशा अपने ग्राहकों को पहले स्थान पर रखता है और हमेशा उनकी उम्मीदों पर खरा उतरता है। इसके अलावा बैंक अपने सेविंग खाता धारकों को अपने सेविंग खातों को बीएसबीडी खातों में बदलने का अुनरोध करता है, क्योंकि उसमें किसी भी प्रकार के कोई चार्जेस नहीं पड़ते हैं।

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop