सर्वाधिक पढ़ी गईं

Car Insurance: फेक पॉलिसी से बचने के पांच उपाय

हाल के दिनों में ऐसे बहुत से गिरोह देश में सक्रिय हो चुके हैं जो जनता को फर्जी मोटर इंश्योरेंस बाट रहे हैं. जाली मोटर पॉलिसी होने के कारण पॉलिसीधारकों का क्लेम सेटल नहीं हो पा रहा हैं जिसके कारण उन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा हैं

May 31, 2018 7:25 PM
देशभर में बीमा उद्योग 30000 करोड़ रुपये का सालाना नुकसान झेल रहे है. Source: (IE)

हाल के दिनों में ऐसे बहुत से गिरोह देश में सक्रिय हो चुके हैं जो जनता को फर्जी मोटर इंश्योरेंस बाट रहे हैं. जाली मोटर पॉलिसी होने के कारण पॉलिसीधारकों का क्लेम सेटल नहीं हो पा रहा हैं जिसके कारण उन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा हैं. ऐसा नहीं है कि महज मोटर इंश्योरेंस क्षेत्र में ही फर्जीवाडा हो रहा है, पूरे देश में बीमा उद्योग में धोखाधड़ी के मामलों में बढ़ोतरी देखी गई है. एक अनुमान के मुताबिक देशभर में बीमा उद्योग 30000 करोड़ रुपये का सालाना नुकसान झेल रहे है. अनुमान है कि कुल मोटर बीमा पॉलिसी का लगभग 1-2 फीसदी नकली है, जिसके परिणामस्वरूप सालाना 500-800 करोड़ रुपये वाहन कारोबार में कमी आ रही है.

विश्ववसनीय जगहों से ही पॉलिसी खरीदें

पॉलिसीबाज़ार के जनरल बिजनेस ऑफिसर तरुण माथुर बताते हैं कि सिर्फ पॉलिसी देखकर आप नहीं पता लगा सकते की पॉलिसी नकली है या असली. इसीलिए यहां जरुरी है कि आप सिर्फ प्रसिद्ध और विश्वसनीय जगहों से ही पॉलिसी खरीदें.

चेक या ऑनलाइन पेमेंट करें

पॉलिसी खरीदते वक्त यह ध्यान रखें कि आप पेमेंट का भुगतान चेकबुक से ही करें और यह सुनिश्चित करें कि चेक बीमा कंपनी के पक्ष में ही हो, न कि किसी व्यक्ति के पक्ष में. सूचना क्रांति के इस दौर में यहां आपको सलाह दी जाती हैं कि आप बीमा ऑनलाइन ही खरीदें.

पॉलिसी को बीमा कंपनी के संबंधित लिंक से वेरीफाई करें

आजकल बहुत सी बीमा कंपनियां एक वेरिफिकेशन लिंक अपनी वेबसाइट पर साझा कर रही हैं जिसके द्वारा आप अपनी पॉलिसी की जांच कर सकते है. इसके अलावा ग्राहक कंपनी के कस्टमर केयर से बात कर अपनी पॉलिसी की सत्यता की पुष्टि कर सकता है.

मान्यता प्राप्त संस्थाओं से ही बीमा खरीदें

यहां आपको जानना बेहद जरुरी है कि वर्तमान समय में हमारे देश में कुल 33 स्वीकृत जनरल बीमा कंपनियां हैं. आपकी पॉलिसी इनमें से एक ही होनी चाहिए. जिसे यहां से देख सकते हैं.
https://www.irdai.gov.in/ADMINCMS/cms/NormalData_Layout.aspx?page=PageNo264&mid=3.2.10.

धोखाधड़ी के इस दौर में आवश्यक है कि आप केवल पॉलिसी किसी लाइसेंस प्राप्त संस्थाओं से ही खरीदें. आप आईआरडीएआई वेबसाइट पर लाइसेंस प्राप्त संस्थाओं और उनके विवरण की जांच कर सकते हैं. बीमाकर्ता से सीधे इसे खरीदना सबसे अच्छा है. एजेंट या कॉल सेंटर खरीद के मामले में आप बीमाकर्ता की केंद्रीय संख्या (उनकी वेबसाइट पर नामित) के साथ जांच कर सकते हैं और एजेंट का सत्यापन कर सकते हैं.

QR Code का इस्तेमाल कर सुरक्षित रहें

यदि आप नवीनतम तकनीक इस्तेमाल करने से हिचकिचाते नहीं है तो आप QR कोड का इस्तेमाल करके अपनी पॉलिसी की जांच कर सकते हैं. हाल ही में, आईआरडीए ने बीमा कंपनियों को वाहन बीमा पॉलिसी पर एक क्यूआर कोड मुद्रित करने के लिए अनिवार्य किया है, जो बीमा पॉलिसी की प्रामाणिकता को सत्यापित करने में मदद करेगा.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. Car Insurance: फेक पॉलिसी से बचने के पांच उपाय

Go to Top