सर्वाधिक पढ़ी गईं

EPF: आपके रिटारमेंट फंड पर कैसे जुड़ता जाता है ब्याज, कब नहीं मिलता इसका फायदा

Interest on EPF: EPFO ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए कर्मचारी भविष्य निधि (EPF) पर 8.5 फीसदी सालाना ब्याज दर देने का फैसला किया है.

Updated: Sep 28, 2020 1:33 PM
Interest on EPF, retirement fund, EPFO, employees provident fund, how to calculate interest on EPF, retirement fund, PF, interest on EPF, CBDT, EPF interest for FY20, employee contribution in EPF, ईपीएफ, ईपीएफओ, रिटायरमेंट फंड पर कैसे लगता है ब्याजInterest on EPF: EPFO ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए कर्मचारी भविष्य निधि (EPF) पर 8.5 फीसदी सालाना ब्याज दर देने का फैसला किया है.

Interest on EPF: रिटायरमेंट फंड बॉडी ईपीएफओ (EPFO) ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए कर्मचारी भविष्य निधि (EPF) पर 8.5 फीसदी सालाना ब्याज दर देने का फैसला किया है. ये ईपीएफ की पिछले 7 साल में सबसे कम ब्याज दर है. करोड़ों सैलेरी पाने वाले लोग हर महीने ईपीएफ में योगदान करते हैं, जो एक रिटायरमेंट बेनेफिट स्कीम है. एक कर्मचारी अपने वेतन का 12 फीसदी ईपीएफ में योगदान देता है. कर्मचारी के खाते में नियोक्ता/कंपनी भी बराबर राशि 8.33% EPS के लिए और 3.67% EPF के लिए का योगदान देते हैं. ईपीएस के लिए सैलरी की अधिकतम सीमा अभी 15,000 रुपये प्रति माह है. इसलिए ईपीएस में अधिकतम योगदान 1250 रुपये प्रति माह ही है.

अगर आप भी नौकरीपेशा हैं तो आप समय समय पर यह जरूर जानना चाहेंगे कि आपके ईपीएफ खाते में कितना बैलेंस है. और इस बैलेंस पर ब्याज कैसे कैलकुलेट किया जाता है. बता दें कि ईपीएफ ब्याज की गणना हर महीने की जाती है, लेकिन ब्याज की रकम आपके खाते में वित्त वर्ष के अंत में ही जमा की जाती है. ईपीएफ में किए गए योगदान पर पीपीएफ जैसी सॉवरेन गारंटी वाले निश्चित आय ऑप्शन के मुकाबले अधिक ब्याज मिलता है.

EPF पर कैसे कैलकुलेट होता है ब्याज

EPF ब्याज की कैलकुलेशन हर महीने की जाती है, लेकिन वित्त वर्ष के अंत में इसे खाते में जमा किया जाता है. आप इस उदाहरण से पूरा कैलकुलेशन समझ सकते हैं.

बेसिक सैलरी + महंगाई भत्ता = 15,000 रुपये

EPF खाते में कर्मचारी का योगदान = 15,000 रु का 12% = 1800 रु

EPS खाते में नियोक्ता/कंपनी का योगदान = 15,000 रु का 8.33% = 1250 रु

EPF खाते में नियोक्ता/ कंपनी का योगदान = EPS खाते में कर्मचारी का योदगान – नियोक्ता/ कंपनी का योगदान = 550 रु

हर महीने कुल EPF योगदान = 1800 रु + 550 रु = 2350 रु

वर्ष 2019-20 के लिए ब्याज दर 8.5 फीसदी है.

प्रति माह लागू ब्याज = 8.5%/ 12 = 0.7083%

मान लिया कि कर्मचारी ने 1 अप्रैल 2019 को नौकरी ज्वॉइन की है. ऐसे में 1 अप्रैल से वित्तीय वर्ष 2019–20 के लिए योगदान शुरू हो जाता है.

अप्रैल के लिए कुल EPF योगदान = 2350 रुपये
अप्रैल के लिए EPF योगदान पर ब्याज = शून्य (पहले महीने के लिए कोई ब्याज नहीं)
अप्रैल के अंत में EPF अकाउंट में बैलेंस = 2350 रुपये
मई के लिए कुल EPF योगदान = 2,350 रुपये
मई में बैलेंस = 4700 रुपये
मई के लिए EPF पर ब्याज = 4700 * 0. 7083% = 33.29 रुपये

(नोट: ब्याज हर महीने कैलकुलेट होता है, लेकिन इसे वित्त वर्ष के अंत में यानी 31 मार्च को खाते में जमा किया जाता है.)

EPF: कब नहीं मिलता ब्याज

जब ईपीएफ सब्सक्राइबर स्थायी रूप से देश छोड़कर विदेश में जाकर बस जाता है.
नौकरी की अवधि खत्म हो जाने के बाद अगर 36 महीनों तक ईपीएफ के लिए कोई क्लेम नहीं आता है.
जब ईपीएफ सब्सक्राइबर 55 साल की उम्र के बाद अपनी नौकरी से रिटायर हो जाता है.
जब ईपीएफ सब्सक्राइबर की डेथ हो जाती है.

(source: paisabazaar.com)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. EPF: आपके रिटारमेंट फंड पर कैसे जुड़ता जाता है ब्याज, कब नहीं मिलता इसका फायदा
Tags:EPFEPFO

Go to Top