सर्वाधिक पढ़ी गईं

इंटरेस्ट इनकम पर बंद हो टैक्स वसूली, बैंक खातों के निगेटिव रिटर्न के चलते SBI के अर्थशास्त्रियों ने दी सलाह

SBI Economists Recommendation: एसबीआई के अर्थशास्त्रियों के मुताबिक छोटे जमाकर्ताओं को बैंक खातों पर निगेटिव रिटर्न मिल रहा है, लिहाजा ब्याज पर लागू टैक्स पर सरकार को फिर से विचार करना चाहिए.

Updated: Sep 21, 2021 5:06 PM
SBI BhushanJSW Steel closed the acquisition of BPSL for Rs 19,350 crore in March this year.

SBI Economists Against Tax on Interest Income: अपनी पूंजी को सुरक्षित रखने के लिए अधिकतर लोग इसे बैंकों में जमा करते हैं और इस पर ब्याज  मिलता है जिससे पूंजी बढ़ती है. आम तौर पर तो ऐसा ही होना चाहिए. लेकिन देश में फिलहाल ऐसा नहीं हो रहा. ये कहना है भारत के सबसे बड़े कॉमर्शियल बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) के अर्थशास्त्रियों का. उनके मुताबिक बैंकों के छोटे जमाकर्ताओं को बैंक डिपॉजिट पर निगेटिव रिटर्न मिल रहा है. ऐसे में एसबीआई ने सुझाव दिया है कि सरकार को ब्याज से होने वाली आय पर वसूले जा रहे आयकर पर फिर से विचार करना चाहिए.

एसबीआई के ग्रुप चीफ इकनॉमिक एडवाइज़र (Group Chief Economic Advisor) सौम्य कांति घोष के नेतृत्व वाली अर्थशास्त्रियों की टीम के मुताबिक अगर सभी जमाकर्ताओं को टैक्स में यह छूट नहीं दी जा सकती, तो कम से कम रिटायर हो चुके वरिष्ठ नागरिकों को तो रियायत ज़रूर मिलनी चाहिए. सौम्य कांति घोष (Soumya Kanti Ghosh) की अगुवाई में तैयार रिपोर्ट में कहा गया है कि अधिकांश सेवानिवृत्त वरिष्ठ नागरिक अपने खर्चों के लिए ब्याज पर निर्भर होते हैं, ऐसे में निगेटिव रिटर्न के बावजूद उनसे ब्याज पर टैक्स लेना ठीक नहीं होगा.

Tax Talk: प्रॉपर्टी से होने वाली आय पर कैसे लगता है टैक्स, जानिए क्या हैं इससे जुड़े नियम

इस कारण कम होता है रिटर्न

वर्तमान नियमों के मुताबिक बैंक सभी जमाकर्तों के खाते में 40 हजार से अधिक की ब्याज आय होने पर टीडीएस (टैक्स डिडक्टेड ऐट सोर्स) काटते हैं. वरिष्ठ नागरिकों के लिए यह सीमा 50 हजार रुपये सालाना है. आरबीआई का मुख्य फोकस ग्रोथ पर है और ब्याज दर कम हो रही है. अगर महंगाई दर को एडजस्ट करके देखें तो बैंक पर मिलने वाले ब्याज से मिलने वाला रिटर्न कई बार निगेटिव हो जाता है. एसबीआई के नोट के मुताबिक सिस्टम में रिटेल डिपॉजिट के तहत जमा कुल रकम 102 लाख करोड़ रुपये है.

HDFC Festive Offer: एचडीएफसी से मिल जाएगा सस्ते में होम लोन, इतना क्रेडिट स्कोर है तो ब्याज में 0.6% की बड़ी राहत

एसबीआई के अर्थशास्त्रियों की सलाह

एसबीआई के अर्थशास्त्रियों ने जो सुझाव दिए हैं, वे गौर करने लायक हैं. मसलन,

  •  बैंक डिपॉजिट्स पर मिलने वाले ब्याज पर लागू टैक्स पर फिर से विचार होना चाहिए, या कम से कम बुजुर्ग नागरिकों के लिए इसकी सीमा बढ़ाई जानी चाहिए.
  • रिजर्व बैंक (RBI) उम्र के आधार पर ब्याज देने पर रोक लगाने वाले नियम पर फिर से विचार कर सकता है.

बैंकों पर बढ़ा है दबाव

नोट में कहा गया है कि सिस्टम में लिक्विडिटी बहुत हो गई है जिससे बैंकों पर मार्जिन का बड़ा दबाव है. एक आकलन के मुताबिक कोर बैंकिंग सिस्टम कॉस्ट 6 फीसदी है जिसमें डिपॉजिट्स की लागत, निगेटिव कैरी ऑन SLR (स्टैट्यूटरी लिक्विडिटी रेशियो), कैश रिज़र्व रेशियो (Cash Reserve Ratio – CRR) और एसेट्स पर रिटर्न शामिल हैं. रिवर्स रेपो रेट 3.55 फीसदी है. अब अगर कोर फंडिंग कॉस्ट में प्रॉविजनिंग की लागत भी जोड़ी जाए तो कुल लागत 12 फीसदी हो जाती है. जबकि मौजूदा दौर में बैंक 7 फीसदी से भी कम दर पर खुदरा लोन दे रहे हैं और इसमें प्रतिस्पर्धा बढ़ी है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. इंटरेस्ट इनकम पर बंद हो टैक्स वसूली, बैंक खातों के निगेटिव रिटर्न के चलते SBI के अर्थशास्त्रियों ने दी सलाह

Go to Top