मुख्य समाचार:

लोन मोरेटोरियम अगस्त में हो जाएगा खत्म, क्या करें होम लोन ग्राहक; जरूरी सवालों के जवाब

लोन के पुनर्भुगतान पर छह महीने का मोरेटोरियम 31 अगस्त को खत्म हो जाएगा.

Updated: Jul 31, 2020 8:17 PM
RBI loan moratorium to end in august what home loan borrowers should doलोन के पुनर्भुगतान पर छह महीने का मोरेटोरियम 31 अगस्त को खत्म हो जाएगा.

लोन के पुनर्भुगतान पर छह महीने का मोरेटोरियम 31 अगस्त को खत्म हो जाएगा. अब इसमें एक महीना बचा है. हाालंकि, अगर रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया इसको आगे बढ़ाता है, तो यह जारी रहेगा. मोरेटोरियम से बहुत से होम लोन ग्राहकों को राहत मिली है जिनकी आय में कोरोना वायरस की वजह से लागू लॉकडाउन से गिरावट आई थी. लेकिन अब समय है कि कर्जधारक अपने फाइनेंस का दोबारा आकलन करें. इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट में होम लोन ग्राहकों के सवालों के जवाब दिए गए हैं.

क्या ग्राहक अपने लोन पर ब्याज को कम कर सकते हैं ?

पिछले 18 महीनों के दौरान आरबीआई ने रेपो रेट में 225 बेसिस प्वॉइंट्स की कटौती की है. बैंक और हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों ने नए लोन पर अपने ब्याज को 9 फीसदी से घटाकर अब 7 फीसदी कर दिया है. लेकिन बहुत से होम लोन ग्राहकों अभी भी 8.5 फीसदी या 9 फीसदी ब्याज दे रहे हैं. इन ग्राहकं को अपने बैंक या हाउसिंग फाइनेंस कंपनी से संपर्क करके कम रेट पर स्विच कर लेना चाहिए. इसके लिए कनर्वजन फीस का भुगतान करना होगा. इससे ब्याज दर बैंक के वर्तमान लोन के समान हो जाएगी.

इससे कितनी बचत होगी ?

मान लीजिए कि आपकी प्रिंसिपल बकाया राशि 30 लाख रुपये है और बचा हुआ टेन्योर 15 साल का है. 8.5 फीसदी के ब्याज पर आपको 29,540 रुपये की ईएमआई का भुगतान करना होगा. हालांकि, कनवर्जन फीस का भुगतान करके आप ब्याज दर को 7.4 फीसदी कर सकते हैं, जिससे आपकी ईएमआई में 1900 रुपये की कटौती होगी.

इसके साथ आप मार्जिनल कॉस्ट-बेस्ड लेंडिंग रेट से रेपो रेट लिंक्ड रेट में जा सकते हैं जिससे यह सुनिश्चित हो जाए कि आरबीआई जिस समय रेपो रेट में कटौती करेगा, तो बैंक उसका फायदा आगे देगा.

EPFO: 1 अगस्त से EPF में छूट खत्म, कर्मचारियों का अब कटेगा 12% पीएफ

आप क्या दूसरे कदम ले सकते हैं ?

इस अनिश्चित्ता के समय में यह जरूरी है कि आपके पास अपने परिवार के लिए कम से कम 3 से 6 महीने की पर्याप्त लिक्विडिटी मौजूद हो. यह बैंक सेविंग्स या फिकस्ड डिपॉजिट के तौर पर हो सकती है. इस बात पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है कि बचत का बड़ा हिस्सा कम ब्याज वाले फिक्स्ड डिपॉजिट में रखें जबकि होम लोन पर ज्यादा ब्याज का भुगतान कर रहे हैं.

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया वर्तमान में 1 से 3 साल की टर्म डिपॉजिट पर 5.1 फीसदी की ब्याज दे रहा है. हालांकि, होम लोन पर आपको 7 से 8.5 फीसदी का भुगतान करना होगा.

इसलिए फिक्स्ड डिपॉजिट में ज्यादा निवेश नहीं करके इसे लोन के भुगतान में इस्तेमाल करें. इससे आपकी मासिक ईएमआई आउटगो या टेन्योर कम होगा.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. लोन मोरेटोरियम अगस्त में हो जाएगा खत्म, क्या करें होम लोन ग्राहक; जरूरी सवालों के जवाब

Go to Top