सर्वाधिक पढ़ी गईं

झुनझुनवाला को भारतीय बैंकों से क्यों है इतनी उम्मीद? जानिए बिग बुल को इस सेक्टर में क्यों दिख रहा है बंपर रिटर्न?

दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला का मानना है कि आने वाले समय में पैसे की मांग बढ़ने वाली है जिसके चलते बैंकिंग सेक्टर को लेकर वह बुलिश रुख अपनाए हुए हैं

Updated: Jun 22, 2021 7:01 PM
Rakesh Jhunjhunwala bets big on bank shares even inefficient lenders bull run to last for decadesबिग बुल राकेश झुनझुनवाला ने 10 वर्षों में मार्केट के प्रदर्शन को लेकर कहा कि भारतीय स्टॉक मार्केट में आने वाले वर्षों में निवेशकों को बंपर मुनाफा देने की क्षमता है.

Rakesh Jhunjhunwala Bullish On Banking Sector: कोरोना महामारी से इकोनॉमी धीरे-धीरे उबर रही है. दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala) का मानना है कि आने वाले समय में पैसे की मांग बढ़ने वाली है जिसके चलते बैंकिंग सेक्टर को लेकर वह बुलिश रुख अपनाए हुए हैं यानी कि बैंकिंग सेक्टर के स्टॉक्स से निवेशकों को बेहतर रिटर्न मिल सकता है. बिग बुल (Big Bull) कहे जाने वाले झुनझुनवाला का भरोसा उन बैंकों पर भी है जो अक्षम (इनएफिशिएंट बैंक्स) माने जाते हैं. सीएनबीसी टीवी 18 को दिए गए साक्षात्कार में झुनझुनवाला ने 10 वर्षों में मार्केट के प्रदर्शन को लेकर कहा कि भारतीय स्टॉक मार्केट में आने वाले वर्षों में निवेशकों को बंपर मुनाफा देने की क्षमता है.

बैंकों की बढ़ेगी बार्गेनिंग पॉवर, पीएसयू स्टॉक पर भरोसा

इनएफिशिएंट बैंक्स का कॉस्ट-इनकम रेशियो बहुत अधिक है यानी कि ऐसे बैंकों को कमाई के लिए अधिक खर्च करना पड़ रहा है. हालांकि झुनझुनवाला का मानना है कि इस रेशियो में गिरावट आएगी. बिग बुल के अनुमान के मुताबिक इस साल नॉमिनल जीडीपी 14-15 फीसदी की दर से बढ़ेगी और आने वाले वर्षों में इसकी दर 10-12 फीसदी रह सकती है. इससे पैसे की मांग बढ़ेगी जिससे बैंकों की बार्गेनिंग पॉवर बढ़ेगी. झुनझुनवाला पूरे बैंकिंग सेक्टर को लेकर बुलिश रुख अपनाए हुए हैं लेकिन पुराने पब्लिक सेक्टर बैंकों को लेकर वह अधिक पॉजिटिव हैं क्योंकि झुनझुनवाला के मुताबिक इनका वैल्यूएशन बहुत कम हुआ है और उनकी आय में जबरदस्त बढ़ोतरी के आसार हैं.

झुनझुनवाला को पीएसयू स्टॉक्स पर भरोसा है कि यह निवेशकों को बंपर रिटर्न दे सकता है. बिग बुल के मुताबिक अगर सरकार सही दिशा में आगे बढ़ता है तो निवेशकों को इससे बेहतर रिटर्न मिल सकता है. झुनझुनवाला का निवेश पीएसयू बैंकों में है लेकिन उनको भरोसा है कि पीएसयू स्टॉक्स में ग्रोथ रहेगी.

How Sensex and Nifty Calculated: सेंसेक्स और निफ्टी का इस तरह होता है कैलकुलेशन, जानिए क्या है इसकी अहमियत

पिछले कुछ वर्षों के रिफॉर्म से बाजार पॉजिटिव

झुनझुनवाला के बुलिश रुख की मुख्य वजह प्रमुख स्ट्रक्चरल चेंजेज हैं जो पिछले कुछ वर्षों में हुए हैं. झुनझुनवाला के मुताबिक हम सभी एनपीए साइकिल से होकर गुजरे और जन धन, आईबीसी, रेरा को लेकर काम हुए और अब श्रम कानून व कृषि कानून में सुधार हो रहे हैं. ऐसे में उनका मानना है कि भारत लंबी इकोनॉमिक ग्रोथ के मुहाने पर है. उन्होंने अनुमान लगाया है कि कॉरपोरेट प्रॉफिट जीडीपी के मुकाबले इस साल 5-6 फीसदी तक पहुंच सकता है. झुनझुनवाला के मुताबिक जल्द ही देश रिकॉर्ड कैपिटल एक्सपेंडिचर देख सकता है.

कोरोना महामारी का इकोनॉमी और मार्केट पर बुरा असर पड़ा है लेकिन झुनझुनवाला का मानना है कि अब आगे कोई तीसरी लहर नहीं आने वाली है जिसका मार्केट पर नकारात्मक असर पड़े. उनका मानना है कि इस प्रकार के किसी भी संकट से निपटने के लिए इंडियन इकोनॉमी बेहतर तरीके से तैयार है. हालांकि झुनझुनवाला को भरोसा है कि तीसरी लहर नहीं आएगी.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. झुनझुनवाला को भारतीय बैंकों से क्यों है इतनी उम्मीद? जानिए बिग बुल को इस सेक्टर में क्यों दिख रहा है बंपर रिटर्न?

Go to Top