मुख्य समाचार:

PM Kisan: खाते में कैसे ट्रांसफर होती है रकम, आवेदन से लेकर किस्त मिलने तक पूरी डिटेल

पीएम किसान में आवेदन से लेकर किस्त मिलने तक की डिटेल समझना जरूरी है. ये जानना चाहिए कि खाते में कैसे रकम ट्रांसफर होती है.

Published: June 9, 2020 2:12 PM
PM Kisan, procedure of release of installments, how beneficiaries identified and shortlist, Pradhan Mantri Kisan, पीएम किसान, who is not eligible in PM KIsan, PM Kisan Eligibility, Govt scheme for farmers, 6000 Rs annual to farmersपीएम किसान में आवेदन से लेकर किस्त मिलने तक की डिटेल समझना जरूरी है. ये जानना चाहिए कि खाते में कैसे रकम ट्रांसफर होती है.

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना (PM Kisan) छोटे और सीमांत किसानों को ध्यान में रखकर मोदी सरकार द्वारा शुरू की गई योजना है. इस योजना के तहत 1 साल के दौरान 3 किस्तों में किसानों को सरकार 6000 रुपये की मदद देती है. हर 4 महीने पर उनके खाते में सरकार 2000 रुपये डालती है. अबतक किसानों को 5 किस्त के पैसे भेजे जा चुके हैं. पीएम किसान में रजिस्ट्रेशन के लिए सरकार ने कुछ मापदंड भी तैयार कर रखे हैं. अगर आप इस पर खरे उतरते हैं तो इस योजना का लाभ आपको मिल सकता है. हालांकि इसके लिए आवेदन से लेकर किस्त मिलने तक की पूरी डिटेल आपको समझना जरूरी है. आपको यह जानना चाहिए कि आपके खाते में कैसे रकम ट्रांसफर होती है. यह योजना लॉकडाउन में किसानों के बेहद काम आ रही है, जब 24 मार्च से अब तक करीब 20 हजार करोड़ रुपये की मदद किसानों को मिली है.

आवेदन से लेकर किस्त ट्रांसफर की डिटेल

  • इसके लिए सरकार ने www.pmkisan.qov.in वेब पोर्टल तैयार किया हुआ है, जिस पर लाभ पाने वाले किसानों की डिटेल अपलोड की जाती है. यह डिटेल राज्य/UT सरकारों द्वारा अपलोड की जाती है.
  • इसके जरिए सबसे पहले योग्य किसानों को गांव पटवारी, रेवेन्सू आफिसर, संबंधित एजेंसियों की मदद से अपनी डिटेल देनी होती है.
  • इसके बाद राज्य/UT सरकारों द्वारा ब्लॉक स्तर पर नियुक्त नोडल अधिकारी किसानों द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर की जांच आदि करने के बाद इसे राज्य नोडल अधिकारी के पास भेज सकता है. इसमें किसान के लैंड ओनरशिप के रिकॉड्र आदि को देखा जाता है.
  • इसके बाद राज्य नोडल अधिकारी अंतिम रूप से किसानों द्वारा दी गई जानकारी की जांच करता है. अगर सबकुछ सही पाया जाता है तो वह इसे जांच के बाद शॉर्ट लिस्ट कर पोर्टल पर अपलोड करता है.
  • इसके बाद नेशनल इन्फॉर्मेटिक सेंटर द्वारा इसका कई स्तरों पर वेरिफिकेशन किया जाता है. पब्लिक फाइनेंस सिस्टम और बेंकों द्वारा भी इसका वेरिफिकेशन किया जाता है.
  • सब कुछ सही पाए जाने पर डिपार्टमेंट आफ एग्री कल्चर, कॉपरेशन एंड फार्मर्स वेलफेयर द्वारा फंड ट्रांसफर मंजूर किया जाता है.
  • सब कुछ फाइनल होने के बाद किसान के उस बैंक खाते में समय समय पर किस्त ट्रांसफर होती है, जिसकी जानकारी उसने आवेदन करते समय दी है.

इन कंडीशन में नहीं मिलता है लाभ

  • अगर कोई किसान खेती करता है लेकिन वह खेत उसके नाम न होकर उसके पिता या दादा के नाम हो तो उसे 6000 रुपये सालाना का लाभ नहीं मिलेगा. वह जमीन किसान के नाम होनी चाहिए.
  • अगर कोई किसान किसी दूसरे किसान से जमीन लेकर किराए पर खेती करता है, तो भी उसे भी योजना का लाभ नहीं मिलेगा. पीएम किसान में लैंड की ओनरशिप जरूरी है.
  • सभी संस्थागत भूमि धारक भी इस योजना के दायरे में नहीं आएंगे.
  • अगर कोई किसान या परिवार में कोई संवैधानिक पद पर है तो उसे लाभ नहीं मिलेगा.
  • राज्य/केंद्र सरकार के साथ-साथ पीएसयू और सरकारी स्वायत्त निकायों के सेवारत या सेवानिवृत्त अधिकारी और कर्मचारी होने पर भी योजना के लाभ के दायरे में नहीं आएंगे.
  • डॉक्टर, इंजीनियर, सीए, आर्किटेक्ट्स और वकील जैसे प्रोफेशनल्स को भी योजना का लाभ नहीं मिलेगा, भले ही वह किसानी भी करते हों.
  • 10,000 रुपये से अधिक की मासिक पेंशन पाने वाले सेवानिवृत्त पेंशनभोगियों को इसका लाभ नहीं मिलेगा.
  • अंतिम मूल्यांकन वर्ष में इनकम टैक्स का भुगतान करने वाले पेशेवरों को भी योजना के दायरे से बाहर रखा गया है.
  • किसान परिवार में कोई म्यूनिसिपल कॉरपोरेशंस, जिला पंचायत में हो तो भी इसके दायरे से बाहर होगा.
  • जान बूझकर गलत जानकारी देने पर

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. PM Kisan: खाते में कैसे ट्रांसफर होती है रकम, आवेदन से लेकर किस्त मिलने तक पूरी डिटेल

Go to Top