scorecardresearch

अपने लिए चुनें बेहतर Health Insurance प्लान, जानिए किस पॉलिसी से मिलेगा बेस्ट कवरेज

Types of Health Insurance: सिर्फ स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी खरीद लेना ही काफी नहीं है बल्कि स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी उचित भी होनी चाहिए.

अपने लिए चुनें बेहतर Health Insurance प्लान, जानिए किस पॉलिसी से मिलेगा बेस्ट कवरेज
हेल्थ इंश्योरेंस समय के साथ तेजी से लोकप्रिय हो रहा है और न सिर्फ शहरों बल्कि छोटे शहरों-कस्बों में भी इसकी मांग बढ़ रही है.

दिनों-दिन स्वास्थ्य सेवाएं महंगी होती जा रही हैं. किसी गंभीर बीमारी के चलते अगर अस्पताल में भर्ती होने की नौबत आती है तो न सिर्फ बजट गड़बड़ हो जाता है बल्कि भविष्य के वित्तीय लक्ष्य भी बुरी तरह प्रभावित होते हैं क्योंकि कभी-कभी अपनी सेविंग्स भी इलाज में खर्च करनी पड़ जाती है. ऐसे में हेल्थ इंश्योरेंस समय के साथ तेजी से लोकप्रिय हो रहा है और न सिर्फ शहरों बल्कि छोटे शहरों-कस्बों में भी इसकी मांग बढ़ रही है. हालांकि सिर्फ स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी खरीद लेना ही काफी नहीं है बल्कि स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी उचित भी होनी चाहिए. ऐसे में कोई भी स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी खरीदने से पहले इसके विभिन्न रूपों के बारे में समझ लें और फिर अपनी जरूरत के मुताबिक इसे लें.

दो प्रकार के होते हैं इडेम्निटी प्लान्स

हेल्थ इंश्योरेंस प्लान मूल रूप से दो प्रकार के होते हैं- Indemnity Plans और Defined-benefit Plan. इडेम्निटी प्लान्स पारंपरिक स्वास्थ्य बीमा हैं जिसमें अस्पताल के खर्चों को कवर किया जाता है और इसकी अधिकतम सीमा सम इंश्योर्ड के बराबर होती है. वहीं दूसरी तरफ डिफाइंड बेनेफिट प्लान्स के तहत बीमाधारक को बीमारी का पता लगने पर एकमुश्त राशि मिलती है.

Health insurance खरीदते समय इन 6 गलतियों से बचें, अस्पताल के खर्चों की चिंता होगी खत्म

Indemnity Health Insurance

  • Medical Insurance: इसके तहत किसी बीमारी या दुर्घटना के चलते अस्पताल में भर्ती होने की नौबत आने पर खर्चों को कवर किया जाता है. इसमें नर्सिंज चार्जे, सर्जरी एक्सपेंसेज, डॉक्टर की फीस, ऑक्सीजन, एनेस्थेसिया इत्यादि शामिल हैं. इसे मेडिक्लेम पॉलिसी कहते हैं जो ग्रुप मेडिक्लेम, इंडिविजुअल मेडिकल इंश्योरेंस, ओवरसीज मेडिकल इंश्योरेंस इत्यादि के रूप में उपलब्ध है.
  • Individual Insurance: इस पॉलिसी के तहत बेसिक सम इंश्योर्ड के बराबर राशि तक अस्पताल के खर्चे को कवर किया जाता है. इस पॉलिसी के तहत कवर्ड मेंबर्स इंडिविजुअल सम इंश्योर्ड होते हैं यानी कि अगर आपके पास इंडिविजुअल हेल्थ कवर 10 लाख रुपये का है और आपकी पत्नी/पति भी इसमें कवर्ड हैं तो दोनों 10-10 लाख रुपये तक के क्लेम का दावा कर सकते हैं.
  • Family Floater Plan: इसके तहत पूरे परिवार को एक पॉलिसी के तहत कवर किया जा सकता है. फैमिली फ्लोटर हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के तहत सम इंश्योर्ड को सभी मेंबर्स में बराबर-बराबर बांटा जाता है. इस पॉलिसी की खास बात यह है कि सभी सदस्यों के लिए अलग-अलग हेल्थ पॉलिसी लेने की बजाय फैमिली फ्लोटर हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी लेने पर कम प्रीमियम चुकाना पड़ेगा.
  • Unit Linked Health Plans: यह निवेश और बीमा दोनों के फायदे देने वाला प्लान है. इसके तहत चुकाए गए प्रीमियम का एक हिस्सा स्टॉक मार्केट में निवेश किया जाता है और शेष हिस्से से इंश्योरेंस कवरेज मिलता है. रिटर्न मार्केट पर निर्भर करता है.
  • Group Mediclaim: मध्यम और बड़ी श्रेणी की कंपनियों द्वारा अपने कर्मियों को हेल्थ इंश्योरेंस कवर उपलब्ध कराने के लिए यह तेजी से पॉपुलर हो रहा है. यह पॉलिसी कंपनी से अपने कर्मी को जोड़े रखने के लिए बहुत मददगार है.

आम हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी से कैसे अलग है Critical Illness Policy? क्या हैं इसमें निवेश का फायदा?

Definite-Benefit Plans

  • Critical Illness Plan: यह पॉलिसी गंभीर बीमारियों को कवर करने के लिए बनाई गई है. मध्यम वर्गीय परिवार के लिए कुछ गंभीर बीमारियों का खर्च वहन करना संभव नहीं होता है तो ऐसे में इस प्रकार की पॉलिसी बहुत मददगार साबित होती हैं. इस पॉलिसी के तहत हॉस्पिटल बिल को एक सीमा तक कम किया जा सकता है. इस पॉलिसी के तहत बीमारी का पता लगने पर पूर्वनिर्धारित एकमुश्त राशि बीमाधारक को मिलती है. इस पॉलिसी के तहत कैंसर, स्ट्रोक, किडनी फेल होने, पैरालिसिस, कोरोनरी ऑर्टरी बाईपास सर्जरी, प्राइमरी पल्मोनरी आर्टेरियल हाइपरटेंशन, प्रमुख अंगों के ट्रांसप्लांट इत्यादि को कवर किया जाता है.
  • Hospital Daily Cash: हेल्थ इंश्योरेंस कवरेज के बिल्ट कवर के रूप में इसे ऑफर किया जाता है. इसके तहत बीमाधारक को अस्पताल के खर्चों के अलावा हर दिन एक निर्धारित सीमा तक कैश मिलता है.
  • Personal Accident Plan: इस पॉलिसी के तहत गाड़ी के मालिक/ड्राइवर की किसी दुर्घटना के चलते घायल होने या मौत होने पर कवरेज मिलता है. मृत्यु होने पर बीमाधारक के परिवार को और स्थायी रूप से आंशिक या पूर्ण विकलांगता होने पर बीमाधारक को एकमुश्त राशि दी जाती है.
    (सोर्स: पॉलिसीबाजार)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

First published on: 25-05-2021 at 14:52 IST

TRENDING NOW

Business News