मुख्य समाचार:

PPF, SCSS, SSY, NSC, KVP पर जुलाई- सितंबर में कितना मिलेगा ब्याज, चेक करें

मोदी सरकार ने जुलाई से सितंबर 2020 के लिए छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज दर में कोई बदलाव नहीं किया है.

Updated: Jul 01, 2020 8:31 PM
no change in interest rate on post office small savings schemes know its impact on investmentमोदी सरकार ने जुलाई से सितंबर 2020 के लिए छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज दर में कोई बदलाव नहीं किया है.

मोदी सरकार ने जुलाई से सितंबर 2020 के लिए छोटी बचत योजनाओं (Small Savings Schemes) पर ब्याज दर में कोई बदलाव नहीं किया है. पोस्ट ऑफिस सेविंग्स स्कीम पर ब्याज दर को सरकार वित्तीय वर्ष की हर तिमाही की शुरुआत में सरकारी बॉन्ड पर आय के आधार पर संशोधित करती है. 1 जुलाई से 30 सितंबर 2020 तक अलग-अलग छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज दरें पिछली तिमाही के समान रहेंगी.

ब्याज दरें

PPF: अप्रैल से जून 2020 तिमाही के लिए PPF पर ब्याज दर को सालाना 7.9 फीसदी से घटाकर 7.1 फीसदी किया गया था, यानी 80 बेसिस प्वॉइंट्स की कटौती थी.

SCSS: सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम्स के लिए अप्रैल-जून में ब्याज दर 8.6 फीसदी सालाना से घटाकर 7.4 फीसदी सालाना की गई थी.

TD: अप्रैल-जून में 1 साल की टाइम डिपॉजिट के लिए कटौती 1.4 फीसदी थी. इसमें ब्याज दर 6.9 फीसदी से घटाकर 5.5 फीसदी की गई थी.

पोस्ट ऑफिस स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स जैसे नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट (NSC), KVP, टाइम डिपॉजिट, पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF), सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम्स (SCSS), सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) आदि निवेशकों के बीच बहुत लोकप्रिय हैं जो सुरक्षित और तय रिटर्न की तलाश कर रहे हैं.

जो लोग NSC, KVP, टाइम डिपॉजिट, सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम (SCSS) में निवेश करते हैं, उनके लिए ब्याज दर मेच्योरिटी तक फिक्स्ड बनी रहती है. हालांकि, PPF और सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) के निवेशकों के लिए दर में संशोधन होता है. यह बदलाव सरकार द्वारा वित्तीय वर्ष की हर तिमाही पर करने के आधार पर होता है.

SBI का होम लोन हुआ और सस्ता, ब्याज दर 6.95% से शुरू

असर

पोस्ट ऑफिस की स्कीम्स उन निवेशकों को अभी भी आकर्षक लग सकती हैं जो बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट में निवेश करते हैं. वर्तमान में अधिकतर कमर्शियल बैंक एफडी पर लगभग 5.5 फीसदी की ब्याज दर पेश कर रहे हैं. कुछ पोस्ट ऑफिस स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स में टैक्सबेबल ब्याज हो सकता है. इसलिए निवेश करने से पहले, पोस्ट ऑफिस स्कीम्स पर कमाए जाने वाले ब्याज की टैक्स लायबिलिटी को जान लें.

इसके अलावा क्योंकि अधिकतर स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स की अवधि लंबी होती है, इसलिए यह सुनिश्चित कर लें कि आपके पास लिक्विड फंड है. इनमें निवेश करते समय अपनी लंबी अवधि की जरूरतों को लिंक कर लें और एसेट एलोकेशन और कर्ज को ध्यान में रखें. महत्वपूर्ण बात यह है कि पोस्ट ऑफिस स्कीम्स में निवेश की गई पूरी राशि पर सॉवरेन गारंटी होती है, इसलिए उन्हें पूरी तरह सुरक्षित माना जाता है.

(स्टोरी: सुनील धवन)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. PPF, SCSS, SSY, NSC, KVP पर जुलाई- सितंबर में कितना मिलेगा ब्याज, चेक करें

Go to Top