मुख्य समाचार:

डीलर की बजाय आॅनलाइन खरीदें कार इंश्योरेंस, 35 हजार रुपये तक हो सकती है बचत

कई बार ऐसा देखा गया है कि डीलरशिप से इंश्योरेंस करवाने पर बिना जरूरत वाले एड ऑन पैकेज भी ग्राहकों को थमा दिए जाते हैं, जबकि उसकी जरूरत अलग होती है.

September 9, 2018 10:54 AM

 

car insurance, how to buy cheap car insurance, compare car insurance online, car insurance price, compare car insurance online, best car insurance in india, new car insurance from dealer or outsideकई बार ऐसा देखा गया है कि डीलरशिप से इंश्योरेंस करवाने पर बिना जरूरत वाले एड ऑन पैकेज भी ग्राहकों को थमा दिए जाते हैं, जबकि उसकी जरूरत अलग होती है.

कार की खरीदारी एक अहम फैसला है. कई ग्राहक कार खरीदने से पहले पूरी तरह से रिसर्च करते हैं उसके बाद अपनी जरूरत और बजट के अनुसार बेस्ट आॅप्शन चुनते हैं. अधिकांश ग्राहक उन डीलरों का भी पता लगाते हैं, जो उनकी पसंदीदा मॉडल पर अच्छे आॅफर के साथ अधिकतम छूट भी दे रहा हो. लेकिन, जब बात कार इंश्योरेंस की आती है तो ग्राहकों को उत्साह का वही स्तर नहीं होता है और आखिरकार ग्राहक वह इंश्योरेंस खरीद लेता है जो महंगा होता है और उसकी जरूरतों के अनुरूप भी नहीं होता है.

पॉलिसीबाजार डॉट कॉम के मुख्य व्यवसाय अधिकारी (जनरल इंश्योरेंस) तरुण माथुर का कहना है कि ऐसा इसलिए है क्योंकि हकीकत यह है कि इंश्योरेंस को लेकर बड़े पैमाने पर बदलाव हुआ है. ग्राहक अब अपनी जरूरतों के हिसाब से इंश्योरेंस खरीदते हैं, लेकिन यही बात कार के इंश्योरेंस के लिए सही नहीं है. क्योंकि इसे ग्राहक डीलरशिप पर खरीदता नहीं है, बल्कि उसे कार के साथ ही बेच दिया जाता है. इसलिए कार खरीदते वक्त उसके इंश्योरेंस विकल्पों पर भी ध्यान देना चाहिए.

35 हजार तक ज्यादा लेते हैं डीलर!

माथुर बताते हैं, “कार इंश्योरेंस डीलरशिप पर भी खरीदा जा सकता है और ऑनलाइन भी खरीदा जा सकता है. लेकिन लोग कार के साथ ही डीलरशिप पर इसलिए खरीदना पसंद करते हैं, क्योंकि यह झंझटमुक्त होता है. हालांकि यह बात थोड़ी सच भी है. लेकिन आपको पता होना चाहिए कि अगर आप डीलरशिप पर कार इंश्योरेंस खरीदते हैं तो उसकी कीमत कहीं अधिक चुकाते हैं. कई मामलों में तो यह 5,000 से लेकर 35,000 रुपये तक ज्यादा होता है, जो कि कार की कीमत के हिसाब से तय होता है.”

उन्होंने कहा, “उदाहरण के लिए डीलर एक मिड-साइज की सिडान गाड़ी जो 1.6 लीटर इंजनवाली हो, उसके इंश्योरेंस के लिए 35,000 रुपये तक का शुल्क लेते हैं. हालांकि जब आप ऑनलाइन सर्च करते हैं उसी कार का इंश्योरेंस आपको करीब 26,000 रुपये में मिल जाएगा. अगर आप किसी 2.2 लीटर इंजन वाले एसयूवी का इंश्योरेंस डीलरशिप पर कराते हैं तो वह आपको 60,000 से 70,000 रुपये के बीच मिलेगा, जबकि ऑनलाइन वही इंश्योरेंस आपको 45,000 रुपये में मिल सकता है.”

कैशलेस गैराज सुविधा की हकीकत

कई डीलर आपको उन्हीं से इंश्योरेंस खरीदने के लिए प्रोत्साहित करते हैं. वे बताते हैं कि अगर आप उनसे इंश्योरेंस नहीं खरीदेंगे तो आपको कैशलेस गैराज की सुविधा नहीं मिलेगी या फिर वे कहते हैं कि कार की कीमत में ही इंश्योरेंस की रकम भी शामिल है और यह आपको कार के साथ मुफ्त दी जा रही है. जबकि यह सच नहीं है.

भारतीय बीमा नियामक प्राधिकरण (आईआरडीएआई) ने इस संबंध में नियम बनाए हैं और कोई भी डीलर आपको कैशलेस सुविधा देने से इनकार नहीं कर सकता, अगर आपके बीमाधारक ने उससे इस संबंध में समझौता किया हो. यहां तक कि कार की वारंटी भी बीमा कंपनी द्वारा की जाती है और डीलर की इसमें कोई भूमिका नहीं होती है कि वारंटी में क्या कवर होगा या क्या कवर नहीं होगा.

एड ऑन पैकेज का भी बाजार

माथुर ने बताया, “कई बार ऐसा देखा गया है कि डीलरशिप से इंश्योरेंस करवाने पर बिना जरूरत वाले एड ऑन पैकेज भी ग्राहकों को थमा दिए जाते हैं, जबकि उसकी जरूरत और प्रयोग अलग होती है. उदाहरण के लिए कोई व्यक्ति अगर बाढ़ प्रभावित/संभावित इलाके में नहीं रहता है तो उसे बीमा में इंजन प्रोटेक्टर एड ऑन लेने की जरूरत नहीं है. इसी प्रकार से की और लॉक रिप्लेसमेंट को इंश्योरेंस में शामिल करने पर उसकी लागत बढ़ जाती है, जबकि कई ग्राहक इसे कवर नहीं करवाना भी पसंद करेंगे. डीलरशिप पर इस तरह का विकल्प ग्राहकों को नहीं मिल पाता है.”

उन्होंने कहा, “जब आप खुद या आपके परिवार के सदस्य गाड़ी चलाने वाले हैं तो पेड ड्राइवर लीगल लाइबिलिटी कवर बीमा में शामिल करवाने की कोई जरूरत नहीं है. इसी प्रकार से अगर आप या आपके परिवार के सदस्य के पास पर्याप्त पर्सनल एक्सिडेंट बीमा पॉलिसी या आकस्मिक अक्षमता के साथ जीवन बीमा पॉलिसी है तो कार पॉलिसी के साथ अन-नेम्ड पैसेंजर कवर लेने की जरूरत नहीं है.”

समझ लें नो क्लेम बोनस का गणित

कार डीलर से कार का बीमा खरीदने से पहले एक और महत्वपूर्ण कारक पर आपको ध्यान देना चाहिए कि डीलर आपको ‘नो क्लेम बोनस’ (एनसीबी) का लाभ नहीं देगा, जो बीमाकर्ता क्लेम नहीं लेने पर बीमे की रकम में छूट देते हैं. लगातार पांच साल तक क्लेम नहीं लेने पर यह छूट 50 फीसदी तक मिलती है.

माथुर ने कहा, “कुछ डीलर अपने यहां से इंश्योरेंस रिन्यूअुल में छूट का ऑफर देते हैं और कहते हैं कि उनके यहां से इंश्योरेंस खरीदने पर यह ऑफर मिलेगा, जबकि यह ऑफर इंश्योरेंस कंपनी देती है न कि डीलर, इसलिए आप जहां से भी इंश्योरेंस खरीदेंगे एनसीबी का लाभ जरूर मिलेगा. यहां तक कि आप किसी दूसरी कंपनी का भी इंश्योरेंस खरीदते हैं तो भी आपको एनसीबी का लाभ मिलेगा.”

कार खरीदने का आपके पास एक ही विकल्प है कि आप डीलर से खरीदें, लेकिन कार इंश्योरेंस खरीदने का आपके पास कई विकल्प हैं, इसलिए इसे खरीदने से पहले इस बारे में आप पर्याप्त शोध कर लें. कौन सा इंश्योरेंस आपको लेना चाहिए, किस कंपनी का बेहतर ऑफर है। इससे आप कम कीमत में ही सही इंश्योरेंस खरीद सकेंगे.

इंश्योरेंस कैसे करवाएं?
ऐसे में सवाल यह उठता है कि नया कार खरीदने के बाद जब तक कार आपके पास नहीं आती है, उससे पहले उसका इंश्योरेंस कैसे करवाएं. पहली बार इंश्योरेंस खरीदने वालों के लिए यह एक कठिन सवाल है, जबकि वास्तविकता यह है कि इसकी प्रक्रिया काफी आसान है. आपको केवल यह करना है कि अपने डीलर से इंजन, चेसिस नंबर, खरीद तिथि और आरटीओ की जानकारी ले लें. इतना विवरण इंश्योरेंस पॉलिसी लेने के लिए पर्याप्त है. एक बार इंश्योरेंस खरीद लेने पर आप उसका विवरण कार डीलर को दे सकते हैं, जिसके बाद वह आपके कार का आरटीओ में रजिस्ट्रेशन करवाएगा.

कार खरीदते समय यह जरूर ध्यान रखें कि इंश्योरेंस विकल्पों का ऑनलाइन पता लगाएं और ज्यादा से ज्यादा बचत करें. यहां तक कि आप पारंपरिक तरीके से इंश्योरेंस खरीद रहे हैं, फिर भी एक बार ऑनलाइन सर्च जरूर कर लें, ताकि आपको पता चले कि बीमा की सही कीमत कितनी होनी चाहिए. साथ ही आप कई सारे गैर-जरूरी एडऑन को भी हटा सकेंगे और पैसों की बचत कर सकेंगे.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. डीलर की बजाय आॅनलाइन खरीदें कार इंश्योरेंस, 35 हजार रुपये तक हो सकती है बचत

Go to Top