सर्वाधिक पढ़ी गईं

National Youth Day: युवाओं के लिए भी स्वास्थ्य बीमा जरूरी, इन गलतफहमियों का न हों शिकार

National Youth Day 2021: बचत के साथ-साथ युवाओं को स्वास्थ्य बीमा के महत्व और फायदों के बारे में जागरुक होना भी जरूरी है.

Updated: Jan 12, 2021 1:40 PM
insuranceInsurance. Representational Image

National Youth Day 2021: 20 से 25 की उम्र जिंदगी का बेहद रोमांचक मोड़ होता है. इस उम्र में हम अपना करियर प्लान करते हैं, कई आकांक्षाएं, लक्ष्य होते हैं. एक ओर कई खर्चे होते हैं और दूसरी ओर कुछ युवाओं पर स्टूडेंट लोन का बोझ. व्यक्ति को अपनी युवावस्था से ही फाइनेंशियल प्लानिंग पर फोकस्ड हो जाना चाहिए. बचत के साथ-साथ युवाओं को स्वास्थ्य बीमा के महत्व और फायदों के बारे में जागरूक होना भी जरूरी है. स्वास्थ्य बीमा आप पर मेडिकल इमरजेन्सी में खर्चे का बोझ कम रखने में मदद करता है, साथ ही इसे लेने का एक फायदा यह भी है कि इस पर आयकर कानून के सेक्शन 80D के तहत डिडक्शन क्लेम किया जा सकता है.

युवाओं को स्वास्थ्य बीमा के फायदे जानने के साथ-साथ इससे जुड़ी कुछ गलतफहमियों से दूर रहना भी जरूरी है. इस राष्ट्रीय युवा दिवस पर हम आपको बता रहे हैं ऐसी ही कुछ गलत धारणाओं के बारे में …

युवाओं को स्वास्थ्य संबंधी जटिलताएं नहीं होतीं, इसलिए स्वास्थ्य बीमा को बाद के लिए टाला जा सकता है.

यह सच है कि स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं उम्र बढ़ने के साथ-साथ बढ़ती हैं. लेकिन यह नहीं माना जा सकता कि युवाओं को स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होंगी ही नहीं. आधुनिक जीवन और जीवनशैली में तेजी से बदलाव आ रहा है. साथ ही इससे जुड़े तनाव और चुनौतियां भी सामने आ रहे हैं. कोई भी अब बीमारियों और उम्र का संबंध नहीं बना सकता है.

एक तथ्य यह भी है कि एक्सीडेंट जैसी घटना किसी भी उम्र में हो सकती है. ऐसे में भी स्वास्थ्य बीमा कवर देता है. युवा और स्वस्थ होने के बावजूद स्वास्थ्य बीमा लेना इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि जैसे-जैसे उम्र बढ़ेगी, स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं बढ़ सकती हैं और तब बीमा मिलना मुश्किल हो जाएगा. अगर बीमा मिल भी जाता है तो इसके कुछ दायरे होंगे और प्रीमियम हाई होगा.

अक्सर युवा ये मानकर चलते हैं कि वे सिंगल और युवा हैं, इसलिए उनके लिए स्वास्थ्य बीमा प्राथमिकता नहीं है.

वैवाहिक स्थिति चाहे जो हो, स्वास्थ्य बीमा महत्वपूर्ण है. ज्यादातर बीमा प्लान ऐसे होते हैं, जिनमें जीवन की बदलती जरूरतों के अनुरूप बदलाव किया जा सकता है. जैसे कि अगर आपने शादी से पहले स्वास्थ्य बीमा करवा लिया है तो शादी के बाद कवर में बदलाव कराया जा सकता है और आप अपने जीवनसाथी को भी इसमें शामिल कर सकते हैं. इसके अलावा अगर आपके मात-पिता आप पर निर्भर हैं तो फैमिली फ्लोटर प्लान से उन्हें भी कवर किया जा सकता है.

Budget 2021: सेक्शन 80C और 80TTA की बढ़े लिमिट, करदाताओं के लिए इन राहतों की दरकार

कंपनियां भी अपने इंप्लॉई का बीमा कराती हैं, इसलिए युवाओं को अलग से स्वास्थ्य बीमा लेने की जरूरत नहीं है.

कोई कंपनी आपको आपको केवल तब तक बीमा कवर उपलब्ध कराती है, जब तक आप उसके कर्मचारी हैं. जब आप कंपनी छोड़ते हैं तो कवर भी छूट जाता है. साथ ही कंपनी की स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी के साथ कुछ प्रतिबंध लागू रहते हैं जैसे लिमिटेड सम इंश्योर्ड. कंपनी की पॉलिसी के साथ-साथ व्यक्ति को अपने व अपने परिवार के लिए अलग से स्वास्थ्य बीमा कराना भी जरूरी है. इससे नौकरी बदलने या छूटने पर भी आपके पास बीमा उपलब्ध रहेगा. यह न भूलें कि व्यक्तिगत हेल्थ प्लान्स को अपनी व परिवार की जरूरत के हिसाब से खरीदा जा सकता है लेकिन कंपनी का बीमा उसके नियमों के अनुरूप ही होगा.

 

By: पंकज वर्मा, हेड- अंडरराइटिंग, SBI जनरल इंश्योरेंस

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. National Youth Day: युवाओं के लिए भी स्वास्थ्य बीमा जरूरी, इन गलतफहमियों का न हों शिकार

Go to Top