मुख्य समाचार:

डाउन मार्केट में ‘अनलॉक’ रखें SIP, थोड़ी बदलें स्ट्रैटजी तो होगा फायदा

कहते हैं कि जब बाजार में बड़ी गिरावट आती है तो रैली भी उतनी ही ज्यादा आती है. ऐसे में गिरते हुए बाजार में हमेशा निवेश के बेहतर अवसर होते हैं.

Published: June 29, 2020 12:53 PM
mutual fund investors alert, do not lock your SIP in down market, change some SIP strategy for better return, SIP Top Up, pause SIP, best strategy for SIP, mutual fund investment, top funds for SIPकहते हैं कि जब बाजार में बड़ी गिरावट आती है तो रैली भी उतनी ही ज्यादा आती है. ऐसे में गिरते हुए बाजार में हमेशा निवेश के बेहतर अवसर होते हैं.

कहते हैं कि जब बाजार में बड़ी गिरावट आती है तो रैली भी उतनी ही ज्यादा आती है. ऐसे में गिरते हुए बाजार में हमेशा निवेश के बेहतर अवसर होते हैं. फिलहाल जब बाजार में कोविड 19 को लेकर कुछ दबाव है, बेहतर है कि पैसा एक मुश्त निवेश करने की बजाए सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान यानी SIP के जरिए लगाएं. एक्सपर्ट का भी कहना है कि अभी जो स्थिति है, SIP लॉकडाउन करने बजाए अनलॉक रखें. वहीं बाजार में आगे जब जब गिरावट आए, इसे टॉप अप करा दें. उनका कहना है कि कोई भी गिरावट स्थाई नहीं बल्कि साअक्लिक होती है. इसलिए एक बार अर्थव्यवस्था पटरी पर आएगी तो बाजार में जोरदार रैली देखने को मिल सकती है.

गिरने के बाद उठता है बाजार

केस 1

9 जवरी 2008 से 9 मार्च 2009
ड्यूरेशन: 14 महीने
सेंसेक्स 20870 के स्तर से 8160 के स्तर तक आया
गिरावट: 61%

9 मार्च से 5 नवंबर 2010
ड्यूरेशन: 20 महीने
सेंसेक्स 8160 के स्तर से 21005 के स्तर तक चढ़ा
तेजी: 157%

केस 2

3 मार्च 2015 से 11 फरवरी 2016
ड्यूरेशन: 11 महीने
सेंसेक्स 29449 के स्तर से 22552 के स्तर तक गिरा
गिरावट: 22%

11 फरवरी 2016 से 29 जनवरी 2018
ड्यूरेशन: 24 महीने
सेंसेक्स 22552 के स्तर से 36283 के स्तर तक चढ़ा
तेजी: 58%

कैसे बनाएं स्ट्रैटेजी

BPN फिनकैप कंस्लटेंट्स प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्‍टर एके निगम का कहना है कि मौजूदा समय में निवेशकों को अपनी SIP रोकने या बंद करने की बजाए जारी रखनी चाहिए. गिरावट में कई अच्छे म्यूचुअल फंड काफी सस्ते भाव पर आ गए हैं. ऐसे में यूनिट बढ़ाने का अच्छा मौका है. लेकिन ध्यान रहे कि निवेया का लक्ष्य लंबा रखना होगा. बाजार में भी अब रिकवरी आने लगी है और मार्च के लो से बाजार काफी सुधर चुका है. वहीं जब भी आगे बाजार में गिरावट आए, एसआईपी को टॉप अप करा लेना चाहिए. यह सही है कि अभी भी अनिश्चितता बनी हुई है, लेकिन यहां से बाजार के सुधरने की उम्मीद है.

उम्र के हिसाब से चुनें फंड

उनका कहना है कि 25 से 30 साल या 35 साल के इन्वेस्ट हैं तो मल्टीकैप और मिड एंड स्मालकैप फंड में लंबे समतय के लिए दांव लगा सकते हैं. वहीं अगर उम्र ज्यादा है तो अभी लॉजैकैप और मल्टीकैप बेहतर विकल्प हैं. लॉर्ज एंड मिडकैप में भी अच्छे फंड चुन सकते हैं.

शॉर्ट टर्म का लक्ष्य है तो

1 साल का लक्ष्य: लो ड्यूरेशन फंड
2 साल का लक्ष्य: कॉरपोरेट बांड
3 साल का लक्ष्य: शॉर्ट ड्यूरेशन फंड

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. डाउन मार्केट में ‘अनलॉक’ रखें SIP, थोड़ी बदलें स्ट्रैटजी तो होगा फायदा

Go to Top