सर्वाधिक पढ़ी गईं

मुद्रा स्कीम: शिशु लोन लेने वालों को 1500 करोड़ की राहत, 12 महीने तक ब्याज पर 2% मिलेगी छूट

मुद्रा स्कीम के तहत शिशु लोन लेने वालों को सरकार ने कोविड 19 के चलते बड़ी राहत दी है.

Updated: May 14, 2020 5:48 PM
Mudra Scheme, big relief announcement to loan takers through mudra, shishu loan in mudra, 1500 cr rs relief to shishu loan takers, how can take benefit of mudra scheme, 2% interest rebate till 12 month, lockdown, COVID-19मुद्रा स्कीम के तहत शिशु लोन लेने वालों को सरकार ने कोविड 19 के चलते बड़ी राहत दी है.

मुद्रा स्कीम के तहत शिशु लोन लेने वालों को सरकार ने कोविड 19 के चलते बड़ी राहत दी है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने ऐलान किया कि मुद्रा स्कीम के तहत शिशु लोन लेने वालों को 12 महीने तक सरकार ब्याज में 2 फीसदी तक छूट देगी. इससे करीब 3 करोड़ लोन लेने वालों के कुल 1500 करोड़ रुपये बचेंगे. बता दें कि इस स्कीम के तहत अपना कारोबार शुरू करने के लिए सरकार कम दरों पर लोन उपलब्ध कराती है. इस स्कीम में 3 श्रेणी में लोन दिए जाते हैं.

अबतक 1.62 ​करोड़ का लोन

वित्त मंत्री के अनुसार मुद्रा स्कीम के तहत अबतक 1.62 करोड़ रुपये का लोन बाटा जा चुका है. ब्याज छूट का 3 करोड़ लोगों को इससे लाभ मिलने वाला है. इससे उनके करीब 1500 करोड़ रुपयों की बचत होगी.

50 हजार से 10 लाख तक का लोन

मुद्रा योजना के तहत 50 हजार से 10 लाख तक का लोन मिल जाता है. इसमें 3 तरह के लोन होते हैं. शिशु लोन के तहत 50,000 रुपये तक का लोन मिलता है. किशोर लोन के तहत 50 हजार से 5 लाख रुपये तक का लोन और तरुण लोन के तहत 5 लाख से 10 लाख रुपये तक का लोन दिया जाता है.

क्या है सरकार का उद्देश्य

सरकार की मुद्रा योजना का उद्देश्य है कि देश के युवा उद्यमी बनने की दिशा में अपना कारोबार शुरू कर सकें, साथ ही इसके जरिए ज्यादा से ज्यादा रोजगार भी उपलब्ध हो सके. हैं. पहला, स्वरोजगार के लिए आसानी से लोन देना. दूसरा, छोटे उद्यमों के जरिए रोजगार का सृजन करना.

पहले अगर कारोबार शुरू करने के लिए लोन के लिए जाते थे तो कई बैंकों में इसकर प्रक्रिया बहुत जटिल थी, जिस वजह से इसमें देरी होती थी. गारंटी के बिना बैंक भी लोन देने से मना करते थे. लेकिन मुद्रा योजना में बिना गारंटी के लोन मिलता है. लोन के लिए प्रोसेसिंग चार्ज का प्रावधान भी नहीं है. इसमें लोन चुकाने की समय सीमा को भी 5 साल तक के लिए बढ़ाया जा सकता है.

कौन ले सकता है लोन?

कोई भी देश का नागरिक जो अपना कारोबार शुरू करना चाहता है, योजना के तहत आवेदन कर सकता है.

कहां से मिलता है लोन?

1. देश के सभी सरकारी बैंकों को सरकार ने इसके लिए अधिकृत किया है.

2. प्राइवेट बैंक जिसमें एक्सिस बैंक, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, सिटी यूनियन बैंक, डीसीबी बैंक, फेडरल बैंक, इंडस इंड बैंक, जम्‍मू एंड कश्‍मीर बैंक, कर्नाटक बैंक, करूर वैश्‍य बैंक, कोटक महिंद्रा, नैनीताल बैंक, साउथ इंडियन बैंक और यस बैंक व आईडीएफसी बैंक शामिल हैं।

3. रूरल बैंक

4. कोऑपरेटिव बैंक

5. नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनियों और माइक्रो फाइनेंस कंपनियों से भी मुद्रा लोन ले सकते हैं.

ये है पूरी डिटेल….https://www.mudra.org.in/Offerings

लोन पर ब्याज दरें

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत कोई निश्चित ब्याज दर नहीं हैं. अलग—अलग बैंक या वित्तीय संस्थाएं अलग ब्याज दर वसूल सकते हैं. आम तौर पर न्यूनतम ब्याज दर 12 फीसदी ही है.

कैसे मिलेगा लोन?

मुद्रा योजना के तहत लोन के लिए आपको सरकारी या बैंक की शाखा में आवेदन देना होगा. अगर आप खुद का कारोबार शुरू करना चाहते हैं तो आपको मकान के मालिकाना हक़ या किराये के दस्तावेज, काम से जुड़ी जानकारी, आधार, पैन नंबर सहित कई अन्य दस्तावेज देने होंगे. बैंक मैनेजर वेरिफिकेशन के बाद लोन मंजूर करता है.

अधिक जानकारी के लिए इस वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं: https://www.mudra.org.in/

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. मुद्रा स्कीम: शिशु लोन लेने वालों को 1500 करोड़ की राहत, 12 महीने तक ब्याज पर 2% मिलेगी छूट

Go to Top