मुख्य समाचार:

विदेश की यात्रा करने के पहले इस तरह से करें फाइनेंशियल प्लानिंग, होगी बचत

यदि आप किसी विदेशी स्थान की यात्रा करने के बारे में सोच रहे हैं तो 2018 इसके लिए उचित साल है क्योंकि अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये का मूल्य 64 से 65 रुपये के आसपास स्थिर बना हुआ है, और आपकी विदेश की यात्रा का खर्च 2017 की तुलना में काफी कम हो सकता है।

April 12, 2018 5:43 PM
foreign trips, how to save money, how to save money on foreign trip, how to save moneyआवश्यक रकम का अनुमान लगाते समय, आपको विदेशी मुद्रा विनिमय दर में होने वाले परिवर्तनों पर भी ध्यान देना चाहिए।

यदि आप किसी विदेशी स्थान की यात्रा करने के बारे में सोच रहे हैं तो 2018 इसके लिए उचित साल है क्योंकि अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये का मूल्य 64 से 65 रुपये के आसपास स्थिर बना हुआ है, और आपकी विदेश की यात्रा का खर्च 2017 की तुलना में काफी कम हो सकता है। वीज़ा फीस और ट्रेवल इंश्योरेंस जैसे कुछ खर्च ऐसे खर्च हैं जिनमें कटौती नहीं की जा सकती है लेकिन पहले से ही इसकी योजना
बनाकर और समय पर कुछ वित्तीय निर्णय लेकर आप तनाव मुक्त यात्रा का आनंद उठा सकते हैं। यहाँ हम आपको 2018 में विदेश की सैर के लिए वित्तीय दृष्टि से तैयार रहने के लिए कुछ उपाय बताने जा रहे हैं।

जितनी जल्दी हो सके उतनी जल्दी शुरुआत करें पहले से ही विदेश की सैर की योजना बना लेने से, आपको अपनी यात्रा के सभी खर्चों के लिए पैसे बचाने और एक अच्छी खासी रकम जमा करने के लिए पर्याप्त समय मिल जाता है। सबसे पहले, सम्पूर्ण यात्रा के लिए खर्च का अनुमान लगाएं, जिसमें फ्लाईट की टिकट, होटल में ठहरने, दर्शनीय स्थलों के भ्रमण, खेलकूद और अन्य क्रियाकलाप, इत्यादि से लेकर पर्यटन स्थलों, पासपोर्ट फीस, वीज़ा शुल्क और अन्य विविध खर्च तक हर चीज का विवरण शामिल होना चाहिए।

इससे आपको यह पता लगाने में मदद मिलेगी कि आप अपने अनुमानित बजट के आधार पर कितने दिन ठहरना चाहेंगे। अपनी सम्पूर्ण बजट का पता लगा लेने के बाद, यात्रा के लिए आवश्यक रकम को महीनों की संख्या से विभाजित करें ताकि आपको हर महीने बचाने लायक आवश्यक रकम का पता चल सके। उदाहरण के लिए, यदि आपका कुल बजट 2 लाख रु. है और आप 10 महीने बाद यात्रा पर जाना चाहते हैं तो वांछित रकम जुटाने के लिए आपको हर महीने 20,000 रु. बचाना चाहिए। यदि आप 1 साल बाद जाना चाहते हैं तो आप बैलेंस्ड फंड्स, शॉर्ट टर्म डेब्ट फंड या रिकरिंग डिपोजिट में निवेश कर सकते हैं।

मुद्रा विनिमय दरों की जानकारी रखें

आवश्यक रकम का अनुमान लगाते समय, आपको विदेशी मुद्रा विनिमय दर में होने वाले परिवर्तनों पर भी ध्यान देना चाहिए। उदाहरण के लिए, यदि आपने अनुमान लगाया है कि आपको विदेश की यात्रा में खर्च करने के लिए 2000 अमेरिकी डॉलर की जरूरत पड़ेगी और उस समय विदेशी मुद्रा विनिमय दर 64 रु. प्रति डॉलर था तो इसका मतलब है कि आपको 1,28,000 रु. की जरूरत है। लेकिन 6 महीने में इस दर में उतार-चढ़ाव होने की संभावना है और यह 67 रु. प्रति डॉलर तक पहुँच सकता है जिससे उस समय आपको 1,34,000 रु. की जरूरत पड़ेगी और इसलिए ऐसी परिस्थिति में आपके पास खर्च करने लायक कुछ अतिरिक्त रकम होनी चाहिए।

जल्द से जल्द परिवहन और आवास सम्बन्धी बुकिंग कर लें

विदेशी यात्रा का सबसे बड़ा खर्च, विमान का किराया है, और इसे आपको एक बार में ही देना पड़ता है। बहुत अधिक विमान किराया दरों से बचने के लिए जितनी जल्दी हो सके उतनी जल्दी, हो सके तो 6 महीने पहले से ही, फ्लाईट वगैरह की बुकिंग कर लें। सबसे अच्छा सौदा पाने के लिए होटल की बुकिंग भी पहले से ही करके रखें। होटल में पहुंचकर या चेकआउट करते समय भुगतान करने के विकल्प के साथ होटल रूम की बुकिंग करने की कोशिश करें, इससे आपको आपातकालीन परिस्थिति में अपनी योजना में परिवर्तन करने में आसानी होगी। सबसे अच्छा सौदा पाने के लिए विभिन्न ट्रेवल पोर्टलों में होटल सम्बन्धी सौदों की तुलना करें।

सही खर्च साधन चुनें

विदेश की यात्रा करते समय भुगतान करने के लिए आपके पास कई विकल्प मौजूद हैं जैसे क्रेडिट कार्ड, इंटरनेशनल डेबिट कार्ड, प्रीपेड कार्ड, मल्टी-करंसी कार्ड और कैश। प्रत्येक विकल्प के साथ तरह-तरह की सुविधा मिलती है, इसलिए अपनी यात्रा योजना के आधार पर अपने लिए सही विकल्प चुनें। प्रीपेड कार्ड का इस्तेमाल करना बेहद आसान है क्योंकि इसमें पैसे डालने में बड़ी आसानी होती है और
आपको पैसे ले जाने के अन्य तरीकों की तुलना में छूट प्राप्त विनिमय दर का लाभ मिल सकता है। लेकिन सावधान रहें, नकद पैसे निकालने के लिए जितनी बार प्रीपेड कार्ड का इस्तेमाल किया जाता है, उतनी बार इस पर बैंक के नियमों के अनुसार मुद्रा रूपांतरण शुल्क या अन्य शुल्क लगता है। इसे पॉइंट ऑफ़ सेल (POS) काउंटरों पर स्वाइप करने पर आम तौर पर कोई शुल्क नहीं लगता है। इसी तरह इंटरनेशनल क्रेडिट
या डेबिट कार्ड सम्बन्धी लेनदेनों पर, एक निर्धारित दर पर मुद्रा रूपांतरण शुल्क लगता है, जो लेनदेन मूल्य का लगभग 2.5% से 3.5% हो सकता है। यदि एक देश, नकद भुगतान पर अधिक निर्भर रहता है तो उस देश में नकद पैसे ही ले जाएं ताकि रूपांतरण शुल्क के नाम पर आपको वहां ज्यादा पैसे गंवाने न पड़े।

ट्रेवल इंश्योरेंस लें

यदि आप किसी ऐसे अनजान देश में जा रहे हैं जहाँ आपातकालीन परिस्थिति में आपको बचाने के लिए आपके संपर्क वाला कोई व्यक्ति नहीं है तो आपकी वित्तीय सुरक्षा की दृष्टि से एक ट्रेवल इंश्योरेंस लेना आपके लिए बहुत जरूरी है। ट्रेवल इंश्योरेंस से, कुछ ख़ास परिस्थितियों में काफी मदद मिलती है जैसे फ्लाईट रद्द करना, यात्रा योजना में परिवर्तन, चेक्ड इन लगेज का गुम होना, किसी ख़ास या आपातकालीन परिस्थिति
में जगह खाली करना और विदेश में अप्रत्याशित चिकित्सा खर्च के लिए सहायता। यदि आप शेनजेन देशों और कुछ अन्य पश्चिमी देशों की यात्रा पर जा रहे हैं तो ट्रेवल इंश्योरेंस लेना जरूरी है लेकिन उन देशों में यात्रियों द्वारा इसे अक्सर अनदेखा कर दिया जाता है जहाँ यह अनिवार्य नहीं है। आपको इसके द्वारा कवर किए जाने वाले जोखिमों की सूची और उस देश में इसकी सेवा की उपलब्धता की जांच कर लेनी चाहिए जिस देश की यात्रा करने की योजना आप बना रहे हैं। इन बातों को ध्यान में रखते हुए अपनी मनवांछित यात्रा की योजना बनाएं और बिना किसी तनाव के
अपनी यात्रा का आनंद उठाएं।

(इस लेख के लेखक आदिल शेट्टी Bankbazaar.com के CEO हैं।)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. विदेश की यात्रा करने के पहले इस तरह से करें फाइनेंशियल प्लानिंग, होगी बचत

Go to Top