सर्वाधिक पढ़ी गईं

IPO लिस्टिंग में हुआ है नुकसान? निवेश से पहले इन बातों का ध्यान रखना है बेहद जरूरी, फायदे में रहेंगे

निवेशकों को किसी आईपीओ में निवेश से पहले DRHP को ठीक से समझ लेना चाहिए. इस बात पर ध्यान दें कि कंपनी IPO से जुटाई जा रही धनराशि का इस्तेमाल कहां करेगी.

November 25, 2021 12:23 PM
Lost money in recent IPO listing? Here’s a 5 step checklist to decide whether to apply for an IPOज्यादातर लोग जरूरी रिसर्च किए बिना ही आईपीओ में निवेश कर देते हैं, जिसकी वजह से उन्हें नुकसान उठाना पड़ता है.

IPO: हाल ही में आईपीओ की लिस्टिंग और फिर शेयर में गिरावट के चलते लाखों निवेशकों को नुकसान हुआ है, जिसे लेकर सोशल में भी काफी चर्चा है. ज्यादातर लोग जरूरी रिसर्च किए बिना ही आईपीओ में निवेश कर देते हैं, जिसकी वजह से उन्हें नुकसान उठाना पड़ता है. यहां हमने आपको कुछ चीजें बताई हैं, जो आपको आईपीओ के लिए आवेदन करने से पहले देखनी चाहिए. निवेशकों को अपने अपनी रिसर्च के आधार पर निवेश करना चाहिए न कि बाजार में चल रही बातचीत और अफवाहों के आधार पर. अपनी रिसर्च के ज़रिए आवेदन करने पर आपके निवेश में सफलता की संभावना बढ़ जाती है.

आईपीओ का उद्देश्य

जब कोई कंपनी पब्लिक होती है, तो उन्हें सेबी को रेड हेरिंग्स प्रॉस्पेक्टस (जिसे डीआरएचपी भी कहा जाता है) जमा करना होता है. इसमें आईपीओ के बारे में सभी जानकारियां शामिल होती हैं. आईपीओ के लिए आवेदन करने से पहले, निवेशकों को डीआरएचपी को ठीक से समझ लेना चाहिए. डीआरएचपी में इस बात पर ध्यान दिया जाना चाहिए है कंपनी आईपीओ से जुटाई जा रही धनराशि के साथ क्या करने की योजना बना रही है. अगर आईपीओ का मुख्य उद्देश्य अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाना और विस्तारित करना है, तो इसे आमतौर पर निवेश के नज़रिए से सकारात्मक माना जाता है. इसके अलावा, कंपनी के मौजूदा ऋण का भुगतान करना भी आईपीओ का उद्देश्य हो सकता है, जिसे सामान्य तौर पर निवेश के नज़रिए से अच्छा नहीं माना जाता.

ONGC के सबसे अहम फील्ड को निजी करने के प्रस्ताव पर मोदी सरकार पर निशाना, घाटे वाली कंपनी खरीदने और अधिक डिविडेंड ने पहले ही बिगाड़ी सेहत

कंपनी की वित्तीय स्थिति

कंपनी की वित्तीय स्थिति को समझना अहम है क्योंकि यह हमें कंपनी के भविष्य की संभावनाओं के बारे में बताता है. आपको यह चेक करना चाहिए कि कंपनी लाभ कमा रही है या नहीं? अगर यह घाटे में चल रही कंपनी है, तो उसके प्रमोटरों को कब इसके मुनाफे में आने की उम्मीद है? भविष्य में कंपनी किस तरह की ग्रोथ की उम्मीद करती है? आईपीओ का मूल्य निर्धारण कैसा है – ओवरवैल्यूड या अंडरवैल्यूड. यहां हमने बताया है कि आप कैसे पता लगा सकते हैं कि कंपनी का वैल्यूएशन कैसा है.

  • EPS रेश्यो (अर्निंग पर शेयर) = कंपनी के प्रॉफिट को उसके बकाया शेयरों से डिवाइड करना
  • P/E रेश्यो (प्राइस टू अर्निंग रेश्यो) = शेयर प्राइस को EPS से डिवाइड करना
  • PEG रेश्यो (प्राइस टू अर्निंग टू ग्रोथ रेश्यो) = P/E को EPS ग्रोथ से डिवाइड करना

हालांकि वैल्यूएशन को निर्धारित करने के लिए P/E रेश्यो का इस्तेमाल करना काफी आम है यानी P/E रेश्यो जितना ज्यादा होगा, यह ओवरवैल्यूड होगा. लेकिन अकेले P/E रेश्यो से इसे पूरी तरह नहीं समझा जा सकता है. कंपनी के पहले और भविष्य के विकास के कारण यह बहुत ज्यादा हो सकता है, जिस पर इसे वैल्यूएशन दिया जाता है. दूसरी ओर, PEG रेश्यो को स्टॉक के सही वैल्यूएशन का एक अच्छा इंडिकेटर माना जा सकता है. PEG रेश्यो अनुपात जितना कम होगा, इसका वैल्यूएशन उतना ही कम होता है.

Stock Tips: ये दो शेयर एक महीने में ही कराएंगे 11% की शानदार कमाई, शॉर्ट टर्म में निफ्टी की जारी रह सकती है कमजोरी

बिजनेस और संबंधित जोखिमों को समझना

कंपनी का बिजनेस मॉडल देखना जरूरी होता है. DRHP के ज़रिए आपको पता चलता है कि कंपनी क्या करती है, लंबे समय में उस बिजनेस की ग्रोथ की क्या संभावनाएं है और बिजनेस से जुड़े कुछ जोखिम क्या हैं. अगर आप कंपनी के बिजनेस को नहीं समझ पा रहे हैं, तो उस आईपीओ में निवेश से बचना बेहतर है.

कंपनी मैनेजमेंट और बैकग्राउंड

बिजनेस किनके द्वारा चलाया जा रहा है, इस पर एक अच्छा रिसर्च करना अहम है. क्योंकि वे ही हैं जो कंपनी से संबंधित सभी अहम निर्णय लेते हैं. आप उस व्यक्ति के कंपनी के साथ बिताए गए समय, पिछले प्रदर्शन, इंडस्ट्री एक्सपीरियंस आदि जैसी चीजों को देख सकते हैं.

पियर्स कंपैरिजन

कंपनी की वित्तीय स्थिति, पास्ट ग्रोथ, भविष्य की संभावनाओं आदि की तुलना उससे संबंधित अन्य कंपनियों से करना चाहिए. निवेशकों को यह चेक करना चाहिए कि अतीत में अन्य कंपनियों का प्रदर्शन कैसा रहा और लंबे समय में उनके शेयर की कीमत कैसी रही.

(By Ashish Gupta, a delta-neutral volatility-based option trader)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. IPO लिस्टिंग में हुआ है नुकसान? निवेश से पहले इन बातों का ध्यान रखना है बेहद जरूरी, फायदे में रहेंगे
Tags:IPO

Go to Top