मुख्य समाचार:

1 सितंबर से नई कार/बाइक लेना होगा महंगा, एक साथ 3/5 साल का इंश्योरेंस लेना अनिवार्य

1 सितंबर से अगर नई कार और टू व्हीलर खरीदते हैं तो इसके लिए 3 साल और 5 साल का इंश्योरेंस कवर लेना जरूरी होगा. इरडाई ने लॉन्ग टर्म इंश्योरेंस कवर 1 सितंबर से सभी पॉलिसी पर अनिवार्य कर दिया है.

August 30, 2018 5:16 PM
motor insurance, car, bike, long term insurance policy, 1 september, IRDAI, supreme court, नई कार और टू व्हीलर, इंश्योरेंस कवर1 सितंबर से अगर नई कार और टू व्हीलर खरीदते हैं तो इसके लिए 3 साल और 5 साल का इंश्योरेंस कवर लेना जरूरी होगा. इरडाई ने लॉन्ग टर्म इंश्योरेंस कवर 1 सितंबर से सभी पॉलिसी पर अनिवार्य कर दिया है. (Reuters)

1 सितंबर से अगर नई कार और टू व्हीलर खरीदते हैं तो इसके लिए 3 साल और 5 साल का इंश्योरेंस कवर लेना जरूरी होगा. इस बारे में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद इंश्योरेंस रेग्युलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी आॅफ इंडिया (IRDAI) ने लॉन्ग टर्म इंश्योरेंस कवर 1 सितंबर से अनिवार्य कर दिया है. जनरल इंश्योरेंस कंपनियों को इस बारे में निर्देश भी दिया है.

हर साल रीन्यू कराने से छुटकारा
सुप्रीम कोर्ट ने 20 जुलाई को आदेश दिया था कि नई कार के लिए थर्ड-पार्टी इंश्योरेंस कवर 3 साल और टू-वीलर्स के लिए 5 साल के लिए होगा। अब इसे सभी पॉलिसीज पर लागू किया जा रहा है. माना जा रहा है कि लॉन्ग टर्म के लिए प्रीमियम पेमेंट करने से नई गाड़ी की शुरुआती कीमत ज्यादा हो जाएगी, लेकिन इससे हर साल इंश्योरेंस रीन्यूअल कराने से छुटकारा मिल जाएगा।

इरडाई ने नई कार और टू व्हीलर के लिए 3 आॅप्सन दिए हैं.
— स्टैंडअलोन 3/5 साल पर सिर्फ थर्ड पार्टी
—पैकेज 3/5 साल (इसमें 3/5 साल के लिए टीपी और एक्सिडेंट कवर शामिल है)
—बंडल्ड 3/5 साल (इसमें 3/5 साल के लिए टीपी और 1 साल का एक्सिडेंट कवर शामिल है)

क्या कहते हैं जानकार
ACKO जनरल इंश्योरेंस के प्रमुख (प्रोडक्ट हेड) अनिमेष दास ने कहना है कि बीमा कंपनी ग्राहक को सभी तीनों आॅप्शन आॅफर कर सकती है. हालांकि, एक साल व्हीकल एक्सीडेंट (OD) पार्ट के बंडल्ड आॅप्शन को लेना बेहतर रहता है क्योंकि यह आपकी नई कार के डैमेज को भी कवर करता है. स्टैंडअलोन टीपी पॉलिसी लेने में प्रीमियम कम होता है लेकिन आपको व्हीकल डैमेज होने का कवर नहीं मिलता है. ऐसे में व्हीकल चोरी होने या एक्सीडेंट के चलते व्हीकल डैमेज होने की स्थिति में बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है.

क्या आ रही थी दिक्कत
असल में गाड़ियों के लिए इंश्योरेंस अनिवार्य होने के बाद भी बहुत से लोग इसे रीन्यू नहीं करा रहे थे। गाड़ी पुरानी होने पर उसकी वैल्यू कम होने के चलते बहुत से लोग या तो इसे सालाना आधार पर रीन्यू नहीं कराते थे या फिर ऐसी पॉलिसी खरीदते थे, जो सभी तरह के रिस्क को कवर नहीं करती थी।

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. 1 सितंबर से नई कार/बाइक लेना होगा महंगा, एक साथ 3/5 साल का इंश्योरेंस लेना अनिवार्य

Go to Top