मुख्य समाचार:

सेविंग्स अकाउंट जैसी इस स्कीम में बैंक FD से ज्यादा रिटर्न, चेक करें 5 साल में 1 लाख के निवेश की वैल्यू

Liquid Mutual Funds: सेविंग्स अकाउंट में ज्यादातर लोग पैसे इसलिए रखते हैं कि उनका पैसा एक तय समय के लिए ब्लॉक न हो.

January 20, 2020 4:09 PM
liquid mutual fund, liquid fund Vs bank savings account, bank FD, fixed deposit interest rate, debt mutual fund, should you invest in liquid funds, top liquid funds return, सेविंग्स अकाउंट, लिक्विड फंड, म्यूचुअल फंड, डेट फंडLiquid Mutual Funds: सेविंग्स अकाउंट में ज्यादातर लोग पैसे इसलिए रखते हैं कि उनका पैसा एक तय समय के लिए ब्लॉक न हो.

Invest In Liquid Mutual Funds: सेविंग्स अकाउंट में ज्यादातर लोग पैसे इसलिए रखते हैं कि उनका पैसा एक तय समय के लिए ब्लॉक न हो. जरूरत पड़ने पर वे कभी भी पैसा निकाल लें या जमा कर दें. आमतौर पर बैंक हों या पोस्ट ऑफिस, सेविंग्स अकाउंट पर ज्यादातर जगह 3.5 फीसदी से 4 फीसदी के ही बीच ब्याज मिल रहा है. यह बढ़ती हुई महंगाई को देखते हुए बेहद कम नजर आता है. इसकी तुलना में बैंक एफडी बेहतर है, लेकिन इसमें आपका पैसा एक तय समय के लिए यानी मेच्योरिटी पीरियड तक ब्लॉक हो जाता है. हालांकि म्यूचुअल फंड की एक स्कीम है, जो सेविंग्स अकाउंट की ही तरह है और इसमें अगर मिलने वाले रिटर्न की तुलना करें तो बैंक अकाउंट से डबल है. यह स्कीम है डेट सेग्मेंट की लिक्विड म्यूचुअल फंड स्कीम.

क्या हैं लिक्विड फंड

लिक्विड फंड डेट फंड होते हैं जो शॉर्ट टर्म फिक्स्ड इंटरेस्ट जेनरेटिंग मनी मार्केट इंस्ट्रूमेंट्स मसलन ट्रीजरी बिल, कमर्शियल पेपर, गवर्नमेंट सिक्युरिटीज, सर्टिफिकेट ऑफ डिपॉजिट और दूसरे डेट इंस्टू्मेंट्स में निवेश करते हैं. ये ऐसे फंड होते हैं, जिनमें 91 दिन तक मेच्योरिटी पीरियड यानी छोटी अवधि के लिए भी निवेश किया जा सकता है. इनमें जोखिम भी तुलना में कम होता है. सभी डेट फंड में लिक्विड फंड का रिटर्न ज्यादा स्टेबल रहा है. लिक्विड फंडों पर ब्‍याज दर के उतार-चढ़ाव का जोखिम सबसे कम होता है क्‍योंकि ये शॉर्ट टर्म मेच्‍योरिटी वाले फिक्‍स्‍ड इनकम सिक्‍युरिटीज में निवेश करते हैं.

लिक्विड फंड स्कीम से पैसा निकालना आसान

किसी स्कीम से पेसा निकालना उस स्कीम के एग्जिट लोड पर निर्भर करता है. पहले तो लिक्विड फंड पर कोई एग्जिट लोड नहीं था. लेकिन हाल ही में इसमें कुछ बदलाव हुए हैं. इन स्कीम पर 7 दिन के बाद एग्जिट लोड ना के बराबर हैं. इसलिए जरूरत पर इनमें से पैसा निकालना बेहद आसान है. जरूरत पर लिक्विड फंड को एक दिन के अंदर ही कैश कराया जा सकता है. वैसे भी इसमें मेच्योरिटी पीरिएड कम रहने से जरूरत पड़ने पैसे निकाल सकते हैं. इसीलिए जानकार इसे सेविंग्स अकाउंट की तरह मानते हैं.

एफडी की तरह रिटर्न दे रहे हैं फंड

फ्रैंकलिन इंडिया लिक्विड फंड

5 साल का रिटर्न: 7.48 फीसदी
3 साल का रिटर्न: 7.06 फीसदी
5 साल में 1 लाख की वैल्यू: 1.43 लाख
मिनिमम इनवेस्टमेंट: 10,000 रुपये

बड़ौदा लिक्विड डायरेक्ट फंड

5 साल का रिटर्न: 7.45 फीसदी
3 साल का रिटर्न: 7.00 फीसदी
5 साल में 1 लाख की वैल्यू: 1.42 लाख
मिनिमम इनवेस्टमेंट: 5,000 रुपये

निप्पनॉन इंडिया लिक्विड फंड

5 साल का रिटर्न: 7.42 फीसदी
3 साल का रिटर्न: 7.00 फीसदी
5 साल में 1 लाख की वैल्यू: 1.42 लाख
मिनिमम इनवेस्टमेंट: 100 रुपये

Axis लिक्विड फंड

5 साल का रिटर्न: 7.39 फीसदी
3 साल का रिटर्न: 6.97 फीसदी
5 साल में 1 लाख की वैल्यू: 1.42 लाख
मिनिमम इनवेस्टमेंट: 500 रुपये

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. सेविंग्स अकाउंट जैसी इस स्कीम में बैंक FD से ज्यादा रिटर्न, चेक करें 5 साल में 1 लाख के निवेश की वैल्यू

Go to Top