मुख्य समाचार:
  1. 91 दिनों में FD जैसा रिटर्न! शॉर्ट टर्म निवेश के लिए चुनें म्युचुअल फंड की ये स्कीम

91 दिनों में FD जैसा रिटर्न! शॉर्ट टर्म निवेश के लिए चुनें म्युचुअल फंड की ये स्कीम

लिक्विड फंड में महज 91 दिनों में मिल रहा है 7.35 फीसदी तक रिटर्न

October 22, 2018 1:20 PM
mutual fund, liquid fund or bank deposit, लिक्विड फंड, bank FD, invest, return, म्युचुअल फंडलिक्विड फंड में महज 91 दिनों में मिल रहा है 7.35 फीसदी तक रिटर्न.

अगर अचानक से एकमुश्त पैसे आ जाएं और उस रकम की 3-4 महीने बाद जरूरत है तो आमतौर पर लोग उसे बैंक में रखना ही पसंद करते हैं. क्योंकि बैंक में लॉक इन पीरियड का झंझट नहीं है और उसे जरूरत पड़ते ही निकाल सकते हैं. लेकिन अगर ऐसा है तो बैंक डिपॉजिट से बेहतर विकल्प है लिक्विड फंड, जहां महज 91 दिनों में आप बैंक एफडी जैसा रिटर्न भी पा सकते हैं और अपने पैसे भी निकाल सकते हैं. एक्सपर्ट भी मानते हैं कि शॉर्ट टर्म निवेश के लिए डेट म्युचुअल फंड यानी लिक्विड फंड, बैंक डिपॉजिट से कहीं ज्यादा बेहतर विकल्प हो सकता है.

जहां ज्यादातर बैंकों में सेविंग्स अकाउंट पर सालाना 4 फीसदी और 1 साल से 5 साल की एफडी पर 7.5 फीसदी के आस पास ब्याज मिलता है. वहीं, लिक्विड फंड स्कीम में 91 दिन में 7.35 फीसदी तक ब्याज मिल रहा है. वहीं, इन फंड का एक साल का रिटर्न करीब 8 फीसदी है. यानी आप लिक्विड फंड में महज 3 महीने में अपनी बचत पर 1 साल की एफडी जैसा रिटर्न पा सकते हैं.

बेस्ट रिटर्न वाले फंड

फंड                                                    1 माह     3 माह     6 माह    1 साल

बड़ौदा पॉयोनियर लिक्विड Reg(G)    7.31%    7.33%   7.23%   7.93%
बड़ौदा पॉयोनियर लिक्विड(G)            7.31%    7.33%   7.23%   6.30%
एक्सिस लिक्विड फंड (G)                   7.24%   7.29%   7.22%   7.26%
BOI Axa लिक्विड फंड Reg(G)         7.21%    7.28%   7.22%   7.24%
HSBC कैश फंड (G)                           7.31%    7.35%   7.21%    7.22%

क्या है लिक्विड फंड

लिक्विड फंड डेट म्यूचुअल फंड हैं, जो गवर्नमेंट सिक्युरिटीज, सर्टिफिकेट ऑफ डिपॉजिट, ट्रेजरी बिल्स, कमर्शियल पेपर्स और दूसरे डेट इंस्टू्मेंट्स में निवेश करते हैं. ये ऐसे फंड होते हैं, जिनमें 91 दिन तक मेच्योरिटी पीरियड यानी छोटी अवधि के लिए भी निवेश किया जा सकता है. इनमें जोखिम भी कम होता है. लिक्विड फंड का दूसरा नाम है कैश फंड और इसका मकसद है – ज्यादा लिक्विडिटी, कम जोखिम और स्थिर रिटर्न.

कब करें लिक्विड फंड में निवेश

लिक्विड फंड में आमतौर पर 1 दिन से 3 महीने के लिए निवेश कर सकते हैं. यह बेहतर तब होता है, जब मान लीजिए कि आपको आॅफिस से बोनस मिला हो, 2 या 3 महीने बाद हॉलीडे प्लान किया हो और उसके लिए फंड बचाकर रखा हो, बच्चों की स्कूल फीस जमा करने से पहले आप इस फंड में रख सकते हैं. लिक्विड फंड्स ऐसे समय के लिए भी बेहतर होते हैं जबकि आपको अचानक से बड़ी रकम मिलती है.

लिक्विड फंडों के लाभ

1. सभी डेट फंड में लिक्विड फंड का रिटर्न ज्यादा स्टेबल रहा है.
2. जरूरत पर लिक्विड फंड को एक दिन के अंदर ही कैश कराया जा सकता है.
3. मेच्योरिटी पीरिएड शॉर्ट रहने पर जरूरत पड़ने पर जब चाहें, तब पैसे निकाला जा सकता है.
4. अगर आपके इनकम में कुछ भी इजाफा होता है तो उसे आप बैंक में रखने की बजाए स्कीम में निवेश कर सकते हैं.
5. आप निवेश करने के दूसरे दिन भी पैसे निकाल सकते हैं. पैसे भी आपको उसी दिन मिल जाएंगे. यानी आप एक हफ्ते के लिए भी अपने पैसों का निवेश यहां कर सकते हैं.
6. लिक्विड फंडों पर ब्‍याज दर के उतार-चढ़ाव का जोखिम सबसे कम होता है क्‍योंकि प्राथमिक रूप से ये अल्‍पावधि की मेच्‍योरिटी वाले फिक्‍स्‍ड इनकम सिक्‍युरिटीज में निवेश करते हैं.

ऐसे चुनें अच्छा फंड

फाइनेंशियल एडवाइजर फर्म बीपीएन फिनकैप के डायरेक्‍टर एके निगम के अनुसार लिक्विड फंड के रिटर्न में ज्‍यादा असमानता नहीं होती है क्‍योंकि सभी लिक्विड फंड एक ही तरह की सिक्‍युरिटीज में निवेश करते हैं. हालांकि, जब आप लिक्विड फंड में निवेश का निर्णय कर लेते हैं तो यह जरूर देखिए कि जिस लिक्विड फंड में आप निवेश करने का मन बना चुके हैं उसके फंड की साइज क्‍या है यानि उसका कॉर्पस कितना है और फंड हाउस का इतिहास कैसा रहा है.

 

Go to Top